Headline • भाजपा सरकार ने EPF ब्याज दरों में कि बढ़ोतरी • अर्जुन कपूर और अभिषेक बच्चन ने अक्षय कुमार की फिलम केसरी के ट्रेलर की प्रशंसा की • पूर्व पाक अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी के पास इमरान खान के लिए सावधानी बरतने की सलाह • जम्मू-कश्मीर में सरकार ने अर्धसैनिकों के लिए दी हवाई यात्रा को मंजूरी• अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना


जाट आंदोलन ने फिर से ये सोचने पर मजबूर कर दिया है कि क्या आंदोलन का मतलब गुंडागिरी है। इसके पहले गुजरात के पटेल आंदोलन के समय भी इस सवाल ने सिर उठाया था मगर लोगों ने ध्यान नहीं दिया। इसी पटेल आंदोलन को फोकस कर सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में कहा है कि गुजरात में पटेल आंदोलन के दौरान जो नुकसान हुआ, उसका मुआवजा नुकसान पहुंचाने वालों से लिया जाना चाहिए। जाट आंदोलन में फिर से वही सब कुछ बल्कि उससे भी बढ़कर हुआ जिसकी उम्मीद तो दूर इस देश के सभ्य समाज में उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती।

इसमें कोई दो राय नहीं कि आंदोलन का मकसद लोगों की सोच औऱ विचार को बदलना होता है लेकिन जाट आंदोलन जैसे आंदोलनों के मायने क्या हैं इसका जवाब अभी बाकी है। इसमें कोई दो राय नहीं कि हिंसक आंदोलन ना केवल लोगों को चौंकाते हैं बल्कि मीडिया में भी ऐसे आंदोलन को जगह ज्यादा मिलती है। लेकिन ये भी सच है कि केवल अहिंसक आंदोलनों को ही कामयाबी मिलती रही है। हिंसक आंदोलनों से थोड़ा बहुत जो बदलाव आता भी है वो टिकाऊ नहीं होता। जाट आंदोलन को ही लीजिए आज जिस तरह इस आंदोलन पर सवाल उठने लगे वो किसी भी आंदोलनकारी को सकून देने वाला नहीं हो सकता। देश के आंदोलन इतिहास में जाट आंदोलन को सबसे अराजक हिंसक आंदोलन के रूप में जाना जाने लगा है। सच भी है 40 हजार करोड़ रूपये का नुकसान जिस आंदोलन से हो उसे जायज कैसे ठहराया जा सकता है। पिछले साल गुजरात में पटेल आंदोलन में भी काफी नुकसान हुआ। 15 दिनों तक पूरे गुजरात में हालात तनावपूर्ण रहे। तेलांगना औऱ झारखंड जैसे राज्यों में भी आंदोलन हुए औऱ रिपोर्टों के मुताबिक तो तेलांगना बनने में करीब 1 लाख करोड़ का नुकसान हुआ इतने पैसों में तेलांगना का काफी विकास हो सकता था। पश्चिम बंगाल में हुए सिंगूर आंदोलन में 75 हजार करोड़ का नुकसान हुआ था।

दूसरी तरफ कुछ आंदोलन ऐसे भी हैं जो अपेक्षाकृत शांतिपूर्ण रहे और उनका असर भी काफी बड़ा औऱ व्यापक रहा। अन्ना आंदोलन को ही लीजिए मौजूदा समय के बड़े आंदोलनों में से एक अन्ना आंदोलन इतना फैला कि पूरे देश में भ्रष्टाचार को लेकर नई बहस शुरू हो गई। पहली बार किसी बिल को बनाने के लिए सिविल सोसायटी के लोगों को मिलाकर एक कमेटी बनाई गई। निर्भया आंदोलन ने महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए देश में सख्त कानून बनवा दिया। एक आनलाइन आंदोनल तो इतना प्रभावी हुआ कि सुप्रीम कोर्ट ने पिछले साल आईटीएक्ट की धारा 66ए को ही रद्द कर दिया। आरटीआई एक्ट भी अहिंसक आंदोलन का ही परिणाम है।

वर्तमान समय में जन आंदोलन की परिभाषा दिशा और दशा दोनों बदल गई है समय के साथ होने वाला स्वाभाविक परिवर्तन तो ठीक है मगर जब आंदोलन का आधार ही परिवर्तित हो जाए तो दो देश औऱ आंदोलन दोनों के लिए ही जाट आंदोलन जैसा छाप ही छोड़ पाता है इसका कोई नतीजा निकलता नहीं।

 

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

 

संबंधित समाचार

:
:
: