Headline • सपना चौधरी ने ऐसे सेलिब्रेट किया अपना बर्थडे, तस्वीरें और वीडियो वायरल• बकाया पैसा देने के बहाने युवती को घर बुलाया फिर 3 महीने तक करता रहा यौन शोषण, पुलिस नहीं कर रही मदद• पति पर दर्ज हुई सरकारी जमीन कब्जाने की रिपोर्ट तो सभासद ने दी आत्महत्या की धमकी • ‘बाजार’ का ट्रेलर रिलीज, दमदार लुक में नजर आएं सैफ अली खान • भारतीय मूल की मॉडल का खुलासा, 16 वर्ष की थी तो उसके दोस्त ने रेप की कोशिश की थी• सऊदी अरब में मालिक के अत्याचार से हरदोई के युवक की मौत, लाश लाने के लिए पत्नी ने लगाई गुहार• अखिलेश के साथ मंच क्या शेयर किया, शिवपाल  समर्थक हो गए मुलायम से नाराज, पोस्टरों से हटाई तस्वीर• शमशेर सिंह बिष्ट ने कभी भी सत्ता के साथ कोई समझौता नहीं किया, श्रद्धांजलि सभा में बोले लोग• कॉमेडी क्वीन भारती सिंह की सेहत में हुआ सुधार, अस्पताल से शेयर किया ये वीडियो• फिर विधायक सुरेंद्र सिंह के विवादित बोल, कहा-भारत में रहने वाले सारे मुसलमान परिवर्तित हिन्दू हैं• बरेली: विधायक पप्पू भरतौल ने सीएम से की एसएसपी की शिकायत, सच्चाई जानने बरेली पहुंच रहे हैं सुनील बंसल• औलख का करारा जवाब, कहा-एसआईटी रिपोर्ट आने की आहट से ही बौखला गए हैं आजम • आज हो सकती है पूर्व विधायक योगेश वर्मा की रिहाई, रासुका हटने के बाद रिहाई का रास्ता साफ• SC के फैसले का बसपा सुप्रीमो मायावती ने किया स्वागत,जानें क्या कहा...• सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला : बैंक अकाउंट और मोबाइल से आधार लिंक करना जरूरी नहीं• सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला,SC/ST को प्रमोशन में आरक्षण नहीं • मेरठ में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़,10 हजार का इनामी बदमाश घायल• नोएडा पुलिस की गाजियाबाद में रेड,कुख्यात बदमाश अमित भूरा चला रहा था अवैध शराब की फैक्ट्री• गाजियाबाद : युवती की हत्या कर शव को तेजाब से जलाया• पूर्व कांग्रेसी सांसद दिव्या ने पीएम मोदी पर किया आपत्तिजनक ट्वीट, FIR दर्ज • नोएडा : पीएनबी में दो गार्डों की हत्या कर लूट का प्रयास करने वाले बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़, तीन गिरफ्तार• हमीरपुर : कंस वध जुलूस के दौरान दो समुदाय आपस में भिड़े, छावनी में तब्दील हुआ इलाका, 300 से ज्यादा पर FIR दर्ज• दलित किशोरी को अगवा कर गैंगरेप की कोशिश, हैवानों से लड़कर थाने पहुंचीं और रिपोर्ट दर्ज कराई• लुटेरी फैमिली गिरफ्तार, महिलाएं करती हैं गैंग का नेतृत्व, ज्वेलरी शॉप से उड़ाए थे 50 लाख के गहने• सांसद बालियान के प्रतिनिधि की आंख में मिर्च झोंककर लूट करने वाले बदमाश गिरफ्तार 

यौन शोषण मामले में आरोपी आसाराम की फिर जमानत याचिका खारिज

जोधपुर: नाबालिग लड़की से यौन शोषण मामले में आसाराम बापू की जमानत याचिका को आज फिर जोधपुर सेशन कोर्ट ने खारिज कर दिया है। आसाराम नाबालिग से रेप के आरोप में जेल में बंद है। बता दें कि, जोधपुर सेशन कोर्ट ने आसाराम की छठी बार जमानत याचिका ठुकराई है। शनिवार को आसाराम की जमानत याचिका पर बीजेपी नेता और वकील सुब्रमण्यन स्वामी पैरवी कर रहे थे।

स्वामी ने ट्वीट कर कहा था कि आसाराम को जमानत मिलना मुश्किल है, लेकिन मैं कोशिश करूंगा


आसाराम की याचिका पर शुक्रवार को एक घंटे तक सुनवाई हुई जिसके बाद अतिरिक्त जिला और सेशन जज मनोज कुमार व्यास ने फैसला शनिवार तक सुरक्षित रख लिया था। दलीलों के बाद स्वामी ने उम्मीद जताई थी कि अदालत उनके मुवक्किल आसाराम को जमानत दे देगी, पर ऐसा नहीं हो पाया। 

भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने दलील दी थी कि पूरे मामले को गढ़ा गया है और आसाराम जमानत पर रिहा होने के हकदार हैं। आज सेशन जज मनोज ने फैसला सुनाते हुए कहा कि इस तरह के अपराध में आरोपी जमानत का हकदार नहीं होता है।


उधर, आसाराम की जमानत याचिका को विरोध करते हुए अभियोजन पक्ष के वकील का कहना है कि अदालत को फैसला करने से पहले पीडि़ता की उम्र सहित इस कथित अपराध की परिस्थितियों पर ध्यान देना चाहिए।

सुब्रमण्यन स्वामी ने कहा था कि अगर आसाराम की जमानत याचिका खारिज होती है, तो वे इसके लिए हाईकोर्ट में अपील करेंगे। उन्होंने कहा कि आसाराम के खिलाफ गैर-धार्मिक ताकतों ने झूठे आरोप लगाए हैं और पूरा मामला परिस्थितिजन्य साक्ष्यों पर आधारित है

बेल याचिका का विरोध करते हुए अभियोजन पक्ष के वकील पीसी सोलंकी ने कहा था कि अदालत को फैसला करने से पहले पीड़िता की उम्र सहित इस कथित अपराध की परिस्थितियों पर ध्यान देना चाहिए।

सुब्रमण्यन स्वामी जोधपुर जाकर 23 अप्रैल को आसाराम से मिले थे और उनके केस में पैरवी का वादा किया था। 

गौरतलब है कि, आसाराम की इससे पहले दो जमानत याचिकाएं निचली अदालत ने खारिज कर दी थीं। उन्होंने जमानत के लिए दो बार उच्च न्यायालय का रूख किया था लेकिन वहां भी उन्हें नाकामी ही हाथ लगी।एक बार उच्चतम न्यायालय से भी उनको कोई राहत नहीं मिली।


आसाराम बाबू सितंबर, 2013 में गिरफ्तारी के बाद से जेल में बंद हैं। उन पर आरोप है कि उन्होंने आश्रम में एक नाबालिग लड़की के साथ बलात्कार किया है।

अजमेर दरगाह के दीवान की अपील: योग दिवस में बढ़- चढ़कर शामिल हों मुस्लिम

अजमेर: सूफी संत हजरत ख्वाजा मोईनुद्दीन हसन चिश्ती के दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने योग का समर्थन किया है। उन्होंने देश के मुसलमानों से 21 जून को अंतरराष्ट्रीय योग दिवस में ज्यादा से ज्यादा संख्या में शामिल होने की अपील की है।

दीवान आबेदीन का कहना है कि,  भारत सरकार द्वारा 21 जून को आयोजित अंतरराष्ट्रीय योग दिवस सफल बनाने के लिए एक साथ कई लोगों के योग करने से इसे गिनीज बुक आॅफ वल्र्ड रिकाॅर्ड में दर्ज कराने की पूरी कोशिश है। ऐसे में योग को लेकर तरह-तरह के बयान जो दिए जा रहे हैं उनकों नजरअंदाज करके सभी मुसलमान योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बढ़- चढ़कार हिस्सा लें और इसे कामयाब बनाएं।

दरगाह दीवान सैयद जैनुल आबेदीन अली खान ने मंगलवार को जारी बयान में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल पर सयुंक्त राष्ट्र सहित समूचा विश्व 21 जून को योग दिवस मनाने की की तैयारियों में जुटा हुआ है।, जो भारत के लिए सम्मानजनक की बात है।

दीवान ने कहा कि योग को शारीरिक व्यायाम की तरह देखना चाहिए। इसे किसी धर्म से जोड़ना गलत है। कट्टर पंथी संगठन योग को लेकर कई तरह के भ्रम फैलाकर मजहबों के बीच विवाद उत्पन्न कराने की कोशिश कर रहे हैं।

दीवान ने मोदी के अंतरराष्ट्रीय योग दिवस की तारीफ करते हुए कहा कि वे देश में सेक्युलरिज्म के लिए प्रतिबद्ध हैं। पीएम के योग दिवस के निर्णय से ये संदेश गया है कि वे देश में सभी मजहब के लोगों की भावनाओं की कद्र करते हैं।

दरगाह के  दीवान ने कहा , योग हमारी भागदौड़ भरी जिंदगी में ताजगी और स्वस्थ रहने में बेहद महत्वपूर्ण है। योग  से मधुमेह, अस्थ्मा और हदयरोग जैसी गंभीर बीमारियां बिना दवाईयों और उपचार के कंट्रोल की जा सकती हैं।

राजस्थान: बारातियों से भरी बस पर बिजली का हाईटेंशन तार गिरने से 25 की मौत

जयपुर: राजस्थान के टोंक जिले में शुक्रवार को बारात ले जा रही एक बस बिजली के हाईटेंशन तार की चपेट में आ गई। इस हादसे में 25 लोगों की मौत को गई, जबकि 20 से अधिक लोग घायल हो गए।

बताया जा रहा है कि बस जिले के बछेरा से मोरला गांव जा रही थी। बस में 50 से अधिक लोग सवार थे। बस जैसे ही सांस गांव के करीब पहुंची हाईटेंशन तार की चपेट में आ गई। इस हादसे में घायल हुए करीब 35 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कुछ घायलों की हालत गंभीर बनी हुई है।

राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने दुर्घटना पर शोक व्यक्त करते हुए अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के एक दल को घटनास्थल की ओर रवाना किया है। सरकार ने मृतकों के परिजनों को 10 लाख का मुआवजा देने की घोषणा की है।

इस घटना पर पीएम नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करके दुख जताया है। उन्होंने लिखा है कि वह मृतकों के परिवारों के प्रति अपनी संवेदना जाहिर करते हैं। वहीं, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने भी दुख प्रकट किया है।

बारात की बस के चपेट में आने से ग्रामीणों में जबरदस्त नाराजगी है। ग्रामीणों का कहना है कि बिजली विभाग को कई बार ढीले तारों की सूचना दी गई है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। अगर समय रहते बिजली विभाग तारों की उंचाई सही कर देता तो दुर्घटना नहीं होती।


वसुंधरा सरकार का बड़ा प्रशासनिक फैसला, 83 पुलिस अफसरों के तबादले

जयपुर- वसुंधरा सरकार ने बड़े प्रशासनिक फैसले के तहत 83 पुलिस निरीक्षकों का तबादला किया हैं। इन अफसरों के तबादले रेंज से बाहर किए गए है। इनमें कोटा रेंज के 6 पुलिस निरीक्षक शामिल हैं। रेंज से बाहर ट्रांसफर करने का मतलब इन अफसरों की तैनाती अब उनके गृह जिले अथवा आसपास के जिलों में नहीं होगी।

आदेश के अनुसार गुमानपुरा थानाधिकारी राजेश मलिक का एटीएस, रामपुरा कोतवाली थानाधिकारी गजेन्द्र सिंह को पीटीएस जोधपुर, मकबरा थानाधिकारी राजेश बाफना को जोधपुर रेंज, मदनलाल को कोटा रेंज से जयपुर रेंज, गंगा सहाय शर्मा व अनिल कुमार पांडे को कोटा रेंज से अजमेर रेंज में लगाया गया है। वहीं प्रेमदान रत्नू को जोधपुर से, रामचंद्र सिंह व नरेन्द्र पारीक को अजमेर से, अशोक कुमार को जयपुर से, हीरालाल मीणा को उदयपुर से, रामानंद यादव को सीआईडी सीबी से और हेमंत गौतम को एसीबी से कोटा रेंज में लगाया गया है।

संघ प्रमुख भागवत की जेड सुरक्षा पर टिप्पणी के बाद बीजेपी प्रवक्ता ने दिया इस्तीफा

जयपुर: राजस्थान बीजेपी के प्रवक्ता कैलाश नाथ भट्ट को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मुखिया मोहन भागवत को मिली जेड सुरक्षा पर टिप्पणी करना महंगा पड़ गया।

भट्ट ने सोमवार को मोहन भागवत को मिली जेड सुरक्षा को लेकर सोशल साइट्स पर हैरानी जताई थी। जिसके बाद से विवाद उत्पन्न हो गया था। कई बीजेपी नेताओं ने टिप्पणी को अनुचित बताया था।


इसी के बाद भट्ट को इस्तीफा देना पड़ा और उन्हें अपने इस्तीफे का ऐलान बाकायदा फेसबुक पर किया। भट्ट ने कहा, "भागवत पर मेरी फेसबुक पोस्ट से पार्टी के अंदर और बाहर बहुत लोग आहत हुए इसलिए मैंने अपना इस्तीफा देने का फैसला किया।''

भट्ट ने राजस्थान पत्रिका से बातचीत में कहा कि उन्होंने संगठन हित में पद छोड़ा है। फेसबुक की वॉल का गलत इस्तेमाल हो सकता है। यदि वे इस्तीफा नहीं देते तो सोशल मीडिया साइट्स पर लिखने की गलत परम्परा पड़ जाती।

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: