Headline • सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा• बस्ती : खराब बस को धक्का लगा रहे यात्रियों को ट्रक ने कुचला, 6 की दर्दनाक मौत• विवेक तिवारी हत्याकांड :'पुलिस अंकल, आप गाड़ी रोकेंगे तो पापा रुक जाएंगे... Please गोली मत मारियेगा'• लखीमपुर खीरी के यतीश ने तोड़ा लगातार पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 123 घंटे पढ़कर बनाया कीर्तिमान• रुद्रप्रयाग : अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरी कार • फाइनल में सेंचुरी बनाने वाले लिटन दास को क्यों कहना पड़ा, मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता• ललितपुर : SDM ने होमगार्ड की राइफल से गोली मारकर की आत्महत्या• टेनिस की इस खिलाड़ी ने किया टॉपलेस वीडियो, कारण जानकार आप भी करने लगेंगे तारीफ• इंडोनेशिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 800 पार पहुंची, अभी भी कई इलाकों में नहीं पहुंचा राहत दल• मेरठ : हिस्ट्रीशीटर की चाकुओं से गोदकर हत्या• एशिया कप के साथ फोटो शेयर कर इशारों इशारों में  बुमराह ने राजस्थान पुलिस को मारा ताना• तनुश्री के सपोर्ट में आईं कई हिरोईन तो नाना के समर्थन में आईं राखी सावंत, कहा, मरते दम तक साथ दूंगी• SHO और मुंशी के टॉर्चर से परेशान होकर महिला सिपाही ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में हुआ खुलासा• मामा-भांजी को पेड़ से बांधकर की पिटाई, चचिया ससुर ने बदला लेने के  लिए किया ऐसा घिनौना काम• बदनामी के बीच आई यूपी पुलिस की एक ईमानदार छवि, केस से नाम हटाने को 4 लाख देने वाले को जेल भेजा• इस दिन रिलीज हो रहा है कंगना की मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का टीजर• पुलिस के आतंक से पुरुषों ने गांव छोड़ा, दो पक्षों के झगड़े में सिपाही के घायल होने पर गांव में पुलिस का तांडव• स्वामी प्रसाद का सपा पर हमला, कहा-अखिलेश ने गरीब के पैसे और साइकिल कार्यकर्ताओं में बांट दिए


उत्तर प्रदेश में पहले चरण के मतदान में अब कुछ ही दिन बचे हैं । 11 फरवरी को उत्तर प्रदेश के 15 जीलों की 73 सीटों पर मतदान होना है । मतलब चुनाव अब सर पर है और उत्तर प्रदेश में सियासत का पारा पूरी तरह गर्म है । चुनाव की तारीख नजदीक आते ही सियासी दलों के नुमाइंदों ने भी अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया हैं । कल तक विकास वाली सियासत करने का दावा करने वाले सभी दल उसे भूल गए हैं । बीजेपी एक बार फिर राम मंदिर और तीन तलाक जैसे मुद्दों के साथ अपने हिंदूवादी एजेंडे की तरफ लौट गई है । तो दलितों की राजनीति करने वालीं मायावती खुलेआम मुसलमानों से उनके लिए वोट करने की अपील कर रही हैं । उधर अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी भी मुसलमानों पर अपना हक जताने में लगी है । मतलब साफ है सियासत अब पूरी तरह से वोटों के ध्रुवीकरण के लिए की जा रही है । बीजेपी की तरफ से नेताओं का एक बड़ा तब्का हिंदुत्व वाली बयानबाजी कर रहा है । तो समाजवादी पार्टी की तरफ से ये जिम्मेदारी पार्टी का मुस्लिम चेहरा आजम खान को सौंपी गई है ।

मुस्लिम वोटों पर है नजर

एक वीडियों के जरिये मायावती अल्पसंख्यक समाज के लोगों को अपना वोट खराब ना करने की सलाह दे रही हैं । तो आजम खान मायावती के 10 साल पुराने एक बयान को खूब उछाल रहे हैं । मतलब सारी लड़ाई अब मुस्लिम वोटों के लिए की जा रही हैं । और हो भी क्यों ना ? उत्तर प्रदेश में कुल 20 फीसदी मुस्लिम वोट हैं । और इस बार ये मुस्लिम वोट किस तरफ जाएंगे, इस पर हर पार्टी की नजर है. अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी यादव मुस्लिम समीकरण को सत्ता की चाभी मानती है । तो मायावती दलित-मुस्लिम वोटों के बल पर दोबारा यूपी की गद्दी पाने की जुगत में लगी हुई हैं ।



यूपी में क्यों अहम हैं मुस्लिम ?

सवाल ये खड़ा होता है कि आखिर चुनाव आते ही मुस्लमान इतने अहम क्यों हो जाते हैं । दरअसल उत्तर प्रदेश में विधानसभा की 403 सीटें हैं । जिनमें से 143 सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम मतदाता ज्यादा हैं. 2012 में इन 143 सीटों में से 72 सीटें समाजवादी पार्टी को मिली थीं । जबकि बीएसपी को 26, बीजेपी को 26 और कांग्रेस-आरएलडी गठबंधन को सिर्फ 14 सीटें मिली थीं । यानी सबसे ज्यादा सीटे समाजवादी पार्टी को मिली जबकि बीजेपी औप बीएसपी को 26 सीटों से संतोष करना पड़ा । और ये ही एक बड़ी वजह समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के गठबंधन की है । और इसी वजह से मायावती का भी डर बढ़ गया है । मायावती को लगता है कि कहीं इस बार सारा मुस्लिम वोट एसपी और कांग्रेस के इस गठबंधन की तरफ ना ट्रांस्फर हो जाए । इसीलिए मायावती अपनी हर रैली में खास तौर से मुस्लिम मतदाताओं से वोट देने की अपीलकरना नहीं भूलतीं हैं । इसीलिए मायावती ने 97 मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट भी दिया है ।



बयानों के जरिये ध्रुवीकरण की कोशिश

एक तरफ समाजवादी पार्टी और मायावती मुसलमानों का रुख अपनी तरफ करने में लगी है । तो बीजेपी अपने पुराने हिन्दुत्व के एजेंडे की तरफ लौट रही है । जिसके पीछे सोच बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की है । हालांकि इसकी नींव अमित शाह ने बीजेपी के घोषणा पत्र जारी करते वक्त ही रख दी थी । शाह का पहला दांव था बाबरी विवादित ढांचा, दूसरा दांव था स्लॉटर हाउसों पर पाबंदी और तीसरा दांव था पलायन । ये तीनों वो ही मुद्दे हैं जिनके जरिये बीजेपी वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश करती रही है । अमित शाह का यूपी में मशीनि स्लॉटर हाउस बंद करने वाला बयान अपने कोर वोटर को एक संदेश था । असल में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह पिछले लोकसभा चुनाव के वक्त भी यूपी के प्रभारी महासचिव थे । उस वक्त भी बीजेपी ने विकास के एजेंडे के साथ-साथ हिंदुत्व के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया था । कोशिश थी वोटों का ध्रुवीकरण । जिसमें बीजेपी कामयाब भी रही थी । एक बार फिर अमित शाह यूपी विधानसभा चुनाव में वोटों का ध्रुवीकरण कर राज्य में बीजेपी की जीत सुनिश्चित करना चाहते हैं ।

मतलब साफ है , उत्तर प्रदेश की सियासत के इस महा समर में सियासत का हर नुमाइंदा शह और मात के खेल में लगा है । कोई मुसलमानों को साधने में लगा है, तो कोई दलितों और स्वर्णों को । सियासत की इस बिसात पर शह और मात का खेल जारी है , जिसका फैसला आगामी 11 मार्च को सामने आ जाएगा ।



अमान अहमद

प्रोड्यूसर

समाचार प्लस

 

इस लेख के विचार पूर्णत: निजी हैं । इनसे samacharplus.com का कोई लेना देना नहीं है ।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: