Headline • दलित किशोरी को अगवा कर गैंगरेप की कोशिश, हैवानों से लड़कर थाने पहुंचीं और रिपोर्ट दर्ज कराई• लुटेरी फैमिली गिरफ्तार, महिलाएं करती हैं गैंग का नेतृत्व, ज्वेलरी शॉप से उड़ाए थे 50 लाख के गहने• सांसद बालियान के प्रतिनिधि की आंख में मिर्च झोंककर लूट करने वाले बदमाश गिरफ्तार • विहिप नेता सुरेंद्र जैन बोले, योगी और मोदी पर पूरा भरोसा, 5 अक्टूबर को होगी आंदोलन की रूपरेखा तय• मेरठ पुलिस को शर्मिंदा करने वाला वीडियो वायरल, मेडिकल स्टूडेंट के साथ गाली गलौच और मारपीट• सपा नेता ने कहा, कांवड़ यात्रा का विरोध करता हूं, भोले और राम से लड़ना होगा, बीजेपी की जान इनमें है• सुप्रीम कोर्ट ने लगाई मनोज तिवारी को फटकार, कहा-जगह बताइए हम आपको सिलिंग ऑफिसर बना देंगे• सड़क दुर्घटना में नामचीन गायक और पत्नी घायल, 2 साल की बेटी की मौत• चार माह तक बंद रहेंगी चमड़ा फैक्ट्रियां, शासनादेश जारी, होंगे 11 लाख मजदूर बेरोजगार • बंगलूरु के नशा मुक्ति केंद्र में इलाज करा रहे हैं कपिल शर्मा, जल्द स्वस्थ्य होकर लौटेंगे टीवी पर• अफगानिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का निर्णय, धोनी कर रहे है भारतीय टीम की कप्तानी• पुलिस के सामने मोबाइल चोर के आरोपी को भीड़ ने पीटा, मामला उछलने पर दिया कार्रवाई का भरोसा• वाह री मेरठ पुलिस! एफआईआर से आरोपी का नाम हटाकर ऐसे व्यक्ति का नाम जोड़ दिया जो इस दुनिया में नहीं है• हरिद्वार की अंडर-16 क्रिकेट टीम के चयन का मामला पहुंचा नैनीताल हाईकोर्ट  • संभल में एसिड अटैक की घटना निकली झूठी, ससुरालियों को फंसाने के लिए भाई से ही डलवा ली थी एसिड की कुछ छींटे • BJP नेता कुसुम राय पर आरोप, पुलिस पर दबाव डालकर गिरवाई पड़ोसी के घर की दीवार, पीड़ित की सुनवाई नहीं• योगी सरकार ने गन्ना किसानों को दी बड़ी सौगात• पुलिस ने 80 साल के बुजुर्ग को बनाया बलात्कारी, जेल में हुई मौत,परिजन मांग रहे न्याय• आज से शुरू होगा कसौटी जिंदगी की, प्रोमो में दिखी थी कोमोलिका की झलक• कन्नौज के डबल मर्डर के आरोपी ममेरे भाइयों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 21 सितंबर को हुई थी हत्या• प्रेमिका की जिद पर बीवी को दिया फोन पर तलाक, फिर थाने में कर लिया प्रेमिका से निकाह• हमीरपुरः कंस मेले के रूट को लेकर बवाल, आयोजकों की जिद के आगे झुका प्रशासन• सफाईनायक से बीजेपी विधायक बोले, सुधर जाओ नहीं तो 1 घंटे में मुकदमा दर्ज कर सीधा जेल भिजवा दूंगा• बीएचयू में देर रात हुए बवाल के बाद हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टर,स्वास्थ्य सेवा चरमराई• सपना चौधरी को बर्थड़े पर मिला ये सरप्राइज, सेलिब्रेशन के वीडियो हो रहे वायरल


आज महंगाई के बारे में कुछ लिखने- पढने का मन नहीं करता है। मन करे भी तो कैसे। बाल और दाढी से तेज़ तो महंगाई बढ़ रही है। पहले सुनते थे चलती का नाम गाड़ी और बढ़ती का नाम दाढ़ी। लेकिन, अब बढ़ती का नाम है 'महंगाई'। यही कारण है कभी पेट्रोल चर्चा में तो कभी डीजल, कभी प्याज तो कभी टमाटर। इसी प्रकार तरह-तरह के अन्य सामान भी चर्चा में बने रहते हैं। वैसे तो प्याज काटते समय आंसू आते हैं लेकिन अभी तो खरीदते समय ही। विज्ञान ने हमें बताया कि प्याज काटते समय आंसू आते हैं लेकिन सरकारी अर्थशास्त्र के अनुसार प्याज काटने से पहले खरीदते समय ही आंसू आते हैं। टमाटर का भाव पूछिए,जैसे ही सब्जीवाली भाभी जी भाव बताएंगी आपको टमाटर आग का गोला लगने लगेगा। महंगाई की मार से सब परेशान है। हम भी, आप भी, सब्जी वाले भी, पेट्रोल पंप वाले भी, दूध वाले भी। सब परेशान है। कोई कम तो कोई ज़्यादा। पेट्रोल का मार्केट रेट देखकर मन करता है पेट्रोल पंप ही रहते तो चर्चा में भी बने रहते।और रेट भी बराबर बढ़ता रहता। दिल कभी-कभी बोल उठता है 'अगले जन्म मोहे पेट्रोल पंप ही कीजो'। मैं तो किसी बुज़ुर्ग से महंगाई पर बात करना ही छोड़ दिया हूं। जैसे ही वो बताने लगेंगे कि उनके जवानी के दिन में 1 रु. में इतना सामान मिल जाता था तो लगता है, गाली दे रहे हैं। सच पूछिए तो लगता है महंगाई से आम आदमी की जेब तो कब की जल चुकी है। कमर पता नहीं कब की टूट चुकी है अब तो दिल भी टूट गया है। स्वर्ग में कौटिल्य भी भारतीय अर्थव्यवस्था के नए-नए फॉर्मुले को देखकर पता नहीं क्या-क्या सोच रहे होंगे। रोज-रोज नए-नए आर्थिक फॉर्मुले को देखकर देश की आम जनता तो हक्का- बक्का है ही। लेकिन, सरकार ताल ठोक कर कह रही है देश में गरीबी कम हुई है। महंगाई का असर हमेशा से निम्न और मध्यम वर्गिय परिवारों पर भारी पड़ती रही है। कभी खाद्य तेल, कभी दूध, कभी सब्जी तो कभी डीजल-पेट्रोल। किसी चक्रवाती तुफान की तरह बढ़ रही महंगाई आज सबको अपने आगोश में ले चुकी है। इसका अंदाज़ा तो आप इसी बात से लगा सकते हैं कि, 2010 में 1 रु. में 2 गिलास पानी मिल जाता था। अब, 2013 में 2 रु. में 1 गिलास पानी मिल रहा है। इसी तरह अन्य खाद्य और दूसरे तरह के सामानों के भी दाम आसमान छू रहे हैं। काँग्रेस नेता मसूद साहब कहते हैं, 5 रु. में दिल्ली में एक वक्त का भरपेट भोजन मिलता है। अब कौन बताए नेताजी को दिल्ली में पेट खाली करने के 5 रु. लग जाते हैं। 5 रु. में भरना तो दूर की बात है। सुलभ शौचालय में आप जाइएगा तो 5 रु. ले ही लेते हैं। राजबब्बर साहब को 12 रु. में खाना मिल जाता है वो भी मुंबई में। पता नहीं इतने बड़े स्टार होकर वो क्या-क्या खाते फिरते हैं। योजना आयोग के अनुसार ग्रामिण क्षेत्र में 27.20 रु. में तो शहरी क्षेत्र में 33.33 रु. में आप अपना पेट भर सकते हैं। आपके जानकारी के लिए बता दूं कि, दिल्ली स्थित योजना आयोग भवन में एक दिन में केवल पानी ठंडा करने और एयर कंडीशन चलाने का ख़र्च 60 हज़ार रु. का आता है। ये भी जान लीजिए, योजना आयोग भवन में जो टॉयलेट बनाया गया था उसका ख़र्च सुनकर आप हैरान हो जाएंगे। 38 लाख रुपए का खर्च आया था। एक बात और सरकार को पता नहीं ये कब समझेगी कि हम सत्य से भागकर ज्यादा दिन तक नहीं रह सकते। ख़ैर, जनतंत्र का मेला लगा है सब अपने-अपने तरीके से अपनी कला दिखाने में लगे हुए हैं। आम जनता करे भी तो क्या करे ? कलाबाज़ों की कला देख रही है।   

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: