Headline • ज्वैलरी शोरूम से 50 लाख के गहने लेकर फरार हुई महिलाएं, सीसीटीवी में कैद हुई वारदात• गाजियाबाद की वसुंधरा कॉलोनी में नहीं रुक रही हैं चोरी की घटनाएं, लॉकर तोड़कर नगदी और लैपटॉप ले उडे़• स्वामी अग्निवेश ने दी आरएसएस प्रमुख को मॉब लिंचिंग पर खुली बहस की चुनौती• SC-ST एक्ट के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 12 छात्रों के खिलाफ बीजेपी सांसद ने दर्ज कराई रिपोर्ट• लव, सेक्स एंड धोखा! दूसरे धर्म के युवक ने खुद को मराठी बताकर की शादी, न्याय के लड़की मुंबई से पहुंची मुरादाबाद• महिला के नहाते समय फोटो खींचने पर बवाल, दो पक्षों के बीच जमकर चले लाठी-डंडे, कई घायल• रानीखेत में भारत और अमेरिकी सैनिकों ने किया आतंकवादियों के खात्मे का संयुक्त अभ्यास• मायावती ने की घोषणा, छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी से गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी बसपा• मैच के बाद पाक कप्तान ने कहा, हम भुवनेश्वर की गेंदों को समझ नहीं पाए• 13 वर्षीय लड़की की जघन्य हत्या के बाद बनारस के एक इलाके में पुलिस के खिलाफ जबर्दस्त रोष• बिग बॉसः जसलिन ने सिंगल बेड लिया तो बगल वाला बेड लेने पहुंच गए अनूप जलोटा• प्रेम विवाह के तीन साल बाद ससुराल पहुंचा, शाम से कोई खोजखबर नहीं... दो दिन बाद मिली लाश•  फौजी के घर पर दबंगों ने किया कब्जा, शिकायत करने पहुंचा तो थानेदार ने थाने से भगाया• नई सरकार आने के बाद भी नहीं बदला पाक सेना का रवैया, बीएसएफ जवान के शव से की बर्बरता, आंख निकाली• मुलायम के पोते तेजप्रताप ने माना, शिवपाल के अलग होने से लोकसभा चुनाव की संभावना पर पड़ेगा प्रभाव• आयुष्मान की 'बधाई हो' का 'बधाईयां तैनू' रिलीज, हंस-हंस कर लोटपोट हो जाएंगे आप• शिक्षा विभाग को नहीं पता अटलजी का जन्म कब हुआ था, स्कूली किताब में गलत डेट डाली• कन्नौज : किशोरी की रेप के बाद हत्या, मनचले के डर से छोड़ दी थी पढ़ाई• रायबरेली के लाल ने किया कमाल, प्री रीजनल मैथमेटिक्स ओलंपियाड में हुआ चयन• अपने हक की लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगी मुस्लिम महिलाएं, सायरा ने पीएम मोदी के प्रति जताया आभार• 'सड़क-2' का ट्रेलर रिलीज,फिर एक साथ दिखेंगे संजय दत्त और पूजा भट्ट• मौसा ने बनाया नाबालिग को अपनी हवस का शिकार, मौसी से मिलने आई थीं लड़की• पाकिस्तान पर भारत की शानदार जीत के बाद जश्न का माहौल, भुवी के घर पर जमकर हुआ नृत्य• कफन का तिरंगा ओढ़कर न्याय के लिए कलक्ट्रेट में धरने पर बैठीं शहीद की विधवा  • पुलिस ने निर्दोष युवक को किया गिरफ्तार,फिर जेल भेजने के लिए खुद तैयार की जहरीली शराब,वीडियो वायरल !

 यूपी मिशन 2017: ‘चुनाव में गठबंधन नहीं करेगी बीएसपी’

यूपी में अगले साल होनेवाले विधानसभा चुनाव की तैयारियों को लेकर बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने रविवार को लखनऊ में बैठक की। इस बैठक में पार्टी नेताओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। मायावती ने आरोप लगाया कि केवल वोट के लिए समाजवादी पार्टी और बीजेपी मिलकर कैराना का मुद्दा उछाल रही है ताकि अपने अपने हिसाब से हिंदू- मुस्लिम वोटों का बंटावार वो कर सकें।

मायावती ने केंद्र सरकार को भी आडे हाथों लिया। इस बैठक में कांग्रेस के दो और समाजवादी पार्टी के एख बाग़ी विधायक ने हिस्सा लिया।

रविवार को लखनऊ में हुई बीएसपी की बैठक में राज्यसभा सांसदों, विधायकों, ज़िलाध्यक्षों, विधानसभा क्षेत्रों के प्रमुखों और ज़ोनल कॉर्डिनेटरों ने बढ़ चढ़ कर हिस्सा लिया। बैठक में मायावती ने चुनावी तैयारियों का जायज़ा लिया। इसके बाद पार्टी सुप्रीमो ने सपा और बीजेपी पर आरोपों की झड़ी लगा दी। उन्होंने आरोप लगाया कि केवल अपने फायदे के लिए दोनों पार्टियां कैराना से हिंदुओं के कथित पलायन को मुद्दा बना रही हैं।

मायावती ने आरोप लगाया कि चार सालों के कार्यकाल के दौरान समाजवादी पार्टी और दो सालों के दौरान मोदी की सरकार ने सूबे के किसानों, मुसलमानों, दलितों, पिछड़ों और ग़रीबों की सुध नहीं ली। केवल अपने परिवार और अपने क्षेत्र के लिए काम करते रहे। माया ने दावा किया कि जनता में इनकी पोल खुल चुकी है। इस बार उनकी यानी बीएसपी की सरकार बनेगी। चुनावी तैयारियों पर संतोष जताते हुए मायावती ने ये भी कहा कि इस बार वो सर्व समाज पर फोकस कर रही हैं।वही पार्टी नेताओं को संगठन को जमीनी स्तर पर मज़बूत करने के निर्देश दिए है

बैठक में कांग्रेस के रायबरेली के तिलोई से विधायक डॉ. मुस्लिम और बुलंदशहर के स्याना से विधायक दिलनवाज खान भी मौजूद थे। इसके अलावा समाजवादी पार्टी के विधायक श्याम प्रकाश भी बैठक में मौजूद रहे श्याम प्रकाश हरदोई से विधायक हैं। माना जा रहा है कि देर सवेर इनके पार्टी में सामिल होने की घोषणा हो सकती है। साथ ही पार्टी सुप्रीमो उन कार्यकर्ताओं को पद देकर उत्सहित कर सकती हैं, जो दिलो जान से पार्टी के लिए दिन रात एक किए हुए हैं।

संभावना जताई जा रही है कि मायावती संगठन में भारी फेरबदल भी करनेवाली हैं। चुनाव लड़नेवाले नेताओं को संगठन से दूर किया जाएगा ताकि वो अपना पूरा ध्यान चुनाव पर लगा सकें।

 देश के नौजवान तय करें कौन है पढ़ा-लिखा: स्मृत‌ि ईरानी

लखनऊ : केंद्रीय मानव संसाधन एवं विकास मंत्री स्मृति ईरानी आज राजधानी लखनऊ पहुंचीं। यूथ इन एक्शन द्वारा भारतीय शिक्षा पद्धति में राष्ट्रदर्शन विषय पर व्याख्यान देने पहुंची स्मृति ईरानी ने इस दौरान छात्रों के साथ सीधा संवाद किया।

इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान में आयोजित भारतीय शिक्षा पद्धति में राष्ट्रदर्शन विषय पर व्याख्यान देने पहुंची स्मृति ईरानी ने कहा कि प्रदेश में महिलाओं की स्थिति बेहद खराब है। उन्होंने कहा महिलाओं की सुरक्षा युवाओं को करनी होगी, यदि कोई सड़क पर किसी महिला को छेड़े तो युवा छात्र ढाल बनकर उसकी रक्षा करें।

इसके अलावा उन्होंने बताया कि दो माह के अंतराल में मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय स्वयं नाम का एक मोबाइल ऐप शुरू कर रहा है जिसके ज़रिये छात्र नौवीं से लेकर उच्च शिक्षा की डिग्री ग्रहण कर सकेंगे, इसके लिए देश भर में करीब एक लाख सेंटर खोले जायेंगे। इन सेंटरों में मात्र 500 रुपये जमा कर परीक्षा देनी होगी।

उन्होंने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में यह एक क्रांतिकारी कदम होगा। साथ ही छात्रों की सुविधा के लिए सभी संस्थानों को आदेश दिया गया है की 180 दिन के अंदर डिग्री उपलब्ध करायी जाए।

स्मृति ईरानी छात्रों को संबोधित कर ही रही थीं कि इंदिरा गांधी प्रतिष्ठान की बिजली चली गयी। स्मृति ईरानी ने चुटकी लेते हुए कहा कि मुझे लगा था चुनाव के दौरान बिजली गायब की जायेगी और माइक बंद किया जायेगा लेकिन इसका शंखनाद तो आज से ही हो गया।

व्याख्यान के दौरान छात्रों द्वारा भारत माता के जयघोष करने पर स्मृति ने कहा कि यह जयघोष सुनकर जेएनयू के उन छात्रों का दिल दहला ज़रूर होगा जो भारत की बर्बादी के नारे दे रहे थे।

सीएम अखिलेश ने कैराना मुद्दे पर बोला बीजेपी पर हमला

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक कार्यक्रम के तहत सूबे के मेधावी छात्र-छात्राओं को सम्मानित किया। यह कार्यक्रम सूबे की राजधानी लखनऊ के इंदिरा गाँधी प्रतिष्ठान में आयोजित हुआ। इस मौके पर सीएम अखिलेश यादव ने यूपी में विकास के कार्यो को गिनाया और कहा कि यूपी में सबसे जयादा विकास समाजवादी सरकार ने किया है। छात्र-छात्राएं के लिए नौकरी के लिए भी सबसे जयादा कोशिश सपा सरकार कर रही है।यहाँ पर मेट्रो और आईआईटी और आगरा एक्सप्रेस का काम समाजवादी सरकार ने किया है। हमने सबसे पहले छात्रों को लेपटॉप बांटने का कार्य यूपी किया।

सीएम अखिलेश ने मायावती पर निशाना साधते हुए कहा कि, कुछ सरकार तो सिर्फ पत्थरों की सरकार थी और उस सरकार के जो हाथी बैठे थे और बैठे रह गए और जो हाथी खड़े है वो खड़े रह गए।

वहीं सीएम ने बीजेपी पर भी चुटकी लेते हुए कहा कि बीजेपी ने कूड़े से बिजली बनाने की बात यूपी में कही थी और जब कूड़ा से बिजली नहीं बना पए तब उन्होंने कहा की कूड़ा उत्तम क्वालटी का नहीं है। इसलिए बिजली नहीं बन पाई।

सीएम ने कहा, जनता पढ़ी-लिखी है। वह जाती है किस सरकार ने विकास के क्या-क्या कार्य किए हैं।

वहीं सीएम ने कैराना मामले में कहा कि बीजीपी के पास कोई मुद्दा नहीं है इसलिए वो कैराना के मामले को हवा दे रही है। बीजीपी के लोग झूठे हैं। इनके जो बड़े नेता है उनलोगों ने पहले भी मुजफ्फरनगर में माहौल ख़राब किया था । फिर इन लोगों ने दादरी में भी माहौल ख़राब किया। अब कैराना का माहौल ख़राब करने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, कैराना मामले की जाँच की जा रही है जल्द ही रिपोर्ट आ जाएगी उसके बाद कानूनी कार्यवाई की जाएगी।

दो दिनों के लखनऊ दौरे पर गुलाम नबी आज़ाद, कांग्रेस पदाधि‍कारि‍यों के साथ करेंगे बैठक

यूपी कांग्रेस के नए प्रभारी बनने के बाद गुलाम नबी आज़ाद पहली बार गुरुवार को लखनऊ आ रहे हैं। पार्टी सदस्य जोर-शोर से अपने नेता के स्वागत की तैयारी में जुटी है।

इस दौरे में वे प्रदेश कांग्रेस के सभी संगठन के प्रभारि‍यों के साथ बैठक करेंगे। चुनावी रणनीति‍यों पर चर्चा करने के साथ संगठन को और भी मजबुत करने पर जोर देंगे।

पार्टी सदस्यों ने गुलाम नबी आज़ाद के स्वागत में एयरपोर्ट से लेकर कांग्रेस कार्यालय और कांग्रेस कार्यालय से लेकर गांधी भवन तक के रास्ते में झण्डियां, बैनर और जगह जगह भव्य गेट तैयार कर दिए हैं।

सबसे पहले गुलाम नबी आज़ाद यूपी के पार्टी कार्यालय में जाएंगे, वहां पार्टी के नेताओं से मिलेंगे।

माना जा रहा कि गुलाम नबी आज़ाद के इस दौरे में ही कांग्रेस के नए अध्यक्ष, सीएलपी लीडर और चुनाव प्रभारी का ऐलान भी किया जा सकता है।

दो दिन के अपने लखनऊ दौरे से पहले गुलाम नबी आज़ाद ने दिल्ली में राहुल गांधी से मुलाकात की। जिसमे उन्होंने राहुल गांधी के साथ यूपी की नई कांग्रेस टीम को लेकर भी महत्त्वपूर्ण चर्चा की है।

मायावती का बीजेपी को मुहंतोड़ जवाब, कैराना मामले को बताया बीजेपी की साजिश

इलाहाबाद में बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी में लगाए गए आरोपों का बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मुंहतोड़ जवाब दिया है। मायावती ने आरोप लगाया कि विधानसभा चुनाव से पहले कैराना से हिंदुओं के पलायन की झूठी ख़बरें फैलाकर बीजेपी राज्य में सांप्रदायिक उन्माद पैदा करना चाहती है ताकि इसका फायदा वो चुनाव में लूट सके।

मायावती ने तंज़ कसा कि असम में मिली जीत की ख़ुशी में करोड़ों रुपए पानी की तरह बहाने वाली मोदी और बीजेपी सरकार अगर इसका थोड़ा सा भी हिस्सा बदहाल किसानों पर ख़र्च की होती तो आज ना तो किसान आत्महत्या करते और ना ही पलायन करते।

राजधानी लखनऊ में प्रेस काॅफ्रेंस कर मायावती ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि धनबल और बाहुबल के प्रदर्शन के बाद भी विधानपरिषद और राज्यसभा के चुनावों में मिली हार से बीजेपी तिलमिला गई है। मायावती ने आरोप लगाया है कि चुनावी साल में कैराना की झूठी अफवाह फैलाकर बीजेपी राज्य में हिंदू और मुस्लिम के बीच दंगे कराना चाहती है।

मायावती ने कहा कि कैराना से पलायन कोई नई घटना नहीं है। बीजेपी केवल इस पर सांप्रदायिक रंग चढ़ा रही है। जबकि हक़ीक़त ये है कि ग़रीबी और भूखमरी से तंग आकर इलाक़े के लोग रोज़ी-रोज़गार के लिए पलायन के लिए मजबूर हुए हैं। ये सिलसिला तब से चल रहा है, जब यूपी में कांग्रेस और बीजेपी की सरकारें हुआ करती थीं और आज समाजवादी की सरकार में भी यही हो रहा है।

मायावती ने बीजेपी के साथ-साथ समाजवादी पार्टी पर भी हमला बोला। माया ने फिर आरोप लगाया कि प्रदेश में गुंडों और माफियाओं की सरकार है। इस सरकार में प्रदेश में अपराधियों का बोलबाला है। मायावती ने चुनौतीभरे अंदाज़ में कहा कि बेहतर होता कि संगम किनारे बैठकर घड़ियाली आंसू बहाने की जगह नरेंद्र मोदी की सरकार प्रदेश सरकार को बर्खास्त कर राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाती।

मायावती ने बीजेपी की सलाह दी कि अब अपनी कमजोरी और विफलताओं पर पर्दा डालने के लिए सांप्रदायिकता का चोला पहनना बंद करे। क्योंकि उसकी इस घिनौनी राजनीति से होनेवाले दंगों में हिंदू या मुसलमान नहीं मारे जाते बल्कि मासूम लोगों का ख़ून बहता है। मायावती ने ये भी कहा कि दूसरों पर मिलीभगत का आरोप लगानेवाली बीजेपी ख़ुद प्रदेश में पर्दे के पीछे समाजवादी पार्टी से मिली हुई है।

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: