Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी


गाजियाबाद- मेरठ रोड औद्योगिक क्षेत्र स्थित रामचमेली चड्ढा विश्वास ग‌र्ल्स कॉलेज में मंगलवार को बीसीए और बीएससी गृहविज्ञान प्रथम वर्ष की 21 छात्राएं परीक्षा नहीं दे सकी। उनके लिए कॉलेज में पेपर ही नहीं आया था।
दोनों कक्षाओं की छात्राओं ने अभिभावकों संग कॉलेज में हंगामा किया। छात्राओं ने कॉलेज प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाया है। कॉलेज प्रशासन ने दो कर्मचारियों को निलंबित करते हुए चौधरी चरण सिंह (सीसीएस) यूनिवर्सिटी पर ठीकरा फोड़ा है। प्रशासन का कहना है कि कॉलेज की तरफ से कई प्रयास के बाद भी यूनिवर्सिटी ने छात्राओं के दाखिला को मंजूरी नहीं दी। अब कॉलेज प्रशासन न हाइकोर्ट में अपील का आश्वासन दिया है। इससे छात्राओं का भविष्य अधर में लटक गया है।
मंगलवार को चौधरी चरण सिंह यूनिवर्सिटी की सम सेमेस्टर परीक्षाओं की शुरुआत हुई। राम चमेली चड्ढा विश्वास ग‌र्ल्स कॉलेज में बीसीए में गणित और बीएससी होम साइंस में अंग्रेजी का पेपर सुबह दस से लेकर एक बजे की पाली में होना था। परीक्षा देने पहुंची छात्राओं को पेपर न होने की जानकारी मिली। इसके बाद छात्राओं ने फोन कर अपने अभिभावकों को इसकी जानकारी दी। अभिभावकों के कॉलेज पहुंचते ही हंगामा शुरू हो गया। अभिभावकों ने कॉलेज पर फर्जी एडमिशन कराने का आरोप लगाया। प्राचार्य आरसी शर्मा से अभिभावकों की तीखी नोंकझोंक भी हुई। हंगामे की सूचना पर कॉलेज मैनेजमेंट कमिटी के अध्यक्ष धरणीधर, एसडीएम नितिन मदान और सिहानी गेट कोतवाली प्रभारी कॉलेज पहुंच गए। अधिकारियों ने अभिभावकों और छात्राओं की बात सुनी।

दरअसल, कॉलेज में बीएससी होम साइंस और बीसीए में यूनिवर्सिटी से 120-120 सीटें अलॉट हैं। इनमें बीएससी होम साइंस में इस बार 14 छात्राओं के दाखिले लिए गए और बीसीए में चार छात्राओं के दाखिले लिए गए। जबकि तीन छात्राओं ने किसी अन्य कोर्स में आवेदन किया था। मेरिट में नाम आने पर उनका प्रवेश भी बीएससी होम साइंस में कर दिया गया। सभी छात्राओं के एडमिशन यूनिवर्सिटी से कंफर्म नहीं हुए। कॉलेज ने प्रयास किए लेकिन हल कुछ नहीं निकला।

कॉलेज ने दो को किया सस्पेंड

21 छात्राओं की साल बर्बाद होने की आशंका पर कॉलेज प्रशासन ने ऑफिस सुपरिटेंडेंट धीरेंद्र प्रताप ध्यानी और एडमिशन इंचार्ज शशि खन्ना को सस्पेंड कर दिया। कॉलेज मैनेजमेंट ने दोनों के खिलाफ जांच के लिए कमिटी का भी गठन किया है।

संबंधित समाचार

:
:
: