Headline • महंत नृत्य गोपालदास बोले- 'राम मंदिर का निर्माण नहीं कराया तो भाजपा और मोदी के लिए घातक होगा'• गोरखपुर : बाइक को टक्कर मारने के बाद जीप पलटी, 3 की दर्दनाक मौत, 5 घायल• बीजेपी के कार्यक्रम में बार-बालाओं ने किया डांस,सांसद बाबू लाल के स्वागत में लगे ठुमके• आज से शुरू होगी आयुष्मान भारत योजना,पीएम मोदी झारखंड से करेंगे शुभारंभ• आगरा में दर्दनाक सड़क हादसा, चार लोगों की मौत• बलिया: बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह की दादागिरी, डीएम के सामने डीआईओएस से की हाथापाई• आगरा को हॉकी के विश्व पटल पर मिलेगी नई पहचान:  चेतन चौहान• योगी पहुंचे गोरखपुर, कई योजनाओं को किया लोकार्पण व शिलान्यास, बांटे प्रमाण पत्र• चुड़ैल समझ कर महिला की हत्या कर दी, अपराध छुपाने के लिए लाश को जंगलों में फेंका• फर्रुखाबाद: सड़क दुर्घटना नहीं हत्या कर लाश फेंकी गई थी, पत्नी ने प्रेमी संग दी पति और भतीजे की हत्या की सुपारी• कायमगंज में अंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश, बसपा नेता ने स्थिति संभाली• नवरात्र पर प्रशासन चलाएगा शौचालय की पूजा का कार्यक्रम, कई संगठनों ने किया विरोध का ऐलान• मोहर्रम बवाल पर बीजेपी विधायक पप्पू भरतौल समेत 150 पर केस, 750 ताजिएदारों पर भी केस• अध्यादेश के बाद राजधानी में आया तीन तलाक का मामला, दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर दिया तलाक• राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंदी पर, अल्पसंख्यक आयोग की सदस्य रुमाना सिद्दीकी के बेटे को बुरी तरह पीटा• 'थोड़ी सी महंगाई बढ़ने पर सुषमा स्वराज बाल खोलकर सड़क पर उतर जाती थी, अब क्यों चुप है'• ओलांद के बयान के बाद राहुल गांधी का वार, बंद दरवाजे निजी तौर पर मोदी ने डील करवाई है• दो दिवसीय दौरे पर अगले हफ्ते फिर अमेठी आ रहे हैं राहुल गांधी, योजनाओं के लेकर मंत्रियों को लिखा खत• अवैध शराब बनाते बसपा के पूर्व विधायक गिरफ्तार, बंद पड़े स्कूल में चला रहे थे कारोबार• हापुड़ में गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान युवक नहर में डूबा, गोताखोर तलाश करने में जुटे• नील नितिन मुकेश के घर आई एक नन्ही परी• जानें राजनीति में आने के सवाल पर राहुल द्रविड़ ने क्या जवाब दिया• विवादों के बाद सन्नी देओल की फिल्म मोहल्ला अस्सी रिलीज को तैयार, फर्स्ट लुक जारी• कातिल सौतन! पूर्व पति की शादी को नहीं कर पाई बर्दाश्त, कराया जानलेवा हमला, महिला की मौत• अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलीं पूर्व मेयर, कहा-समय पर लिया होता फैसला तो नहीं देखने पड़ते ये दिन


उत्तर प्रदेश में पहले चरण के मतदान में अब कुछ ही दिन बचे हैं । 11 फरवरी को उत्तर प्रदेश के 15 जीलों की 73 सीटों पर मतदान होना है । मतलब चुनाव अब सर पर है और उत्तर प्रदेश में सियासत का पारा पूरी तरह गर्म है । चुनाव की तारीख नजदीक आते ही सियासी दलों के नुमाइंदों ने भी अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया हैं । कल तक विकास वाली सियासत करने का दावा करने वाले सभी दल उसे भूल गए हैं । बीजेपी एक बार फिर राम मंदिर और तीन तलाक जैसे मुद्दों के साथ अपने हिंदूवादी एजेंडे की तरफ लौट गई है । तो दलितों की राजनीति करने वालीं मायावती खुलेआम मुसलमानों से उनके लिए वोट करने की अपील कर रही हैं । उधर अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी भी मुसलमानों पर अपना हक जताने में लगी है । मतलब साफ है सियासत अब पूरी तरह से वोटों के ध्रुवीकरण के लिए की जा रही है । बीजेपी की तरफ से नेताओं का एक बड़ा तब्का हिंदुत्व वाली बयानबाजी कर रहा है । तो समाजवादी पार्टी की तरफ से ये जिम्मेदारी पार्टी का मुस्लिम चेहरा आजम खान को सौंपी गई है ।

मुस्लिम वोटों पर है नजर

एक वीडियों के जरिये मायावती अल्पसंख्यक समाज के लोगों को अपना वोट खराब ना करने की सलाह दे रही हैं । तो आजम खान मायावती के 10 साल पुराने एक बयान को खूब उछाल रहे हैं । मतलब सारी लड़ाई अब मुस्लिम वोटों के लिए की जा रही हैं । और हो भी क्यों ना ? उत्तर प्रदेश में कुल 20 फीसदी मुस्लिम वोट हैं । और इस बार ये मुस्लिम वोट किस तरफ जाएंगे, इस पर हर पार्टी की नजर है. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी यादव मुस्लिम समीकरण को सत्ता की चाभी मानती है । तो मायावती दलित-मुस्लिम वोटों के बल पर दोबारा यूपी की गद्दी पाने की जुगत में लगी हुई हैं ।



यूपी में क्यों अहम हैं मुस्लिम ?

सवाल ये खड़ा होता है कि आखिर चुनाव आते ही मुस्लमान इतने अहम क्यों हो जाते हैं । दरअसल उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 403 सीटें हैं । जिनमें से 143 सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम मतदाता ज्यादा हैं. 2012 में इन 143 सीटों में से 72 सीटें समाजवादी पार्टी को मिली थीं । जबकि बीएसपी को 26, बीजेपी को 26 और कांग्रेस-आरएलडी गठबंधन को सिर्फ 14 सीटें मिली थीं । यानी सबसे ज्यादा सीटे समाजवादी पार्टी को मिली जबकि बीजेपी औप बीएसपी को 26 सीटों से संतोष करना पड़ा । और ये ही एक बड़ी वजह समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन की है । और इसी वजह से मायावती का भी डर बढ़ गया है । मायावती को लगता है कि कहीं इस बार सारा मुस्लिम वोट एसपी और कांग्रेस के इस गठबंधन की तरफ ना ट्रांस्फर हो जाए । इसीलिए मायावती अपनी हर रैली में खास तौर से मुस्लिम मतदाताओं से वोट देने की अपीलकरना नहीं भूलतीं हैं । इसीलिए मायावती ने 97 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट भी दिया है ।



बयानों के जरिये ध्रुवीकरण की कोशिश

एक तरफ समाजवादी पार्टी और मायावती मुसलमानों का रुख अपनी तरफ करने में लगी है । तो बीजेपी अपने पुराने हिन्दुत्व के एजेंडे की तरफ लौट रही है । जिसके पीछे सोच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की है । हालांकि इसकी नींव अमित शाह ने बीजेपी के घोषणा पत्र जारी करते वक्त ही रख दी थी । शाह का पहला दांव था बाबरी विवादित ढांचा, दूसरा दांव था स्लॉटर हाउसों पर पाबंदी और तीसरा दांव था पलायन । ये तीनों वो ही मुद्दे हैं जिनके जरिये बीजेपी वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश करती रही है । अमित शाह का यूपी में मशीनि स्लॉटर हाउस बंद करने वाला बयान अपने कोर वोटर को एक संदेश था । असल में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पिछले लोकसभा चुनाव के वक्त भी यूपी के प्रभारी महासचिव थे । उस वक्त भी बीजेपी ने विकास के एजेंडे के साथ-साथ हिंदुत्व के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था । कोशिश थी वोटों का ध्रुवीकरण । जिसमें बीजेपी कामयाब भी रही थी । एक बार फिर अमित शाह यूपी विधानसभा चुनाव में वोटों का ध्रुवीकरण कर राज्य में बीजेपी की जीत सुनिश्चित करना चाहते हैं ।

मतलब साफ है , उत्तर प्रदेश की सियासत के इस महा समर में सियासत का हर नुमाइंदा शह और मात के खेल में लगा है । कोई मुसलमानों को साधने में लगा है, तो कोई दलितों और स्वर्णों को । सियासत की इस बिसात पर शह और मात का खेल जारी है , जिसका फैसला आगामी 11 मार्च को सामने आ जाएगा ।



अमान अहमद

प्रोड्यूसर

समाचार प्लस

 

इस लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं । इनसे samacharplus.com का कोई लेना देना नहीं है ।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: