Headline • सुशील मोदी बोले - भाजपा और जदयू का गठबंधन बना रहेगा, नीतीश के नेतृत्व में ही लड़ेंगे विधानसभा चुनाव • तेलंगाना सीएम KCR गांव वालों पर मेहरबान, हर परिवार को देंगे 10 लाख रुपये• सोनिया गांधी का मोदी सरकार पर हमला, कहा - केंद्रीय सूचना आयोग की स्‍वतंत्रता को नष्‍ट करना चाहती है सरकार• ब्रिटेन में आज होगा अगले पीएम का फैसला, बोरिस जॉनसन और जेरेमी हंट के बीच टक्कर• इसरो ने रचा इतिहास, मून मिशन चंद्रयान-2 लॅान्च• हिमा दास ने 20 दिन में 5वां गोल्ड जीता, जाबिर ने भी लगायी सुनहरी दौड़• अमेरिका में फिर हुई इमरान खान की फजीयत, भाषण के दौरान इमरान का विरोध • राहुल गाँधी के इस्तीफे के बाद पुणे के इंजीनियर की नजर कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर • यूपी - गरीब छात्रों को नए मेडिकल कालेजों में भी मिलेगा मौका• कर्नाटक : सरकार बचाने के लिए ज्योतिषियों और टोटकों की शरण में JDS नेता • पीसीबी पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता इंजमाम पर करता रहा पैसों की बारिश, पर नहीं सुधरी टीम की हालत• अमेरिका ने हाफिज की पिछली गिरफ्तारियों को बताया 'दिखावा', कहा उसकी आतंकी गतिविधियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा• CM कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू का इस्‍तीफा मंजूर किया• "कांग्रेस को चाहिए ' गांधी ' अध्यक्ष, वर्ना टूट जाएगी पार्टी"• यूपी बोर्ड के छात्रों को मिलेगा धीरूभाई अंबानी स्कॅालरशिप पाने का मौका • छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में 3 लोगों की पिट-पिटकर हत्या • ट्रम्प का दावा - अमेरिकी युद्धपोत ने मार गिराया है होरमुज की खाड़ी में ईरानी ड्रोन• कर्नाटक : बीजेपी विधायकों के लिए सदन में ब्रेकफास्ट लेकर पहुंचे कर्नाटक के डेप्युटी सीएम• इमरान खान के अमेरिका दौरे से पहले पाक को झटका, नहीं मिलेगी अमेरिकी सहायता• पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी गिरफ्तार • 90 बीघे जमीन के लिए चली अंधाधुंध गोलियां, बिछ गई लाशें• धौनी के माता-पिता भी चाहते है कि वो अब क्रिकेट से संन्यास ले• चंद्रयान-2 की आयी डेट; 22 जुलाई को होगा लॅान्च • कुलभूषण जाधव केस : 1 रुपये वाले साल्वे ने पाकिस्तान के 20 करोडं रुपये वाले वकील को दी मात • कांग्रेस को नहीं मिल पा रहा नया अध्यक्ष , किसी भी नाम को लेकर सहमति नहीं


जाट आंदोलन ने फिर से ये सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या आंदोलन का मतलब गुंडागिरी है। इसके पहले गुजरात के पटेल आंदोलन के समय भी इस सवाल ने सिर उठाया था मगर लोगों ने ध्यान नहीं दिया। इसी पटेल आंदोलन को फोकस कर सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में कहा है कि गुजरात में पटेल आंदोलन के दौरान जो नुकसान हुआ, उसका मुआवजा नुकसान पहुंचाने वालों से लिया जाना चाहिए। जाट आंदोलन में फिर से वही सब कुछ बल्कि उससे भी बढ़कर हुआ जिसकी उम्मीद तो दूर इस देश के सभ्य समाज में उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।

इसमें कोई दो राय नहीं कि आंदोलन का मकसद लोगों की सोच औऱ विचार को बदलना होता है लेकिन जाट आंदोलन जैसे आंदोलनों के मायने क्या हैं इसका जवाब अभी बाकी है। इसमें कोई दो राय नहीं कि हिंसक आंदोलन ना केवल लोगों को चौंकाते हैं बल्कि मीडिया में भी ऐसे आंदोलन को जगह ज्यादा मिलती है। लेकिन ये भी सच है कि केवल अहिंसक आंदोलनों को ही कामयाबी मिलती रही है। हिंसक आंदोलनों से थोड़ा बहुत जो बदलाव आता भी है वो टिकाऊ नहीं होता। जाट आंदोलन को ही लीजिए आज जिस तरह इस आंदोलन पर सवाल उठने लगे वो किसी भी आंदोलनकारी को सकून देने वाला नहीं हो सकता। देश के आंदोलन इतिहास में जाट आंदोलन को सबसे अराजक हिंसक आंदोलन के रूप में जाना जाने लगा है। सच भी है 40 हजार करोड़ रूपये का नुकसान जिस आंदोलन से हो उसे जायज कैसे ठहराया जा सकता है। पिछले साल गुजरात में पटेल आंदोलन में भी काफी नुकसान हुआ। 15 दिनों तक पूरे गुजरात में हालात तनावपूर्ण रहे। तेलांगना औऱ झारखंड जैसे राज्यों में भी आंदोलन हुए औऱ रिपोर्टों के मुताबिक तो तेलांगना बनने में करीब 1 लाख करोड़ का नुकसान हुआ इतने पैसों में तेलांगना का काफी विकास हो सकता था। पश्चिम बंगाल में हुए सिंगूर आंदोलन में 75 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।

दूसरी तरफ कुछ आंदोलन ऐसे भी हैं जो अपेक्षाकृत शांतिपूर्ण रहे और उनका असर भी काफी बड़ा औऱ व्यापक रहा। अन्ना आंदोलन को ही लीजिए मौजूदा समय के बड़े आंदोलनों में से एक अन्ना आंदोलन इतना फैला कि पूरे देश में भ्रष्टाचार को लेकर नई बहस शुरू हो गई। पहली बार किसी बिल को बनाने के लिए सिविल सोसायटी के लोगों को मिलाकर एक कमेटी बनाई गई। निर्भया आंदोलन ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देश में सख्त कानून बनवा दिया। एक आनलाइन आंदोनल तो इतना प्रभावी हुआ कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल आईटीएक्ट की धारा 66ए को ही रद्द कर दिया। आरटीआई एक्ट भी अहिंसक आंदोलन का ही परिणाम है।

वर्तमान समय में जन आंदोलन की परिभाषा दिशा और दशा दोनों बदल गई है समय के साथ होने वाला स्वाभाविक परिवर्तन तो ठीक है मगर जब आंदोलन का आधार ही परिवर्तित हो जाए तो दो देश औऱ आंदोलन दोनों के लिए ही जाट आंदोलन जैसा छाप ही छोड़ पाता है इसका कोई नतीजा निकलता नहीं।

 

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

 

संबंधित समाचार

:
:
: