Headline • रूस के वैज्ञानिकों का दावा 42 हजार साल पहले दफन घोड़े में मिला खून, अब बनाएंगे क्‍लोन • दिनोंदिन आलिया भट्ट और रणबीर कपूर का मजबूत होता रिश्‍ता रह सकते है लिव-इन पर • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा • लीबिया की राजधानी त्रिपोली में गृहयुद्ध की जंग में 205 की मौत, 913 के करीब घायल • लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण की 95 सीटों पर वोटिंग जारी• PM मोदी की फिल्‍म 'पीएम नरेंद्र मोदी' का ट्रेलर यूट्यूब से हटा • साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर बीजेपी में हुई शामिल • फ्रांस की राजधानी पेरिस में स्थित 12वीं सदी का नोटे्र डाम कैथेड्रल चर्च आग लगने से तबाह • प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महाराष्ट्र के माढा क्षेत्र में एक जनसभा को किया संबोधित • जयाप्रदा पर अभद्र टिप्पणी को लेकर महिलाओं ने फूंके आजम खा के पोस्टर• चुनाव आयोग के फैसले को आजम के बेेटे अब्दुल्लाह आजम खान ने मुुुुसलमान विरोधी ठराया • कांग्रेस के इरादे और नीतियां ईमानदार नही धोखाधड़ी में की है पीएचडी: पीएम मोदी• बीजेपी ने गोरखपुर से भोजपुरी स्टार रवि किशन को दिया टिकट• योगी आदित्यनाथ और मायावती पर चुनाव आयोग की कार्यवाही • भारत ने विश्व कप टीम 2019 की घोषणा की, दिनेश कार्तिक इन, ऋषभ पंत और अंबाती रायडू लेफ्ट आउट• UAE के बाद अब रूस देगा पीएम मोदी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान • केजरीवाल का PM मोदी को लेकर विवादित ट्वीट• भारतीय सेना और जवानों की चिट्ठी का मामला गर्माया • राहुल गांधी की सुरक्षा में बड़ी चूक कांग्रेस ने लिखा गृहमंत्री राजनाथ सिंह को पत्र• बीजेपी विधायक के बिगड़े बोल राहुल गांधी नर्सरी का छात्र मोदी जी राजनीति के P.H.D • रैली के दाैैैरान अखिलेश यादव करेंगेे जनसभा कों संबोधित • भाजपा विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैम्पियन फिर एक बार विवादों में • सांसद प्रियंका सिंह रावत का टिकट कटने से आक्रोशित उनके हज़ारो समर्थक• चुनाव आयोग और राजनीतिक दलों की तैयारी पूरी इंतजार 11 अप्रैैैल का• राहुल गांधी तो चुनाव ही नही जीत रहे, तो वो प्रधानमंत्री कहाँ से बनेंगे: मेनका गाँधी

कारोबारी ललित वर्मा के क़त्ल के मामले में बीएसपी की महिला विधायक को मिली क्लीन चिट

इलाहाबाद: इलाहाबाद में तीन फरवरी को हुए कारोबारी ललित वर्मा के क़त्ल के मामले में बीएसपी की महिला विधायक पूजा पाल को क्लीन चिट मिल गई है। इलाहाबाद पुलिस ने क़त्ल की इस सनसनीखेज वारदात का खुलासा करते हुए कहा है कि विधायक पूजा पाल और उनके भाई समेत नामजद कराए गए सभी सात लोगों को फर्जी फंसाया गया था और इस मामले से इन सभी लोगों का कोई लेना - देना नहीं था। पुलिस के मुताबिक़ कारोबारी को उसके चचेरे भाइयों ने ही बेइज़्ज़ती का बदला लेने और बीएसपी विधायक पूजा पाल को फर्जी फंसाने के लिए मौत के घाट उतारा था।

इलाहाबाद में ज्वेलरी का कारोबार करने वाले चालीस साल के ललित वर्मा ने कुछ दिनों पहले अपने चचेरे भाई विक्रम के साथ मिलकर रियल स्टेट का काम भी शुरू किया। शहर के धूमनगंज इलाके में पार्टी का दफ्तर बनाने के लिए बीएसपी विधायक पूजा पाल ने जो ज़मीन ली थी, उसके कुछ हिस्से पर ललित और विक्रम भी अपना हक़ जता रहे थे। दूसरी तरफ पैसों को लेकर ललित और विक्रम में पिछले कुछ दिनों से खटपट होने लगी थी। ललित ने विक्रम के भाई सुशील की पिटाई भी की थी।

पुलिस के मुताबिक़ विक्रम और उसका परिवार पिछले तीन महीने से ललित के क़त्ल की साजिश रच रहा था और उन्होंने तीन फरवरी की रात पाश इलाके सिविल लाइंस में रेलवे के आईजी के बंगले के बाहर ललित पर गोलियां बरसाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। इस वारदात के दौरान विक्रम खुद भी मामूली तौर पर ज़ख़्मी होकर अस्पताल में भर्ती हो गया। विक्रम ने इस केस का चश्मदीद गवाह होने का दावा करते हुए बीएसपी विधायक पूजा पाल, उनके छोटे भाई राहुल व पांच समर्थकों के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई, लेकिन पुलिस ने तफ्तीश शुरू की तो पांच दिन बाद ही सच्चाई सामने आ गई। घटनास्थल के पास से मिले सीसीटीवी फुटेज ने पुलिस का काम आसान कर दिया।

पुलिस ने साफ़ कर दिया है कि इस मामले में विधायक पूजा पाल समेत नामजद कराए गए सातों आरोपी बेगुनाह हैं और इस मामले से उनका कोई लेना देना नहीं है। पुलिस ने ज़ख़्मी विक्रम को भी अस्पताल से निकालकर गिरफ्तार कर लिया है, जबकि वारदात में शामिल उसका बड़ा भाई सुशील व करीबी राजपाल अभी फरार हैं।

दरअसल विधायक पूजा पाल और उनके भाई के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज होने के बाद यह मामला सुर्ख़ियों में आ गया है। रिपोर्ट दर्ज होने के बाद विधायक ने खुद को सियासी वजहों से फंसाये जाने का आरोप लगाया था। पुलिस के खुलासे के बाद विधायक और उनके समर्थकों ने अब राहत की सांस ली है।

संबंधित समाचार

:
:
: