Headline • 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज• बिहार में बच्चों के मरने का कारण सरकार लिची को क्यों बता रही • बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बने जे.पी. नड्डा • फिल्म आर्टिकल 15 को लेकर सुर्खियों में छाए रहे, आयुष्मान खुराना • लगातार दो शतक जड़ के शाकिब ने बांग्लादेश के लिए रचा इतिहास • एक बार फिर कथित लव-जिहाद का ममला सामने आया जाने पूरी खबर• बिहार में लू के कारण 246 मौतें, लगी धारा 144 • बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे को क्यो किडनैप करना चाहते थे शोएब अख्तर• सानिया मिर्जां के साथ पार्टी करना शोएब मलिक को पड़ा भारी।• केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन हुए परिजनों के गुस्से का शिकार • 17वी लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष पर बोले • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है

ब्लॉग

  • फिल्म का बहाना, चुनाव पर निशाना ? 

    संजय लीला भंसाली की बहुचर्चित फिल्म 'पद्मावती', बहुचर्चित इसलिए हैं क्योंकि जिस तरह से पिछले काफी वक्त से इस फिल्म को लेकर विवाद छिड़ा है। ये फिल्म रिलीज से पहले ही हिट तो हो ही गई है। कर्णी सेना से लेकर सियासी गलियारों तक में फिल्म का विरोध जोरशोर से

  • क्या होगा उम्मीदों के पिटारे में ?

    2016 का अंत सरकार के दो बड़े आर्थिक फैसलों से हुआ है, पहला नोटबंदी और दूसरा GST। हालांकि इन दोनों फैसलों के प्रभाव से आम जनता पूरी तरह से अनजान है। साल 2017 का बजट दो नए बदलावों का भी गवाह बनेगा...

    1-  रेल बजट और आम बजट एक साथ पेश

  • ये 'जुगलबंदी' काफी कुछ कहती है.....

    सियासत के गलियारों में कहा जाता है कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं होता, ना दोस्ती और ना ही दुश्मनी। यहां तो मुद्दे भी स्थायी नहीं होते, वक्त के साथ उन्हें गढ़ा जाता है और जरूरत के मुताबिक फिर निकाल लिया जाता है। इसकी ताज़ा मिसाल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस

  • ये नकल तो अकल पर चोट है

    उत्तर प्रदेश में...बच्चों को ऐसे नकल करवाई जा रही है परीक्षाओं में...जैसे ये उनका जन्मसिद्ध अधिकार हो...कोई खिड़की से लटककर...कोई छत पर चढ़कर...कोई खेत से भागकर...कोई मैदान में दौड़कर...विद्यार्थियों तक चिट पहुंचा रहा है...

    नकल ने हमेशा से अकल पर ही चोट की है...बावजूद इसके नकल करवाने के लिए...विद्यार्थियों

:
:
: