Headline • एशिया कप में अफगानिस्तान ने श्रीलंका को हराकर सभी को चौकाया• राज्यपाल ने की योगी सरकार की प्रशंसा, कहा-डेढ़ साल में बहुत बेहतर हुई है कानून-व्यवस्था• कांग्रेसियों ने लोगों को लॉलीपॉप बांटकर पीएम की 557 करोड़ की योजनाओं का उड़ाया मजाक• इलाहाबाद ने नहीं निकलेगा मुहर्रम का जुलूस, ताजिएदारों ने गड्ढों के कारण लिया फैसला• लड़कियों से जबरन सेक्स करवाता था होटल का मैनेजर, रुद्रपुर में सेक्स रैकेट का खुलासा• बीजेपी विधायक लोनी पुलिस पर लगाया परिवार को परेशान करने का आरोप, पहले भी उठाया था मुद्दा• महज 4 साल की उम्र में करता है लाजवाब घुड़सवारी, दूर-दूर से आते हैं बच्चे के हुनर को देखने• पेट्रोल पम्प मैनेजर ने दिखाया साहस, ग्रामीणों के साथ मिलकर पकड़ा लूटकर भाग रहे एक बदमाश को• प्रदर्शन कर रहे सवर्ण समाज के लोगों से बीजेपी सांसद ने कहा, आप अकेले किसी को जीता नहीं सकते हो• तेज बुखार के चलते खाना बनाने से इनकार किया तो शौहर ने दे दिया तीन तलाक, सामूहिक में हुआ था निकाह• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' का पहला पोस्टर आया सामने, जबरदस्त लुक में नजर आएं अमिताभ बच्चन• छेड़खानी से क्षुब्द होकर लड़की ने की आत्महत्या, परिजनों की शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज, आरोपी फरार• महिला का साहस देख सभी दंग, मारपीट के दौरान दूसरी महिला को गिराकर हाथ से तमंचा छीन लिया• सीएम योगी ने कहा-अब आंखों का जटिल ऑपरेशन भी बीएचयू में होंगे• मुरादाबादः एक और बच्चा बना आदमखोर तेंदुए का निवाला, वन विभाग की सुस्ती से ग्रामीणों में रोष• जब डायल 100 की गाड़ी खड़ी कर जमकर नाचे पुलिस वाले, वीडियो वायरल• गोरखपुर जिला अस्पताल में न सेवा, न ही सुविधा, सोमवार को ही सीएम ने किया था निरीक्षण• निकाह के लिए अलग-अलग धर्म के प्रेमी युगल को पकड़ा, लड़की का धर्म परिवर्तन कराने का आरोप• उसे पुलिस ढूंढ रही थी लेकिन वह आया और हत्या कर चला गया, मेरठ की घटना से पुलिस पर सवाल• पीएम मोदी ने काशी को दी 557 करोड़ रुपए की योजनाओं की सौगात• BHU में बोले पीएम मोदी- काशी बनेगा पूर्वी भारत का दरवाजा,दिखने लगा बदलाव• BHU में सीएम योगी ने किया जनसभा को संबोधित, जानें क्या कहा...• वाराणसी : BHU पहुंचे पीएम मोदी, 557 करोड़ की योजनाओं की देंगे सौगात• सम्मेलन में खाने की मची लूट, राजबब्बर और गुलाम नबी आजाद के सामने भिड़े कांग्रेस कार्यकर्ता• कासगंज : पुरानी रंजिश में बदमाशों ने चाचा-भतीजे को मारी गोली,एक की मौत


इलाहाबादः हिन्दी की नामचीन कवियित्री महादेवी वर्मा की आज इक्तीसवीं पुण्यतिथि है। पुण्यतिथि के मौके पर महीयशी को श्रद्धांजलि देने के लिए आज देश भर में तमाम आयोजन हो रहे हैं, लेकिन महादेवी की कर्मभूमि इलाहाबाद में नगर निगम ने इस मौके पर उनके नाम से पचपन हजार रुपये बकाये का हाउस टैक्स का बिल जारी किया है।

इस बिल पर साफ़ तौर पर लिखा हुआ है कि अगर महादेवी वर्मा ने पंद्रह दिनों के अंदर पचपन हजार रुपये का भुगतान नहीं किया तो उसके बाद वसूली नोटिस और मकान के कुर्की की कार्रवाई की जाएगी।

नगर निगम के अफसरों ने यह कारनामा तब किया है, जब इसी साल फरवरी महीने में कुर्की का नोटिस जारी होने के बाद इलाहाबाद की मेयर उनके घर का हाउस टैक्स माफ करने का एलान कर चुकी हैं।

महादेवी के दुनिया छोड़ने के इकतीस साल बाद भी पुण्य तिथि के मौके पर उनके नाम से बिल और चेतावनी भेजे जाने से उनके परिवार वालों और साहित्य से जुड़े लोगों में खासी नाराज़गी है। इस पूरे मामले में नगर निगम के अफसर अब बैकफुट पर हैं और वह गलतबयानी कर अपनी कारगुजारियों पर पर्दा डालने की कोशिश में जुटे हैं।   

विद्या और ज्ञान की देवी सरस्वती के शहर इलाहाबाद से यूं तो देश के तमाम नामचीन साहित्यकारों का नाता रहा है, लेकिन इस शहर को ख़ास पहचान महाकवि निराला के साथ ही हरिवंश राय बच्चन और महीयशी महादेवी वर्मा के नाम से मिलती है। महादेवी वर्मा का जन्म वैसे तो यूपी के फर्रुखाबाद में हुआ, लेकिन उनका पूरा जीवन इलाहाबाद में बीता। यहीं उनकी पढ़ाई हुई।

यहीं उन्होंने अध्यापन का काम किया और इसी शहर में दीपशिखा समेत अपनी ज़्यादातर रचनाओं को कागजों पर उकेरा। 11 सितम्बर साल 1987 को इलाहाबाद के ही अशोक नगर मोहल्ले के के अपने मकान में उन्होंने आखि़री सांस ली थी। उनका अंतिम संस्कार भी इसी शहर में गंगा के घाट पर हुआ तो अस्थियों का विसर्जन गंगा यमुना और अदृश्य सरस्वती के त्रिवेणी संगम की धारा में। 

देश दुनिया में बहुतेरे लोग इलाहाबाद को आज महादेवी की कर्मभूमि की वजह से भी जानते हैं। यह अलग बात है कि जिस इलाहाबाद को महादेवी वर्मा ने एक अलग पहचान दिलाई, उस शहर ने सांसे थमने के बाद आधुनिक युग की साहित्यिक मीरा को वक्त के साथ भुला दिया।

इलाहाबाद के नगर निगम में न तो शहर में किसी जगह महादेवी वर्मा की मूर्ति लगवाई, न किसी सड़क या चौराहे का नामकरण किया और न ही उनके नाम पर कभी कोई आयोजन किये। यहां तब तो तब भी गनीमत रही, लेकिन नगर निगम ने देश की इस महान कवियित्री की मौत के इकतीस साल बाद उनकी पुण्यतिथि के दिन फिर से जो कारनामा किया है, उसने न सिर्फ साहित्य से जुड़े लोगों को गुस्से में भर दिया है, बल्कि महादेवी के परिवार वालों की आंख में आंसू भी भर दिए हैं। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: