Headline • राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर


जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में जो कुछ भी हुआ उसके बाद देखते-देखते पूरा देश सुलग गया। हर वर्ग दो वर्ग में बंट गया..। लोगों की देभक्ति और बुद्धिजीविषा अचानक जग गई जग ही नहीं गई वो हर उस माध्यम का इस्तेमाल भी करने लगी जहां से उद्गार व्यक्त किए जा सकते थे। कुछ लोगों की विशेषज्ञता तो यहां तक बढ़ी कि वो छुपी हुई राजनीतिक मंशा के जानकार भी बन गए।

 

मगर किसी ने ये जानने की कोशिश नहीं की है कि जहां और जिस वीडियो से ये मुद्दा शुरू हुआ उस वीडियो का हश्र क्या हुआ। आखिरकार पुलिस ने वीडियो के आधार पर मुकदमा क्यों कर दिया और आम तौर पर साधारण चोर की जांच में भी हर कुछ छिपा कर चलने वाली दिल्ली पुलिस के मुखिया बीएस बस्सी इस पुरे मुद्दे पर बार बार यू टर्न लेते क्यों नजर आए।

 

क्राइम कवरेज का एक लंबा कैरियर रखने के नाते मैं इतना तो जानता हूं कि अगर आपके घर किसी तरह का हादसा हो जाए और आप दिल्ली के किसी थाने में पहुंचे तो आज भी मुकदमा दर्ज करवाना इतना आसान नहीं होता। मगर जेएनयू के मामले पर महज एक चैनल के वीडियो को आधार बनाकर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर दिया गया। वैसे अगर हमारी धरती पर खड़े होकर कोई हमें ही गाली दे तो उसके खिलाफ कार्रवाई तो होनी ही चाहिए मगर फिर कार्रवाई का इरादा पक्का हो। किसी की इच्छा, जल्दबाजी से संचालित ना हो। इस मामले में पुलिस ने जिस वीडियो को मुकदमे का आधार बनाया उसी वीडियो की सत्यता की पुष्टि होने में अभी भी कम से कम एक सप्ताह लगेंगे। क्योंकि इस वीडियो को सीएफएसएल भेजा गया है औऱ रिपोर्ट आनी बाकी है।

 

जेएनयू में जो हुआ उसका पुलिस कार्रवाई के सार्वजनिक होने के बाद जो भी हुआ वो शायद काफी हद तक स्वाभाविक ही था। देश के लिए प्रेम रखने वाले तो प्रतिक्रियात्मक संकेत देंगे ही लेकिन इस पूरी कार्रवाई को राजनीतिक मंशा और एक खास संगठन से जोड़ देना क्या जाएज है।

 

क्या ये सच नहीं कि पुलिस कमिश्नर या कोई भी पुलिस अधिकारी किसी भी मामले की जांच पर जांच का हवाला देकर ज्यादातर बातें बताने से कतराते हैं मगर इस मामले मे वीडियो से लेकर पुलिसिया रिपोर्ट के कागजात तो बाहर आए ही पुलिस कमिश्नर खुद बार बार बयान देते रहे। कभी कहा कि सबूत हैं कभी कहा कि जमानत का विरोध नहीं करेंगे कभी कहा विरोध करेंगे। मगर जब उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात आई जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज था तो अचानक दिल्ली पुलिस ने शरीफ रवैया अपना लिया। वो यूनिवर्सिटी में रहे औऱ पुलिस बाहर अपने अपार सब्र की सीमा दिखाती रही। आखिर क्यों क्या उनकी गिरफ्तारी में देरी से देश में उनके पक्ष या विपक्ष में हवा नहीं फैल रही थी क्या उससे हमारे देश के साम्प्रादायिक सद्भावना के माहौल में किसी तरह का गड़बड़ी नहीं हो रही थी। औऱ सबसे बड़ी बात तो ये कि क्या जांच में देरी नहीं हो रही थी। आमतौर पर तनावपूर्ण माहौल होने पर पुलिस अपना गुपचुप कार्रवाई इतनी तेजी से करती है कि जल्दी किसी को खबर तक नहीं लगती। मगर इस मामले में दिल्ली पुलिस भी एक राजनीतिक पक्ष बन गई और इसीलिए किसी को सरकारी मंशा पर सवाल उठाने का मौका भी मिला।

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

 

संबंधित समाचार

:
:
: