Headline • पीएम मोदी का लोकसभा चुनाव के शानदार प्रदर्शन पर ट्वीट साथ+सबका विकास+सबका विश्वास=विजयी भारत। • लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: अमेठी में राहुल और स्मृति के बीच कड़ी टक्कर• लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: राजनीति में गंभीर की शानदार पारी, बड़ी जीत की ओर • लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: PM मोदी की सुनामी लहर में ढहा UPA• फ्रांस में भारतीय वायु सेना के राफेल कार्यालय पर कुछ अज्ञात लोगों द्वारा की गई तोड़फोड़ • चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी की पर्चियों के ईवीएम से मिलान को लेकर विपक्षी दलों की मांग को किया खारिज • लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश फर्जी एग्जिट पोल से न हों निराश• ब्राजील के बार में हमलावरों ने की अंधाधुंध फायरिंग, 11 लोगों की हुई • कांग्रेस ने नकारा एग्जिट पोल कहा इसके विपरीत होगा चुनाव परिणाम • एग्जिट पोल में एक बार फिर मोदी सरकार, चुनाव आयोग से किया आग्रह • चीन के लिए जासूसी कर रहें पूर्व सीआइए अफसर को अमेरिका ने को सुनाई 20 साल की सजा• PM पद के लिए राहुल गांधी को मिला जेडीएस प्रमुख देवगौड़ा का समर्थन• लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी और अमित शाह की पहली संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस • समलैंगिक विवाह को ताइवान ने दिया वैधानिक दर्जा • साध्‍वी प्रज्ञा पर बोले पीएम मोदी ''मैं उन्‍हें कभी माफ नही कर पाऊंगा''• ऑस्ट्रिया सरकार ने प्राथमिक स्कूलों की लड़कियों के हिजाब पर प्रतिबंध लगाने का कानून पारित किया• लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग पर बरसीं ममता बनर्जी, चुनाव आयोग को BJP का भाई बताया • राहुल का पीएम मोदी पर हमला पीएम सोचते हैं एक व्यक्ति देश चला सकता है• बंगाल में अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के विरोध में जंतर-मंतर पर भाजपा का प्रदर्शन• बंगाल में रोड शो से पहले मोदी-शाह के पोस्टर उतरे • मैं कभी PM के परिवार का नहीं करूंगा अपमान: राहुल गांधी• भारत को ही क्‍यों बेच रहा एफ-21 लड़ाकू विमान अमेरिका • बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर सादा निशाना• PM मोदी पर मायावती के विवादित बयान पर जेटली का हमला किसी पद के लायक नहीं बसपा सुप्रीमो• विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे के खिलाफ स्‍वीडन में दोबारा खुल सकता है यौन उत्‍पीड़न मामला

वकीलों का पांच जनवरी तक कार्य बहिष्कार

इलाहाबाद- वेस्टर्न यूपी में इलाहाबाद हाईकोर्ट की अलग बेंच बनाए जाने के केंद्र सरकार के प्रस्ताव के विरोध में इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकील आज से काम- काज ठप्प कर पांच जनवरी तक के लिए हड़ताल पर चले गए हैं। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की आमसभा में आज फैसला लिया गया है कि यहां के वकील अब पांच जनवरी तक हड़ताल पर रहेंगे और कोई भी न्यायिक कार्य नहीं करेंगे। इस दौरान किस तरह का आंदोलन किया जाएगा, इसकी रणनीति सोमवार को आम सभा की अगली बैठक में तय की जाएगी। हाईकोर्ट बार एसोसिएशन का मानना है कि हाईकोर्ट का बंटवारा न्याय प्रक्रिया का बंटवारा है, जिसे किसी भी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

गौरतलब है कि वेस्टर्न यूपी के वकील मेरठ या आगरा में हाईकोर्ट की अलग बेंच बनाए जाने की मांग को लेकर पिछले काफी दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। आज केंद्रीय मंत्री सदानंद गौड़ा और संजीव बालियान का बयान सामने आने के बाद हाईकोर्ट के वकीलों को यह पता चला कि केंद्र सरकार इसी महीने मंत्रिपरिषद की बैठक में हाईकोर्ट की अलग बेंच के मुद्दे पर विचार करने के बाद कोई फैसला करने नहीं जा रही है। इस बयान के सामने आने के बाद हाईकोर्ट के वकीलों आक्रोषित हो गए, और वकीलों ने पांच जनवरी तक काम काज छोड़कर हड़ताल पर जाने का एलान कर दिया गया। 

सामूहिक विवाह का आयोजन

इलाहाबाद- इलाहाबाद में पिछड़ा वर्ग विकास समिति की ओर से सर्वसमाज सामूहिक विवाह में 51 जोड़ों की शादी करवाई गई। इस विवाह समारोह में जहां हिन्दू सामज और मुस्लिम समाज के लोगों ने एक साथ शादी कर , शांति की एक ओर मिसाल कायम की है।सभी 51 जोड़ों की हिन्दू रीति रिवाज के साथ विवाह के पवित्र बंधन में बंधे। रामबाग स्थित सेवा समिति विद्या मंदिर में विधि-विधान के साथ विवाह सम्पन्न किए गए। इस दौरान पांच आदिवासी जोड़े, छह ब्राह्मण, पांच कायस्थ, 14 दलित, 20 पिछड़ी जातियों के जोड़े परिणय बंधन में बंधे। वहीं काजी की मौजूदगी में रीति के मुताबिक मसीद-रुक्सा का निकाह भी हुआ।बारात महर्षि भारद्वाज विद्या मंदिर विद्यालय से निकलकर विद्या मंदिर मैदान पहुंची।

इलाहाबाद हाईकार्ट ने लगाई फटकार

 इलाहाबाद- इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने कहा है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग को मौत के मामलों में जुर्माना लगाने का अधिकार नहीं है। कोर्ट ने यह आदेश गजीपुर जिले के थाना दिलदारनगर के तत्कालीन थानाध्यक्ष श्यामबाबू की याचिका पर दिया है। कोर्ट ने दारोगा के खिलाफ मानवाधिकार आयोग द्वारा अभिरक्षा में हुई मौत के मामले में दारोगा से दो लाख रूपये की वसूली के आदेश पर रोक लगा दी है। न्यायालय ने आयोग के निर्देश पर की जा रही ,सपी और प्रदेश सरकार की कार्रवाई पर भी रोक लगा दी है।

यह आदेश न्यायमूर्ति बी-अमित स्थालेकर ने दारोगा श्यामबाबू की याचिका पर दिया है। याची वर्तमान में जीआरपी भीमसेन कानपुर नगर में तैनात है। न्यायालय ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग व ,सपी तथा प्रदेश सरकार के आदेशों पर रोक लगाते हएु, विपक्षियों से छह सप्ताह में जवाब मांगा है। इस याचिका पर कोर्ट छह सप्ताह बाद सुनवाई करेगी।
 
मामले के अनुसार गाजीपुर जिले के थाना दिलदारनगर में वर्ष 2011 में थाने में पुलिस अभिरक्षा में शंभू सिंह कुशवाहा की मौत हो गयी थी। इस मामले में मानवाधिकार ने जांच की तथा याची समेत दो पुलिसकर्मियों पर तीन लाख रूपया जुर्माना लगाया था तथा निर्देश दिया था कि विभागीय कर इन दोषी पुलिसकर्मियों से जुर्माना की राशि वसूली जा,। याची के अधिवक्ता विजय गौतम का तर्क था कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयेाग को इस प्रकार आदेश पारित करने का अधिकार नहीं है। अधिवक्ता का तर्क था कि आयोग केवल जुर्माना की संस्तुति कर सकता है।

छात्रों ने प्रधानमंत्री का पुतला जलाया

इलाहाबाद- बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी में छात्रसंघ बहाली को लेकर छात्र लगातार आंदोलन कर रहे हैं। उनकी मांग है की छात्र संघ बहाल कर के जल्द से जल्द चुनाव कार्य जाएं, इसके लिए कई बार छात्रों का प्रदर्शन हिंसक भी हो गया पर अभी तक बीएचयू प्रशासन ने इस पर कोई कदम नहीं उठाया। छात्रों का आंदोलन अब इलाहाबाद यूनिवर्सिटी तक पहुंच रहा है। आज इलाहाबाद यूनिवर्सिटी के छात्रों ने और समाजवादी छात्र सभा के कार्यकर्ताओं ने केंद्र सरकार और प्रधानमन्त्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और पुतला जलाया। समाजवादी छात्रों का कहना है कि भाजपा छात्र हितों की विरोधी है इस लिए वो बीएचयू में चुनाव नहीं कराना चाहती है साथ इन नेताओं ने चेतावनी भी दी की यदि चुनाव जल्द नहीं कराये गए तो सारे छात्र आंदोलन करने के लिए सड़कों पर उतरेंगे और इलाहाबाद से लेकर बनारस तक अपना आंदोलन चलाएंगे।

 

 

काॅलेज परिसर में छात्रों का हंगामा

इलाहाबाद- इलाहाबाद के सीएमपी डिग्री काॅलेज में प्रॉक्टर को हटाये जाने की मांग को लेकर खूब हंगामा हुआ। छात्रों की मांग है की प्रॉक्टर पर पहले यौन शोषण का गंभीर आरोप लगा था फिर भी उनको यहाँ का प्रॉक्टर बनाया गया है, छात्र मांग कर रहे हैं कि प्राॅक्टर को काॅलेज से हटाया जाए। कई बार इन छात्रों ने इसकी शिकायत की लेकिन काॅलेज प्रशासन से सिर्फ आष्वासन ही मिला ,इससे नाराज छात्र काॅलेज की छत पर चढ़ गए और हंगामा करने लगे।

:
:
: