Headline • धौनी के माता-पिता भी चाहते है कि वो अब क्रिकेट से संन्यास ले• चंद्रयान-2 की आयी डेट; 22 जुलाई को होगा लॅान्च • कुलभूषण जाधव केस : 1 रुपये वाले साल्वे ने पाकिस्तान के 20 करोडं रुपये वाले वकील को दी मात • कांग्रेस को नहीं मिल पा रहा नया अध्यक्ष , किसी भी नाम को लेकर सहमति नहीं• पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला


जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में जो कुछ भी हुआ उसके बाद देखते-देखते पूरा देश सुलग गया। हर वर्ग दो वर्ग में बंट गया..। लोगों की देभक्ति और बुद्धिजीविषा अचानक जग गई जग ही नहीं गई वो हर उस माध्यम का इस्तेमाल भी करने लगी जहां से उद्गार व्यक्त किए जा सकते थे। कुछ लोगों की विशेषज्ञता तो यहां तक बढ़ी कि वो छुपी हुई राजनीतिक मंशा के जानकार भी बन गए।

 

मगर किसी ने ये जानने की कोशिश नहीं की है कि जहां और जिस वीडियो से ये मुद्दा शुरू हुआ उस वीडियो का हश्र क्या हुआ। आखिरकार पुलिस ने वीडियो के आधार पर मुकदमा क्यों कर दिया और आम तौर पर साधारण चोर की जांच में भी हर कुछ छिपा कर चलने वाली दिल्ली पुलिस के मुखिया बीएस बस्सी इस पुरे मुद्दे पर बार बार यू टर्न लेते क्यों नजर आए।

 

क्राइम कवरेज का एक लंबा कैरियर रखने के नाते मैं इतना तो जानता हूं कि अगर आपके घर किसी तरह का हादसा हो जाए और आप दिल्ली के किसी थाने में पहुंचे तो आज भी मुकदमा दर्ज करवाना इतना आसान नहीं होता। मगर जेएनयू के मामले पर महज एक चैनल के वीडियो को आधार बनाकर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर दिया गया। वैसे अगर हमारी धरती पर खड़े होकर कोई हमें ही गाली दे तो उसके खिलाफ कार्रवाई तो होनी ही चाहिए मगर फिर कार्रवाई का इरादा पक्का हो। किसी की इच्छा, जल्दबाजी से संचालित ना हो। इस मामले में पुलिस ने जिस वीडियो को मुकदमे का आधार बनाया उसी वीडियो की सत्यता की पुष्टि होने में अभी भी कम से कम एक सप्ताह लगेंगे। क्योंकि इस वीडियो को सीएफएसएल भेजा गया है औऱ रिपोर्ट आनी बाकी है।

 

जेएनयू में जो हुआ उसका पुलिस कार्रवाई के सार्वजनिक होने के बाद जो भी हुआ वो शायद काफी हद तक स्वाभाविक ही था। देश के लिए प्रेम रखने वाले तो प्रतिक्रियात्मक संकेत देंगे ही लेकिन इस पूरी कार्रवाई को राजनीतिक मंशा और एक खास संगठन से जोड़ देना क्या जाएज है।

 

क्या ये सच नहीं कि पुलिस कमिश्नर या कोई भी पुलिस अधिकारी किसी भी मामले की जांच पर जांच का हवाला देकर ज्यादातर बातें बताने से कतराते हैं मगर इस मामले मे वीडियो से लेकर पुलिसिया रिपोर्ट के कागजात तो बाहर आए ही पुलिस कमिश्नर खुद बार बार बयान देते रहे। कभी कहा कि सबूत हैं कभी कहा कि जमानत का विरोध नहीं करेंगे कभी कहा विरोध करेंगे। मगर जब उन लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने की बात आई जिनके खिलाफ मुकदमा दर्ज था तो अचानक दिल्ली पुलिस ने शरीफ रवैया अपना लिया। वो यूनिवर्सिटी में रहे औऱ पुलिस बाहर अपने अपार सब्र की सीमा दिखाती रही। आखिर क्यों क्या उनकी गिरफ्तारी में देरी से देश में उनके पक्ष या विपक्ष में हवा नहीं फैल रही थी क्या उससे हमारे देश के साम्प्रादायिक सद्भावना के माहौल में किसी तरह का गड़बड़ी नहीं हो रही थी। औऱ सबसे बड़ी बात तो ये कि क्या जांच में देरी नहीं हो रही थी। आमतौर पर तनावपूर्ण माहौल होने पर पुलिस अपना गुपचुप कार्रवाई इतनी तेजी से करती है कि जल्दी किसी को खबर तक नहीं लगती। मगर इस मामले में दिल्ली पुलिस भी एक राजनीतिक पक्ष बन गई और इसीलिए किसी को सरकारी मंशा पर सवाल उठाने का मौका भी मिला।

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)

 

संबंधित समाचार

:
:
: