Headline • सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।

इलाहाबाद: ट्रक-टेम्पो में जोरदार भिड़ंत, 5 की मौत, कई  घायल

इलाहाबाद: इलाहाबाद के औद्योगिक थाना क्षेत्र के मिर्जापुर हाइवे पर आज तड़के ट्रक और टेम्पो में जोरदार टक्कर हो गयी। इस दर्दनाक हादसे में चार लोगों की मौके पर मौत हो गयीए जबकी एक की अस्पताल ले जाते वक्त मौत हो गयी। इस घटना में आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गये हैं। सभी घायलों को इलाज के लिए एसआरएन अस्पताल में भर्ती कराया गया है जहां तीन मजदूरों की हालत गम्भीर बनी हुई है। 

इस हादसे में मरने वाले सभी मजदूर बताए जा रहे हैं। ये लोग इलाहाबाद से करछना जा रहे थे। उसी दौरान मिर्जापुर हाइवे पर डेज मेडिकल चौराहे के पास मिर्जापुर की तरफ से आ रहा ट्रक अनियंत्रित होकर टेम्पो में भिड़ गया।

बताया जा रहा है कि, टेम्पो में सवार लो होली में अपने घर जा रहे थे। इस घटना के बाद मौक पर हड़कंप मच गया।

इलाहाबाद-हाईकोर्ट-की-150वीं-सालगिरह-समारोह-में-पहुंचेंगे-राष्ट्रपति,-कोर्ट-परिसर-सजधज-कर-तैयार

 

इलाहाबाद: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी 13 मार्च को हाईकोर्ट के 150वीं वर्षगांठ पर आयोजित कार्यक्रम में मुख्‍य अतिथि के रूप में हिस्सा लेंगे। हाईकोर्ट की वर्षगांठ के अवसर पर हाईकोर्ट परिसर को दुल्‍हन की तरह सजाया गया है। इस कार्यक्रम में राष्ट्रपति, राज्यपाल और मुख्यमंत्री आ रहे हैं, जिनके स्वागत के लिए तैयारियां पूरी कर ली गई है।

रविवार को हाईकोर्ट के 150 साल पूरे होने के अवसर पर पहली बार कोर्ट परिसर को एक घंटे के लिए आम जनता के लिए खोला गया है।

इलाहाबाद हाईकोर्ट के सालगिरह समारोह में भारत के प्रधान न्यायाधीश टीएस ठाकुर, केंद्रीय विधि मंत्री सदानंद गौड़ा, उच्चतम न्यायालय के कई दूसरे न्यायाधीश और कई दूसरे उच्च न्यायालयों के मुख्य न्यायाधीश भी शामिल होंगे।

हाईकोर्ट के सालगिरह जश्न में 13 से 17 मार्च के बीच कई समारोह आयोजित किए जाएंगे।

इलाहाबाद यूनिर्सिटी की पहली महिला छात्रसंघ अध्यक्ष का प्रवेश फर्जी!

इलाहाबाद: जेएनयू के बाद अब इलाहाबाद विश्वविद्यालय चर्चा में है। इलाहाबाद यूनिर्सिटी में आजादी के बाद पहली बार महिला छात्रसंघ अध्यक्ष बनकर ऋचा सिंह ने जितना बड़ा इतिहास रचा। अब उतने ही बड़े विवादों में भी घिर गई हैं। ऋचा सिंह पर फर्जी तरीके से दाखिला लेने का आरोप है। छात्रनेता रजनीश द्वारा ऋचा सिंह पर लगाए गए आरोपों की जांच हुई है।

प्रोफेसर ए सत्यनारायण की जांच में ये खुलासा हुआ कि आरक्षण नियमों की अनदेखी कर शोधछात्रा को प्रवेश दिया गया। फिलहाल प्रोफेसर ने कुलपति को जांच रिपोर्ट सौंप दी है। अब अगर रिचा सिंह का प्रवेश निरस्त हुआ तो उसे अध्यक्ष की कुर्सी गंवानी पड़ेगी।

बता दें कि, ऋचा सिंह ग्लोबलाइजेशन एण्ड डेवपलपमेंट स्टडीज में शोध छात्रा हैं। शोध में प्रवेश की दो सीटें थी। जिसमें एक सामान्य और एक ओबीसी कोटे के लिए थी। परन्तु नियमों व आरक्षण नीति की अनदेखी कर दोनों सीट सामान्य कर 27 मार्च 2014 को प्रवेश दे दिया गया। इस शिकयत पर कुलपति ने इसकी जांच डीन कला संकाय प्रो ए सत्यनारायण और प्रो वी पी सिंह को सौप दी।  अब जांच में यह बात सामने आई है की ऋचा सिंह का प्रवेश फर्जी था। 

वहीं, ऋचा सिंह का कहना है केंद्र सरकार और भाजपा के इशारे पर उनका उत्पीड़न किया जा रहा है।

उधर, JNU के कन्हैया और इलाहाबाद विश्वविद्यालय की अध्यक्ष ऋचा को भाजपा के फायर ब्रांड नेता योगी आदित्यनाथ ने भटकी हुई आत्मा बताया है। योगी आदित्यनाथ ने तीखे शब्दों में कहा कि किसी भी शिक्षण संस्थान में जिन्ना पैदा नहीं होने दिया जाएगा। योगी ने एक बार फिर दोहराया कि अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का गलत फायदा न उठाया जाए। साथ ही कन्हैया का समर्थन करने वालों को भी चेताया है। योगी आदित्यनाथ ने इस बात पर भी जोर दिया कि कन्हैया को अंतरिम जमानत मिली है और किन शर्तों पर यह न भूलें।

इलाहबाद विवि छात्रसंघ अध्यक्ष ऋचा सिंह को यूपी सरकार देगी लक्ष्मीबाई पुरस्कार

इलाहाबाद- इलाहबाद यूनिवर्सिटी छात्र संघ की विवादित अध्यक्ष ऋचा सिंह को उत्तर प्रदेश सरकार के लक्ष्मीबाई पुरस्कार के लिए चुना है। गौरतलब है राज्य सरकार ने पिछले महीने पुरस्कार प्राप्त करने वाली 86 महिलाओं की सूची का एलान किया था लेकिन उस वक्त उसमें ऋचा सिंह का नाम नहीं था ऋचा को भगवा ब्रिगेड (भाजपा के छात्र संघ) से लगातार लोहा लेने और बीजेपी सांसद योगी आदित्यनाथ को कैम्पस में आमंत्रित किए जाने का विरोध करने के लिए जाना जाता है।

ऋचा ने सोमवार को एक अंग्रेजी अखबार को बताया कि उन्हें इस पुरस्कार क्री प्राप्ति की सूचना इलाहबाद जिला प्राधिकरण से मिली। उन्होंने लखनऊ में महिला दिवस पर यह सम्मान पाने की सूचना एक प्रेस रिलीज जारी कर की है। अखबार को दिए बयान के मुताबिक, डिस्ट्रिक्ट प्रोबेशनरी ऑफिसर पुनीत कुमार मिश्रा ने बताया, 'पुरस्कार प्राप्त करने वाले लोगों की फेहरिस्त में ऋचा का नाम हाल ही में जोड़ा गया और मंगलवार को ही हमने उन्हें यह सूचना दी।' इसके साथ ही ऋचा को यह भी बताया गया कि अखिलेश यादव की सरकार ने विशेषकर यूनिवर्सिटी छात्रों के लिए 5 बसें चलाने की उनकी मांग स्वीकार कर ली हैं। 

आपको बता दें, कि ऋचा ने पिछले साल अक्टूबर में फ्रेंड्स क्लब की टिकट पर यूनिवर्सिटी छात्र संघ का चुनाव जीता था। इस पार्टी को समाजवादी युवजन सभा का समर्थन प्राप्त था। अन्य 4 प्रमुख पद बीजेपी की छात्र इकाई एबीवीपी के उम्मीदवारों ने जीती थीं। तभी से, ऋचा के कैम्पस के परिषद लीडर्स के साथ विवाद बने रहते हैं।

हाल ही में ऋचा के पीएचडी एडमिशन को लेकर भी काफी विवाद हुआ है और उन्होंने इसके लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन को दोषी ठहराया। साल 2015 अक्टूबर में योगी आदित्यनाथ के कैम्पस में आने का उन्होंने पुरजोर विरोध किया था जिससे एबीवीपी के कार्यकर्ता व अधिकारी उनसे खासे नाराज थे।

आला अधिकारी की शर्मनाक करतूत, संगम किनारे पेशाब करते कैमरे में हुए कैद

इलाहाबाद: एक ओर जहाँ भारत सरकार ने गंगा यमुना की सफाई के लिए अलग मंत्रालय बनाया है और उसी के तहत नामामि गंगे प्रोजेक्ट के जरिये उसकी सफाई के लिए करोड़ों रूपए खर्च कर रही है। वहीं उनके ही अफसर गंगा यमुना सरस्वती के त्रिवेणी संगम इलाहाबाद में खुलेआम पेशाब करते दिखाई दे रहे हैं। यमुना नदी में पेशाब करने वाले कोई मामूली अफसर नहीं है बल्कि इलाहाबाद के एडीएम नजूल ओपी श्रीवास्तव साहब हैं।

यमुना किनारे पेशाब करने के आरोपी इलाहाबाद के एडीएम नजूल ओपी श्रीवास्तव ने मीडिया में ख़बरें आने के बाद अपनी सफाई पेश की है। उन्होंने पेशाब करने से साफ़ इंकार करते हुए कहा है कि प्रेस कांफ्रेंस में नाश्ता करने के बाद वह मंच से उतरकर नीचे हाथ धोने के लिए गए थे।

आरोपी एडीएम का कहना है कि उन्होंने वहां सिर्फ हाथ धोया था और पैंट ठीक करने के बाद वापस चले आए थे। उन्होंने पेशाब कर गंदगी फ़ैलाने से साफ़ इंकार किया है।

एडीएम ओपी श्रीवास्तव के मुताबिक़ वह सनातनधर्मी हैं और उन्हें गंगा-यमुना के धार्मिक महत्व का बखूबी अंदाज़ा है। उनके मुताबिक़ उन पर लगे आरोप निराधार हैं।

:
:
: