Headline • मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह


आरबीआई ने नीतिगत दरों में नहीं किया बदलाव (2)  |  गुरुवार, 04 सितम्बर 2014 2014-09-04 14:09:15

नकद आरक्षी अनुपात (सीआरआर) में कोई बदलाव नहीं करते हुए इसे चार प्रतिशत पर रहने दिया। रिजर्व बैंक ने हालांकि स्टैट्यूटरी लिक्विडिटी रेशियो (एसएलआर) में 50 अंकों की कमी करते हुए इसे 22.5 प्रतिशत रखा। मौजूदा नीतिगत दरें इस प्रकार हैं : बैंक दर 9.0 प्रतिशत, रेपो दर 8.0 प्रतिशत, रिवर्स रेपो दर 7.0 प्रतिशत, मार्जिनल स्थायी सुविधा दर 9.0 प्रतिशत। ऎसा माना जा रहा है कि नई सरकार के गठन के बाद वित्त मंत्रालय से किसी तरह का निर्देश मिलने और आगामी बजट सत्र तक भारतीय रिजर्व बैंक के गर्वनर ने यथास्थिति कायम रखते हुए ये फैसले किए। राजन ने कहा, ""यदि अर्थव्यवस्था इसी तरह बनी रही तो भविष्य में नीतियों में सख्ती लाने की जरूरत नहीं प़डेगी। लेकिन यदि महंगाई में कमी अनुमान से तेज गति से आती है तो नीतियों में नरमी लाने में सुविधा होगी। राजन का इशारा खाद्य पदार्थो की कीमतों में तेज वृद्धि के कारण खुदरा महंगाई दर में मौजूदा बढ़ोतरी की ओर तथा रिजर्व बैंक के उस उद्देश्य की ओर था जिसमें कहा गया था कि अर्थव्यवस्था को महंगाई कम करने की दिशा में ले जाया जाएगा और मुद्रास्फीति को जनवरी, 2015 तक आठ प्रतिशत से घटाकर छह प्रतिशत पर लाने की कोशिश की जाएगी।

Media


:
:
: