Headline • आगरा के बाजार में चमत्कार को नमस्कार, मोदी नाम का चूर्ण बेच रही कंपनी• न्‍यासा देवगन फिल्‍म इंडस्‍ट्री में अपना लक आजमायेंगी ? अजय देवगन ने की खुलकर बात• चीन को 28 साल में सबसे बड़ा झटका, अर्थव्यवस्था न्यूनतम स्तर पर पहुंची• यूपी 69 हजार शिक्षक भर्ती पर 28 जनवरी तक रोक• कर्नाटक: सिद्धगंगा मठ के मठाधीश शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन• Amazon ग्रेट इंडियन सेल: तीन दिनों की शानदार डील• मेक्सिको ईंधन पाइपलाइन ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 85 हो गया।• विपक्ष का गठबंधन नकारात्मकता और भ्रष्टाचार का है :पीएम मोदी• धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

:
:
: