Headline • भाजपा सरकार ने EPF ब्याज दरों में कि बढ़ोतरी • अर्जुन कपूर और अभिषेक बच्चन ने अक्षय कुमार की फिलम केसरी के ट्रेलर की प्रशंसा की • पूर्व पाक अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी के पास इमरान खान के लिए सावधानी बरतने की सलाह • जम्मू-कश्मीर में सरकार ने अर्धसैनिकों के लिए दी हवाई यात्रा को मंजूरी• अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना


मुजफ्फरनगर के जय भगवान से अगर आप एक बार मिल लिए तो रातों रात लखपति बनने के फॉर्मुले वाली किताब पढ़ने की कोई जरुरत ही नहीं। इनका नाम ही सिर्फ जय भगवान नहीं है, इस भगवान पर ऊपर वाले भगवान की कृपा भी ऐसी थी कि दिन दोगुनी रात चौगुनी वाली कहावत ही छोटी पड़ गई। नई कहावत बनी, दिन आठ गुनी और रात का तो छोड़ ही दीजिए।         

मुजफ्फरनगर की जानसठ तहसील में लेखपाल के पद पर बैठे जय भगवान के संपत्ति विस्तार को देखकर स्वर्ग में चार्ल्स डार्विन भी सन्नाटे में रह गए होंगे। डेवलपमेंट के लिए छटपटा रहा देश और देश के करोड़ों नागरिक रोज-रोज अपने-अपने बटुए की टोह लेकर सो जाते हैं। लेकिन जय भगवान के बटुए में मनी प्लांट ने ऐसी जड़ जमायी है कि पत्ता-पत्ता लाख बरसा के सूख जाता है।

देश रॉबर्ट वाड्रा के नाम पर फैली ज़मीन की गिनती में उलझा रहता है। लेकिन असली खिलाड़ी तो निकले लेखपाल साहब, एक गिलास पानी लेकर पूरी कहानी पढ़िएगा। क्योंकि इतनी तेज़ी से संपत्ति को बढ़ाने वाली कहानी आपने शायद ही कभी सुनी हो।

दो से चार...चार से आठ...आठ से अठ्ठारह बनाने वाले तो बहुत हैं इस देश में लेकिन अठ्ठारह को अठहत्तर में बदलने का खेल तो जय भगवान ने ही किया है। कैसे, ऐसे कि सिर्फ 11 बीघे जमीन को 1500 बीघे में बदल दिया। वो भी सिर्फ कुछ सालों में। चकराइए नहीं। घबराइए भी नहीं। ये तो सिर्फ ट्रेलर है, पूरी कहानी ऐसी है कि संपत्ति के बारे में सही-सही जानकारी जुटाने के लिए एक कमेटी बनानी पड़ी है। 

कच्चे घर और उजड़ी हुई छत के नीचे पैदा होने वाले जय भगवान दर्जनों आलिशान फ्लैटों के मालिक यूं ही नहीं बन गए। पहले ग़रीबों की ज़मीन हड़पी। फिर ग़रीबों को सताया। अपनी पहुंच का पूरा-पूरा इस्तेमाल किया। फिर सरकारी ज़मीन को भी निजी बनाने में देर नहीं की। लेकिन पाप की पोटली तो एक दिन भर ही जाती है। भर गई। सारा खेल सार्वजनिक हो गया। और लूट की लंका का विभीषण बना गांव का एक ग़रीब।

जय भगवान संपत्ति को हड़पने का अच्छा, बड़ा और मंझा हुआ कलाकार है। इसकी कलाकारी का एक नमूना और पढ़िए। लेखपाल साहब की पोस्टिंग कहीं भी क्यों न हो लेकिन मुजफ्फरनगर के खादर क्षेत्रों में इनकी मर्जी के बगैर अभी भी कोई काम नहीं होता है। ये बात अलग है कि जय भगवान के खिलाफ धोखाधड़ी से लेकर चार सौ बीसी और कई धाराओं में पहले से कई मुकदमें दर्ज हैं।

देश के प्रधानमंत्री गंगा को स्वच्छ करने में जुटे हैं। और जय भगवान बिल्कुल सफाचट करने में। ज़मीन हड़पने की लालच में लेखपाल ने गंगा की ज़मीन को भी बेच दिया। डर और भय को ताक पर रख कर। 

इतनी कहानी के बाद भी अपने को मासूमियत का सबसे बड़ा मूर्तीकार बता रहे जय भगवान से जब सच जानने की कोशिश की गई तो मुख्य सवालों के जवाब को छोड़कर सारे जवाब मिल गए। लेकिन अंत तक ये पता नहीं चल पाया, कि कैसे 11 बीघे को 1500 बीघे में बदला गया। ये कुचक्र रचा गया है मुझे फंसाने के लिए, ये अंतिम जवाब था लेखपाल साहब का।

काश ! दुनिया में अमीरी की कोई परिभाषा होती। नहीं है। ऐसा भी नहीं है कि सिस्टम के आलाधिकारी इसे नहीं जानते हैं। दिक्कत है, एक चोर जब दूसरे चोर को चोर कह दे या कहने लगे तो डर सबके लिए एक बराबर सा हो जाता है। 

संबंधित समाचार

:
:
: