Headline • अवैध शराब बनाते बसपा के पूर्व विधायक गिरफ्तार, बंद पड़े स्कूल में चला रहे थे कारोबार• हापुड़ में गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान युवक नहर में डूबा, गोताखोर तलाश करने में जुटे• नील नितिन मुकेश के घर आई एक नन्ही परी• जानें राजनीति में आने के सवाल पर राहुल द्रविड़ ने क्या जवाब दिया• विवादों के बाद सन्नी देओल की फिल्म मोहल्ला अस्सी रिलीज को तैयार, फर्स्ट लुक जारी• कातिल सौतन! पूर्व पति की शादी को नहीं कर पाई बर्दाश्त, कराया जानलेवा हमला, महिला की मौत• अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलीं पूर्व मेयर, कहा-समय पर लिया होता फैसला तो नहीं देखने पड़ते ये दिन• तारीख से लौट रहे दामाद को अगवा कर ससुरालियों ने की जमकर पिटाई, पुलिस ने बचाई जान• 80 मौत के बाद जागीं मंत्री अनुपमा, अस्पताल का लिया जायजा, कैमरों के साथ पहुंचीं मृतकों के घर• भारत ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी का फैसला, चोटिल पांड्या की जगह रविंद्र जाडेजा को मौका• बीच बचाव करने गए बुजुर्ग पर ही टूट पड़े, चौकी इंचार्ज ने जान पर खेलकर बचाई जान• कर्बला की ओर बढ़ते हर कदम के साथ हुसैन की कुर्बानी का दर्द और यजीद के खिलाफ गुस्सा दिखा • करीना कपूर ने फैमिली के साथ सेलिब्रेट किया अपना जन्मदिन, तस्वीरें आई सामने• चल-चल चल मेरे हाथी, ओ मेरे साथी, चल रे चल खटारा खींचके...पीएम के संसदीय क्षेत्र में अनोखा विरोध• बढ़ सकती है बसपा सुप्रीमो मायावती की परेशानी, हाईकोर्ट ने तलब की स्मारक घोटाले की स्टेटस रिपोर्ट• कैग रिपोर्ट में फंसे अखिलेश ! 97 हजार करोड़ रुपए के सरकारी धन की बंदरबांट• किसने सबके सामने कहा-बहुत ही गंदा है आगरा शहर, यूपी सरकार से कोई प्रस्ताव ही नहीं मिला• बीमारी से हुई मौतों से परेशान ग्रामीणों ने सांसद से पूछा, अब यहां क्या करने आई है? जमकर निकाला गुस्सा• तोगड़िया का मोदी पर हमला, कहा- 2014 में मंदिर की बात करते थे अब मस्जिद से मोहब्बत करने लगे• अब ऑनलाइन मिलेंगे मोदी और योगी जैसे कुर्ते, दीनदयाल धाम ने किया कई कंपनियों से समझौता• किराए के मकान में चल रहे अस्पताल, हर महीने करोड़ों होता है खर्च लेकिन लोगों को नहीं मिल रहा लाभ• चालान काटने वालों के खुद कटे चालान, हरदोई के एसपी के फरमान से पुलिसवालों की बढ़ी परेशानी• नोएडा : PNB में लूट की कोशिश, बदमाशों ने की दो गार्डों की हत्या• अमरोहा :टायर फटने से यात्रियों से भरी बस पलटी, 5 की मौत, 40 से ज्यादा घायल• जेल से बरामद पिस्टल से नहीं मारी गई थी मुन्ना बजरंगी को गोली,फोरेंसिक जांच में हुआ खुलासा


जाट आंदोलन ने फिर से ये सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या आंदोलन का मतलब गुंडागिरी है। इसके पहले गुजरात के पटेल आंदोलन के समय भी इस सवाल ने सिर उठाया था मगर लोगों ने ध्यान नहीं दिया। इसी पटेल आंदोलन को फोकस कर सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में कहा है कि गुजरात में पटेल आंदोलन के दौरान जो नुकसान हुआ, उसका मुआवजा नुकसान पहुंचाने वालों से लिया जाना चाहिए। जाट आंदोलन में फिर से वही सब कुछ बल्कि उससे भी बढ़कर हुआ जिसकी उम्मीद तो दूर इस देश के सभ्य समाज में उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।

इसमें कोई दो राय नहीं कि आंदोलन का मकसद लोगों की सोच औऱ विचार को बदलना होता है लेकिन जाट आंदोलन जैसे आंदोलनों के मायने क्या हैं इसका जवाब अभी बाकी है। इसमें कोई दो राय नहीं कि हिंसक आंदोलन ना केवल लोगों को चौंकाते हैं बल्कि मीडिया में भी ऐसे आंदोलन को जगह ज्यादा मिलती है। लेकिन ये भी सच है कि केवल अहिंसक आंदोलनों को ही कामयाबी मिलती रही है। हिंसक आंदोलनों से थोड़ा बहुत जो बदलाव आता भी है वो टिकाऊ नहीं होता। जाट आंदोलन को ही लीजिए आज जिस तरह इस आंदोलन पर सवाल उठने लगे वो किसी भी आंदोलनकारी को सकून देने वाला नहीं हो सकता। देश के आंदोलन इतिहास में जाट आंदोलन को सबसे अराजक हिंसक आंदोलन के रूप में जाना जाने लगा है। सच भी है 40 हजार करोड़ रूपये का नुकसान जिस आंदोलन से हो उसे जायज कैसे ठहराया जा सकता है। पिछले साल गुजरात में पटेल आंदोलन में भी काफी नुकसान हुआ। 15 दिनों तक पूरे गुजरात में हालात तनावपूर्ण रहे। तेलांगना औऱ झारखंड जैसे राज्यों में भी आंदोलन हुए औऱ रिपोर्टों के मुताबिक तो तेलांगना बनने में करीब 1 लाख करोड़ का नुकसान हुआ इतने पैसों में तेलांगना का काफी विकास हो सकता था। पश्चिम बंगाल में हुए सिंगूर आंदोलन में 75 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।

दूसरी तरफ कुछ आंदोलन ऐसे भी हैं जो अपेक्षाकृत शांतिपूर्ण रहे और उनका असर भी काफी बड़ा औऱ व्यापक रहा। अन्ना आंदोलन को ही लीजिए मौजूदा समय के बड़े आंदोलनों में से एक अन्ना आंदोलन इतना फैला कि पूरे देश में भ्रष्टाचार को लेकर नई बहस शुरू हो गई। पहली बार किसी बिल को बनाने के लिए सिविल सोसायटी के लोगों को मिलाकर एक कमेटी बनाई गई। निर्भया आंदोलन ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देश में सख्त कानून बनवा दिया। एक आनलाइन आंदोनल तो इतना प्रभावी हुआ कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल आईटीएक्ट की धारा 66ए को ही रद्द कर दिया। आरटीआई एक्ट भी अहिंसक आंदोलन का ही परिणाम है।

वर्तमान समय में जन आंदोलन की परिभाषा दिशा और दशा दोनों बदल गई है समय के साथ होने वाला स्वाभाविक परिवर्तन तो ठीक है मगर जब आंदोलन का आधार ही परिवर्तित हो जाए तो दो देश औऱ आंदोलन दोनों के लिए ही जाट आंदोलन जैसा छाप ही छोड़ पाता है इसका कोई नतीजा निकलता नहीं।

 

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर



वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: