Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


2016 का अंत सरकार के दो बड़े आर्थिक फैसलों से हुआ है, पहला नोटबंदी और दूसरा GST। हालांकि इन दोनों फैसलों के प्रभाव से आम जनता पूरी तरह से अनजान है। साल 2017 का बजट दो नए बदलावों का भी गवाह बनेगा...

1-  रेल बजट और आम बजट एक साथ पेश होंगे.
2. इस बार फरवरी के पहले हफ्ते में बजट सत्र शुरू होगा.

नोटबंदी से उबर रहे इस दौर में लोगों को मोदी सरकार के इस बजट से काफी उम्मीदें है। देश की जनता वित्त मंत्री अरुण जेटली से काफी उम्मीदें लगाएं बैठी है। खासतौर पर टैक्स के मोर्चे पर, कहा जा रहा है कि डीमोनिटाइजेशन की वजह से अर्थ व्यवस्था पर पड़े असर को साधने के लिए इनकम टैक्स स्लैब से जुड़े कई अहम फैसले किए जा सकते हैं। कारोबारियों से लेकर निवेशकों तक सब लोग जेटली से ऐसे ऐलान की उम्मीद लगाए बैठे हैं जिससे ग्रोथ को रफ्तार मिल सकेगी।
व्यक्तिगत आयकर छूट सीमा मौजूदा 2.5 लाख रुपए से बढ़ाई जा सकती है।

अलग-अलग जानकार और अर्थशास्त्री इस बारे में अलग-अलग राय और अनुमान रखते हैं। कुछ जानकर मानते हैं कि यह लिमिट ढाई लाख रुपए से बढ़ाकर तीन लाख की जा सकती है जबकि कुछ का मानना है कि यह साढ़े तीन लाख तक भी की जा सकती है। पिछले बजट में जेटली ने सेक्शन 80CCD (1) के तहत नेशनल पेंशन स्कीम में निवेश करने पर 50 हजार रुपए अतिरिक्त टैक्स छूट की अनुमति दी थी। यानी, कुल मिलाकर आप 2 लाख रुपए की छूट ले सकते थे। ये  80C और 80CCD दोनों के तहत निवेश करने पर मिलती है। अब इसमें, जानकार कहते हैं कि सेविंग इंट्रेस्ट रेट कम होने के कारण 50 हजार रुपए से ढाई लाख रुपए तक की छूट मिलनी चाहिए।

दूसरी तरफ जीएसटी के अमल को लेकर अब भी बहुत से सवाल बाकी हैं। उम्मीद की जा रही है कि ऐसे काफी सवालों का जवाब जेटली साहब के इस बजट में मिल सकता है। हालांकि जीएसटी लागू करने का एक मकसद टैक्स स्लैब को सरल बनाना भी है। लिहाजा इस बात पर भी नजर रहेगी कि कपड़ा, सीमेंट, ऑटो जैसे उद्योगों में अलग-अलग उत्पाद शुल्क का जो इंतेजाम हैं, उसे किस हद तक एकरूप बनाया जा सकता है। वहीं जीएसटी का एक असर यह भी होगा कि बहुत-सी मौजूदा रियायतें खत्म की जा सकती हैं।

जीएसटी के अलावा किसानों के लिए इस बजट से काफी उम्मीदें हैं। खास तौर पर ऐसे वक्त में जब हमारे किसान आत्महत्या करने पर मजबूर हो रहे हैं। विकास ब्रांडेड सरकार की एक कल्पना नहीं, बल्कि वास्तविक जरूरत है। राष्ट्रवाद की तरह यह सिर्फ एक जोश बढ़ाने वाली चीज नहीं है। हकीकत तो ये है कि बदलाव के लिए हमें अपने रास्ते को उत्पादन के बजाय प्रॉफिट पर लाना पड़ेगा। एक तरफ 'इंडिया' है, जो डिजिटल है, कॉरपोरेट है और दुनिया के साथ कदम से कदम मिलाकर चल रहा है।

दूसरी तरफ 'भारत' है जो मिट्टी का एहसास कराता है और 'इंडिया' के लिए अनाज उगाता है। एक और अहम बदलाव फल और सब्जियों को एपीएमसी ऐक्ट से बाहर ले जाने का है। इसके पीछे दलील है कि इससे बड़ी संख्या में किसानों को मदद मिलेगी। फल और सब्जियों के उत्पादन के मामले में भारत दुनिया में दूसरे नंबर पर है। नेशनल हॉर्टीकल्चर बोर्ड के मुताबिक, 2014-15 के दौरान भारत में फलों का उत्पादन 86.602 मिलियन मीट्रिक टन रहा। इसी दौरान सब्जियों का उत्पादन 169.478 मिलियन मीट्रिक टन रहा। इस दौरान फलों का पैदावार क्षेत्र 6.110 मिलियन हेक्टेयर रहा। सब्जियों का जुताई क्षेत्र 9.542 मिलियन हेक्टेयर रहा।

मतलब 'अच्छे दिनों' के इस दौर में उम्मीदें तो बहुत हैं, लेकिन 1 फरवरी को जेटली जी के पिटारे क्या ऐलान किए जाएंगे उसपर देश की निगाहें टिकी हुई है।

संबंधित समाचार

:
:
: