Headline • चीन के लिए जासूसी कर रहें पूर्व सीआइए अफसर को अमेरिका ने को सुनाई 20 साल की सजा• PM पद के लिए राहुल गांधी का मिला जेडीएस प्रमुख देवगौड़ा का समर्थन• लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी और अमित शाह की पहली संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस • समलैंगिक विवाह को ताइवान ने दिया वैधानिक दर्जा • साध्‍वी प्रज्ञा पर बोले पीएम मोदी ''मैं उन्‍हें कभी माफ नही कर पाऊंगा''• ऑस्ट्रिया सरकार ने प्राथमिक स्कूलों की लड़कियों के हिजाब पर प्रतिबंध लगाने का कानून पारित किया• लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग पर बरसीं ममता बनर्जी, चुनाव आयोग को BJP का भाई बताया • राहुल का पीएम मोदी पर हमला पीएम सोचते हैं एक व्यक्ति देश चला सकता है• बंगाल में अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के विरोध में जंतर-मंतर पर भाजपा का प्रदर्शन• बंगाल में रोड शो से पहले मोदी-शाह के पोस्टर उतरे • मैं कभी PM के परिवार का नहीं करूंगा अपमान: राहुल गांधी• भारत को ही क्‍यों बेच रहा एफ-21 लड़ाकू विमान अमेरिका • बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर सादा निशाना• PM मोदी पर मायावती के विवादित बयान पर जेटली का हमला किसी पद के लायक नहीं बसपा सुप्रीमो• विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे के खिलाफ स्‍वीडन में दोबारा खुल सकता है यौन उत्‍पीड़न मामला• ममता के घर में अमित शाह की दहाड़ हिम्मत है तो करो मुझे गिरफ्तार• ट्विटर ने हटाए कई पाकिस्‍तानी अकाउंट, पाक सरकार ने लगाए थे देश नियमों के उल्‍लंघन का आरोप• कोई भी देश कमजोर सरकारों के होते शक्तिशाली नहीं बन सकता: PM मोदी• भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी मालवाहक विमान को वायुसेना ने जयपुर एयरपोर्ट पर उतरवाया• फ्रांस के स्‍कूल में भेड़ों का दाखिला • सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या भूमि विवाद की मध्यस्थता प्रक्रिया के लिए 15 अगस्त तक का समय बढ़ाया • दक्षिण चीन सागर में अमेरिका, भारत, जापान और फिलीपींस ने मिलकर किया सैन्य अभ्यास• प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान AAP उम्मीदवार आतिशी ने लगाए गौतम गंभीर पर आरोप• पीएम मोदी द्धारा पूर्व पीएम राजीव गांधी पर दिये गये बयान के बचाव में उतरी कांग्रेस• आईपीएल 2019: मुंबई के खिलाफ हार के बाद भड़के धोनी

दारोगा ने वकील को मारी गोली, वकीलों ने कई गाडि़यों में लगाई आग

इलाहाबाद- इलाहाबाद के कर्नलगंज थाने इलाके में बुधवार को एक दारोगा के वकील को गोली मार दी। वकील का नाम नवी अहमद, जिसकी इलाज के दौरान मृत्यु हो गई। इस घटना के बाद आरोपी दारोगा शैलेंद्र सिंह फरार हो गया है। वहींए वकील को गोली मारने की घटना के बाद साथी वकीलों ने जमकर हंगामा किया, कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया। 

मामले को शांत करन के लिए मौके पर पहुंची पुलिस और वकील के बीच हिंसक झड़प हुई। दोनों तरफ से पत्थरबाजी की जा रही है। इस घटना में कई पुलिस वालों के घायल होने की आशंका भी जताई जा रही है। फिलहालए अभी तक पूरे मामले की आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई है। प्रशासन ने कई थानों की पुलिस को कर्नलगंज इलाके में बुला लिया है।

बताया जा रहा है किए दारोगा ने पुरानी रंजिश के चलते वकील को गोली मारी है। दो वकीलों के साथ हुई कहासुनी के बाद दारोगा शैलेंद्र सिंह ने अपने रिवाल्वर से एक को गोली मार दी है।

 

ओवैसी की इलाहाबाद रैली की मंजूरी रद्द

इलाहाबाद - यूपी में 2017 के चुनाव को लेकर सियासी रण अभी से तैयार हो रहा है। बीजेपी और औवेसी यूपी में अपने सियासी कद को बढ़ाने के लिए अभी से कोशिशें कर रही है। औवेसी 15 मार्च को इलाहाबाद मे रैली करने वाली थी, पहले इस रैली को प्रशासन ने मंजूरी दे दी थी,  लेकिन अब औवेसी की 15 मार्च को होने वाली रैली को रद्द कर दिया गया है। प्रशासन ने रैली रद्द करने के पीछे बोर्ड एग्जाम का हवाला दिया है। 

बता दें कि, औवेसी की 15 मार्च को होने वाली रैली को प्रशासन ने 4 मार्च को मंजूरी दे दी थी।  इस रैली को आॅल इंडिया मजलिस-ए-इत्त्सेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी संबोधित करने वाले थे। 

रैली की मंजूरी कैंसिल होने के बाद । AIMIM के स्टेट संयोजक शौकत अली का कहना है कि जिस तरह से पहले मंजूरी मिलती है और बाद में उसे रद्द कर दिया जाता हैए उससे यह साफ है कि समाजवादी पार्टी ।AIMIM  के यूपी में आने से घबरा रही है।

शौकत के मुताबिक बुधवार को एडवोकेट सलमान नकवी के माध्यम से पार्टी रैली के लिए हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी। इसके अलावा गवर्नर राम नाईक से भी जिला प्रशासन की शिकायत की जाएगी। गवर्नर को बताया जाएगा कि किस तरह इलाहाबाद का जिला प्रशासन सपा के दबाव में ओवैसी की रैली के लिए अनुमति नहीं दे रहा है। शौकत के मुताबिक गवर्नर का समय लेने के लिए कोशिश की जा रही है।

गौरतलब है कि, औवेसी की यूपी में रैली को पहली बार रद्द नहीं किया गया। इससे पहले भी यूपी प्रशासन द्वारा औवेसी की चार रैलियों को मंजूरी नहीं दी गई। औवेसी की इलाहाबाद रैली तो रद्द कर दी गई अब औवेसी की 29 मार्च को आगरा में प्रस्तावित कार्यक्रम पर भी खतरे के बादल मंडराने लगे हैं।

 

 

युवा कांग्रेसियों के निशाने पर आए राहुल गांधी

इलाहाबाद- राहुल गांधी के छुट्टी पर जाने से युवा कांग्रेसियों ने जमकर हंगामा किया। राहुल गांधी पर कार्यकर्ताओं को हतोत्साहित करने का आरोप लगाते हुए युवा नेताओं ने फिर से पोस्टर वार छेड़ दिया है। पोस्टर में लिखा है 'छुट्टी पर जब जाएं राहुल गांधी कार्यवाहक उपाध्यक्ष बनें प्रियंका गांधी।'

इलाहाबाद में राहुल गांधी के छुट्टी पर जाते ही कांग्रेसियों ने एक बार फिर प्रियंका गांधी का नाम उछाला और विवादित पोस्टर के साथ धरना-प्रदर्शन किया।

 प्रियंका के समर्थकों ने सोनिया गांधी को पत्र भेजकर मांग की है कि प्रियंका को पूरी तरह से कांग्रेस की कमान सौंप दी जाए। पार्टी में आए दिन नया विवाद पैदा करने में कांग्रेस के पूर्व सचिव हसीब अहमद और श्रीश चंद्र दुबे ने एक बार फिर तमाम कार्यकर्त्ताओं के साथ आनंद भवन पहुंचे और पोस्टर के साथ धरना.प्रदर्शन शुरू कर दिया।

डेढ़ बरस से कांग्रेस में युवाओं का एक गुट प्रियंका गांधी को राजनीति में लाने की मांग कर रहा है। इसको लेकर आए दिन पोस्टर व बैनर वार छेड़ा जाता है।

गौरलतब है कि बजट सत्र के पहले ही दिन कांग्रेस के युवराज राहुल गांधी के छुट्टी पर चले जाने से पार्टी कार्यकर्ताओं और विपक्ष ने खूब हंगामा किया। कांग्रेस कार्यकर्ता अपने नेता के छुट्टी पर जाने से इतने नाराज हैं कि सड़कों पर उतर आए।

 

इलाहाबाद में प्रेम और एकता की होली

 इलाहाबाद- संगम नगरी इलाहाबाद में होली के तीसरे दिन भी रंग खेलने का सिलसिला जारी है। आज ठठेरी बाजार में लाल हरे अबीर और रंगों से होली खेली जा रही है। ठठेरी बाजार की इस मशहूर होली की खासियत यह है कि यह शहर के जामा मस्जिद की गली में खेली जाती है। इस होली में हिन्दुओं के साथ ही मुसलमान भाई भी जमकर रंगों का आनंद लेते है और एक दूसरे को अबीर गुलाल लगाकर प्रेम भाईचारे का पर्व मनाते है। ठठेरी बाजार की इस प्रेम और एकता की होली को देखने के लिये आसपास के लोगो का मजमा लगा रहता है। लोग साल भर तक इस अनोखे और यादगार पल का इंतजार करते है। ठठेरी बाजार की होली गंगा जमुनी तहजीब की मिसाल है जहां हिन्दू मुसलमान मिलकर एक दूसरे को रंग लगाकर रंगों के इस त्यौहार की खुशी को और बढ़ा देते है। 

रेलवे ट्रैक पर पत्थर गिरने से हादसा- मनोज सिन्हा

इलाहाबाद- रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने आज सुबह बेंगलुरु के पास हुए ट्रेन हादसे में किसी साजिश की आशंका से इंकार किया है। उनका कहना है कि यह हादसा रेलवे ट्रैक पर पत्थर गिरने की वजह से हुआ है। पहाड़ी इलाका होने की वजह से वहां अक्सर ही पहाड़ों से पत्थर गिरते रहते हैं। उनके मुताबिक़ रेलवे सेफ्टी कमिश्नर को हादसे की जांच के आदेश दिए गए हैं। रेलवे के कई बड़े अफसर मौके पर पहुँच गए हैं और कैबिनेट मंत्री सुरेश प्रभु भी घटनास्थल के लिए रवाना हो रहे हैं। हादसे में मौत का शिकार हुए लोगों के परिवार वालों को दो- दो लाख रूपये का मुआवजा दिया जाएगा, जबकि गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रूपये की आर्थिक मदद मुहैया कराई जाएगी। ट्रेन पर सवार यात्रियों को सड़क रास्ते से बेंगलुरु पहुंचा दिया गया है।
 
इलाहाबाद में मीडिया से बात करते हुए मनोज सिन्हा ने बताया कि शुरुआती रिपोर्ट में किसी तरह की लापरवाही की बात सामने नहीं आई है। ऐसा लगता है कि हादसा ट्रैक पर पत्थर गिरने की वजह से  हुआ है। सेफ्टी कमिश्नर की जांच रिपोर्ट के बाद ही पूरी हकीकत सामने आ सकेगी। वैसे इसमें किसी तरह की साजिश की कोई आशंका नहीं है। मनोज सिन्हा के मुताबिक़ हादसे के बाद रेल यातायात ठप्प हो गया है, जिसे शुरू करने में शाम तक का वक्त लग सकता है। 

बता दें कि, अनेकल के समीप पटरी पर एक बड़ा पत्थर गिरने से आज बंगलुरु-एर्नाकुलम इंटरसिटी एक्सप्रेस के नौ डिब्बे पटरी से उतर गए, जिससे कम से कम पांच यात्री मारे गए और 60 से अधिक घायल हो गए। घायलों में से कई की हालत गंभीर बताई जाती है। रेलवे ने बताया कि ट्रेन सुबह छह बज कर 15 मिनट पर बंगलुरु से रवाना हुई और 45 किलोमीटर दूर बंगलुरु सिटी-सलेम प्रखंड पर अनेकल रोड और होसुर के मध्य सात बज कर लगभग 35 मिनट पर उसके डिब्बे पटरी से उतर गए।

:
:
: