Headline • सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा• बस्ती : खराब बस को धक्का लगा रहे यात्रियों को ट्रक ने कुचला, 6 की दर्दनाक मौत• विवेक तिवारी हत्याकांड :'पुलिस अंकल, आप गाड़ी रोकेंगे तो पापा रुक जाएंगे... Please गोली मत मारियेगा'• लखीमपुर खीरी के यतीश ने तोड़ा लगातार पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 123 घंटे पढ़कर बनाया कीर्तिमान• रुद्रप्रयाग : अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरी कार • फाइनल में सेंचुरी बनाने वाले लिटन दास को क्यों कहना पड़ा, मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता• ललितपुर : SDM ने होमगार्ड की राइफल से गोली मारकर की आत्महत्या• टेनिस की इस खिलाड़ी ने किया टॉपलेस वीडियो, कारण जानकार आप भी करने लगेंगे तारीफ• इंडोनेशिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 800 पार पहुंची, अभी भी कई इलाकों में नहीं पहुंचा राहत दल• मेरठ : हिस्ट्रीशीटर की चाकुओं से गोदकर हत्या• एशिया कप के साथ फोटो शेयर कर इशारों इशारों में  बुमराह ने राजस्थान पुलिस को मारा ताना• तनुश्री के सपोर्ट में आईं कई हिरोईन तो नाना के समर्थन में आईं राखी सावंत, कहा, मरते दम तक साथ दूंगी• SHO और मुंशी के टॉर्चर से परेशान होकर महिला सिपाही ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में हुआ खुलासा• मामा-भांजी को पेड़ से बांधकर की पिटाई, चचिया ससुर ने बदला लेने के  लिए किया ऐसा घिनौना काम• बदनामी के बीच आई यूपी पुलिस की एक ईमानदार छवि, केस से नाम हटाने को 4 लाख देने वाले को जेल भेजा• इस दिन रिलीज हो रहा है कंगना की मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का टीजर• पुलिस के आतंक से पुरुषों ने गांव छोड़ा, दो पक्षों के झगड़े में सिपाही के घायल होने पर गांव में पुलिस का तांडव• स्वामी प्रसाद का सपा पर हमला, कहा-अखिलेश ने गरीब के पैसे और साइकिल कार्यकर्ताओं में बांट दिए


दिल्ली के विकासपुरी में सिर्फ रबड़ की गेंद लगने की वजह से एक होनहार डाक्टर को पीट पीट कर मार डाला गया। जी हां पीट पीट कर सिर्फ इसलिए क्योंकि डाॅक्टर अपने बच्चे के साथ क्रिकेट खेल रहे थे औऱ रबड़ की गेंद सड़क पर जा रही एक बाइकर को लग गई। बेरहम बेदर्द लोगों मेंडाॅक्टर को पीटते समय ना तो शर्म आई ना ही इंसानियत का तकाजा। दिल्ली, जिसके जगराते और लंगर देश भर में मशहूर हैं, अब गुस्से के लिए कुख्यात होने लगी है। आंकड़ों की मानें तो दिल्ली में हर चौथे दिन रोड रेज का मामला सामने आता है। लोग मामूली सी बात पर भड़कते हैं और फिर ये झगड़ा भयानक कत्ल का शक्ल अख्तियार कर लेता है।


दिल्ली के गुस्से को पहले आंकड़ों से ही समझते हैं जरा सोच के देखिए दिल्ली में हर साल होने वाले करीब 20 फीसदी कत्ल के पीछे मामूली बात पर भड़का गुस्सा होता है। हर साल दिल्ली में डेढ हजार लोग किसी ना किसी लापरवाह वाहन चालक का शिकार होकर अपनी जान गंवा देते हैं। आध्यात्म, योग और दूसरे लोग इसकी कई वजहे भी गिनाते हैं औऱ अपने अपने तरीके से इस पर काबू पाने के उपाय भी बताते या करते हैं मगर फिर भी दिल्ली का गुस्सा कम होने की बजाय दिन पर दिन बढ़ता जा रहा है।

दूसरे को मौत के घाट उतार देना दिल्ली में फैशन बनता जा रहा है और इसका कोई सीधा औऱ ठोस उपाय लोगों की समझ में नहीं आ रहा। मामूली सी बात होती है गुस्सा भड़कता है औऱ फिर शुरू हो जाता है राक्षसी नाच जिसका अंत किसी की दर्दनाक मौत के साथ हो जाता है। मीडिया से लेकर पुलिस तक शोर करते हैं औऱ फिर सब कुछ सामान्य और फिर वही होड़ शुरू हो जाती है।

राजधानी दिल्ली में अच्छी सड़कें ओर शानदार गाडि़यों के बावजूद दिल्ली में ट्रैफिक व्यवस्था के खस्ता हाल लोगों के गुस्से का सबसे बड़ा कारण है। दिल्ली पुलिस के एक सर्वे से पता चला है कि 25 फीसद लोग गुस्से में ड्राइविंग करते हैं। दिल्ली पुलिस के सर्वे में यह बात भी सामने आई है कि रोड रेज की ज्यादातर घटनाएं ड्राइवरों के साथ ही होती है। ड्राइवरों के ज्यादा गुस्से में रहने की वजय यह भी हो सकती है कि वो लगातार गाडि़यां चलाते रहते हैं और उनको आराम का समय कम मिलता है। सर्वे यह भी बताया है कि दिल्ली में 27 फीसद लोग लगातार हेडलाइट चमकाते हैं और 25 प्रतिशत लगातार हॉर्न बजाते हैं।

क्या आप जानते हैं कि दिल्ली के 21 फीसद घरों में कम से कम एक कार मौजूद है तो वहीं 30 प्रतिशत घरों में कम से कम एक दोपहिया वाहन है। दिल्ली में औसतन एक आदमी रोजाना 10.4 किलोमीटर सफर करता है। दिल्लीवासी सालभर में औसतन 1198 किलोमीटर की दूरी वाहन से तय करता है। अगर ट्रैफिक कानून के उल्लंघन की बात करें तो यहां सालभर में लगभग 14.6 करोड़ बार ट्रैफिक नियम तोड़े जाते हैं। दिल्ली पुलिस के सर्वे के मुताबिक दिल्ली के 48 फीसद ड्राइवर रोड रेज की घटनाओं के शिकार होते हैं

आमतौर पर गुस्सा आना एक स्वाभाविक प्रक्रिया मानी जाती है। अन्य भावों की तरह यह भी एक भाव ही है, लेकिन जब गुस्सा इस हद तक बढ़ जाए कि व्यक्ति आपा खोकर हिंसक हो उठे तो यह मानसिक विकार कहलाता है।दिलवालों की दिल्ली का तमगा हासिल कर खुद पर फक्र महसूस करने वाली देश की राजधानी अब बदनाम होने लगी है। अब ऐसा लगने लगा है कि दिल्ली वालों के पास दिल बचा ही नहीं है। मामूली कहासूनी के बाद अब सड़को पर गुस्से में होने वाली हाथापाई और हत्या के लिए दिल्ली बदनाम होने लगी है। इस बदनाम होती दिल्ली को बचाने के लिए सबसे पहले गुस्से से बचना होगा।


(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: