Headline • सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा• बस्ती : खराब बस को धक्का लगा रहे यात्रियों को ट्रक ने कुचला, 6 की दर्दनाक मौत• विवेक तिवारी हत्याकांड :'पुलिस अंकल, आप गाड़ी रोकेंगे तो पापा रुक जाएंगे... Please गोली मत मारियेगा'• लखीमपुर खीरी के यतीश ने तोड़ा लगातार पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 123 घंटे पढ़कर बनाया कीर्तिमान• रुद्रप्रयाग : अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरी कार • फाइनल में सेंचुरी बनाने वाले लिटन दास को क्यों कहना पड़ा, मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता• ललितपुर : SDM ने होमगार्ड की राइफल से गोली मारकर की आत्महत्या• टेनिस की इस खिलाड़ी ने किया टॉपलेस वीडियो, कारण जानकार आप भी करने लगेंगे तारीफ• इंडोनेशिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 800 पार पहुंची, अभी भी कई इलाकों में नहीं पहुंचा राहत दल• मेरठ : हिस्ट्रीशीटर की चाकुओं से गोदकर हत्या• एशिया कप के साथ फोटो शेयर कर इशारों इशारों में  बुमराह ने राजस्थान पुलिस को मारा ताना• तनुश्री के सपोर्ट में आईं कई हिरोईन तो नाना के समर्थन में आईं राखी सावंत, कहा, मरते दम तक साथ दूंगी• SHO और मुंशी के टॉर्चर से परेशान होकर महिला सिपाही ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में हुआ खुलासा• मामा-भांजी को पेड़ से बांधकर की पिटाई, चचिया ससुर ने बदला लेने के  लिए किया ऐसा घिनौना काम• बदनामी के बीच आई यूपी पुलिस की एक ईमानदार छवि, केस से नाम हटाने को 4 लाख देने वाले को जेल भेजा• इस दिन रिलीज हो रहा है कंगना की मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का टीजर• पुलिस के आतंक से पुरुषों ने गांव छोड़ा, दो पक्षों के झगड़े में सिपाही के घायल होने पर गांव में पुलिस का तांडव• स्वामी प्रसाद का सपा पर हमला, कहा-अखिलेश ने गरीब के पैसे और साइकिल कार्यकर्ताओं में बांट दिए


यूपी की राजनीति का देश की राजनीति में विशेष महत्व है स्वभाविक है कि यूपी विधान सभा के आने वाले चुनाव भी बहुत अहमियत रखते हैं।

लेकिन पिछले दो साल से चुनाव आने के पहले से ही जिस व्याकुलता से राजनीतिक दल बदजुबानी की बिसात बिछाने में जुटते हैं उससे ये चुनाव भी अछूता नहीं रहने वाला। आगाज हो चुका है और अंजाम कि परवाह नहीं सिर्फ जीत की परवाह है।

चुनावी जंग में अगर सिद्धांतों की बात की जाए तो यह सिरे से ही एक जुमला कहा जाएगा क्योंकि इसका मकसद सिर्फ ये होता है कि जीत किस प्रकार हासिल की जाए। जब देश के सबसे बड़े आबादी वाले प्रदेश में चुनावी बिसात की बात आती है तो ये और भी दिलचस्प हो जाता है।

अब तक सपा और बसपा के जुबानी जंग की बात की जाती थी लेकिन इस बार चुनाव से पहले दयाशंकर सहित अन्य नेताओं ने भी बदजुबानी की प्रतियोगिता में बढ़चढ़ कर शामिल होने की ठान रखी है।

कई नेता इसी की तैयारी कर रहे होंगे तो कईयों के लिए ये उनके स्वभाविक आदत है। सपा और बसपा में पिछले कई दशक से हाई कमांड संस्क़ृति समान रूप से लागू है। मगर कांग्रेस भाजपा भी इस बार पीछे हटती हुई नहीं दिखाई दे रहीं।

सार्वजनिक लोग बदजुबानी क्यों करते हैं इस सवाल का जवाब बड़ा सीधा है कि मीडिया इनको तवज्जो देता है। डिबेट होता है प्रतिक्रियाएं होती हैं और आम दिनों में स्क्रीन पर कभी ना दिखने वाले नेताओं की दुकान चल पड़ती है।

जाहिर है, मीडिया में छाने और वोटरों को बरगलाने की तैयारियां हर स्तर पर चल रही हैं। यूपी का चुनावी समीकरण अभी बेशक उलझा हुआ हो। किंतु इतना तो निश्चित ही लग रहा है कि मुख्य रूप से सपा, बसपा औऱ भाजपा ही मुख्य लड़ाई में रहने वाले हैं। कांग्रेस सहित दूसरे दलों की स्थिति का भा पता चल जाएगा। मगर इस समय दिखने वाले तीनों चुनावी महारथी यानि कि सपा बसपा और भाजपा अपने अपने रिजर्व वोट का दावा करते हैं मगर अंदर ही अंदर समीकरण को दुरूस्त करने की कवायद भी करते रहते हैं। जाहिर है कि राजनीतिक दलों के लिए वोटर-समीकरण को अपने पक्ष में करने का सबसे आसान तरीका बदजुबानी दिखती है।

लेकिन 2017 के चुनावी समर में उतरने के लिए बदजुबानी के तलवार की धार तेज कर रहे नेताओं को 2014 के आम चुनाव को याद करना चाहिए जब लगभग सारे नेताओं ने अपनी गरिमा पूरी तरह खो दी थी।

नेताओं ने एक दूसरे की अत्यंत निजी क्षणों को तलाश करने में पसीना बहाया था लेकिन देश के वोटरों ने देश के दिन बदलने और विकास की रफ्तार पर ले जाने का दावा करने वाले नरेंद्र मोदी और गैर पेशेवर राजनीति के प्रतीक के रूप में खुद को स्थापित करने की कोशिश करने वाले अरविंद केजरीवाल को सिर-आंखों पर बिठाया था।

बावजूद इसके एक साल बीतते बीतते सारे दलों के नेता इस सबक को भूल गए और 2015 के बिहार विधान सभा चुनाव में बदजुबानी की सारी हदें पार कर दीं। बिहार विधानसभा के चुनाव में ऐसी कोई सभा नहीं हुई जिसे संबोधित करने वाले नेताओं ने हदें ना पार की हों। चुनाव आयोग के दखल पर कई मुकदमे भी दर्ज हुए मगर ना तो उसका असर नेताओं पर पड़ा और ना ही चुनाव बाद इन मुकदमों को कोई याद रखता है।

2014 के आम चुनाव और 2015 के विधानसभा के चुनावी समर में उतरे सभी राजनीतिक दलों के नेताओं ने अपनी बदजुबानी से लोकतंत्र को दागदार किया। करोड़ो रूपये बहाने का साथ साथ जुबान भी बेलगाम हो गए। 

इस बार भी आगाज कुछ अच्छा नहीं है बदजुबानी के लिए फोकस में रहने वाले नेता तैयारी कर रहे होंगे। लेकिन ऐसे नेताओं को बदजुबानी का शब्दकोष भरते समय 2014-2015 के चुनाव नतीजों को याद रखना होगा।

(लेखक आलोक वर्मा समाचार प्लस के एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं)
 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: