Headline • सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला : बैंक अकाउंट और मोबाइल से आधार लिंक करना जरूरी नहीं• सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला,SC/ST को प्रमोशन में आरक्षण नहीं • मेरठ में पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़,10 हजार का इनामी बदमाश घायल• नोएडा पुलिस की गाजियाबाद में बड़ी रेड,अवैध शराब की फैक्ट्री का किया पर्दाफाश,10 लाख का इनामी बदमाश अमित भूरा चला रहा था फैक्ट्री • गाजियाबाद : युवती की हत्या कर शव को तेजाब से जलाया• पूर्व कांग्रेसी सांसद दिव्या ने पीएम मोदी पर किया आपत्तिजनक ट्वीट, FIR दर्ज • नोएडा : पीएनबी में दो गार्डों की हत्या कर लूट का प्रयास करने वाले बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़, तीन गिरफ्तार• हमीरपुर : कंस वध जुलूस के दौरान दो समुदाय आपस में भिड़े, छावनी में तब्दील हुआ इलाका, 300 से ज्यादा पर FIR दर्ज• दलित किशोरी को अगवा कर गैंगरेप की कोशिश, हैवानों से लड़कर थाने पहुंचीं और रिपोर्ट दर्ज कराई• लुटेरी फैमिली गिरफ्तार, महिलाएं करती हैं गैंग का नेतृत्व, ज्वेलरी शॉप से उड़ाए थे 50 लाख के गहने• सांसद बालियान के प्रतिनिधि की आंख में मिर्च झोंककर लूट करने वाले बदमाश गिरफ्तार • विहिप नेता सुरेंद्र जैन बोले, योगी और मोदी पर पूरा भरोसा, 5 अक्टूबर को होगी आंदोलन की रूपरेखा तय• मेरठ पुलिस को शर्मिंदा करने वाला वीडियो वायरल, मेडिकल स्टूडेंट के साथ गाली गलौच और मारपीट• सपा नेता ने कहा, कांवड़ यात्रा का विरोध करता हूं, भोले और राम से लड़ना होगा, बीजेपी की जान इनमें है• सुप्रीम कोर्ट ने लगाई मनोज तिवारी को फटकार, कहा-जगह बताइए हम आपको सिलिंग ऑफिसर बना देंगे• सड़क दुर्घटना में नामचीन गायक और पत्नी घायल, 2 साल की बेटी की मौत• चार माह तक बंद रहेंगी चमड़ा फैक्ट्रियां, शासनादेश जारी, होंगे 11 लाख मजदूर बेरोजगार • बंगलूरु के नशा मुक्ति केंद्र में इलाज करा रहे हैं कपिल शर्मा, जल्द स्वस्थ्य होकर लौटेंगे टीवी पर• अफगानिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का निर्णय, धोनी कर रहे है भारतीय टीम की कप्तानी• पुलिस के सामने मोबाइल चोर के आरोपी को भीड़ ने पीटा, मामला उछलने पर दिया कार्रवाई का भरोसा• वाह री मेरठ पुलिस! एफआईआर से आरोपी का नाम हटाकर ऐसे व्यक्ति का नाम जोड़ दिया जो इस दुनिया में नहीं है• हरिद्वार की अंडर-16 क्रिकेट टीम के चयन का मामला पहुंचा नैनीताल हाईकोर्ट  • संभल में एसिड अटैक की घटना निकली झूठी, ससुरालियों को फंसाने के लिए भाई से ही डलवा ली थी एसिड की कुछ छींटे • BJP नेता कुसुम राय पर आरोप, पुलिस पर दबाव डालकर गिरवाई पड़ोसी के घर की दीवार, पीड़ित की सुनवाई नहीं• योगी सरकार ने गन्ना किसानों को दी बड़ी सौगात

सरकारी स्कूलों में पढ़ें अफसरों के बच्चे, नहीं तो निजी स्कूलों की फीस के बराबर दें पैसा: हाईकोर्ट

इलाहाबाद- इलाहाबाद हाईकोर्ट ने मंगलवार को अपने एक अहम फैसले में कहा है कि नौकरशाहों, नेताओं और सरकारी खजाने से वेतन या मानदेय पाने वाले प्रत्येक व्यक्ति के बच्चों को सरकारी प्राइमरी स्कूलों में पढ़ना अनिवार्य होगा। साथ ही ऐसा न करने वालों के खिलाफ दंडात्मक कार्यवाही का प्रावधान किया जाए। जिन अधिकारियों के बच्चे कॉन्वेंट स्कूलों में पढ़ें, वहां की फीस के बराबर रकम उनके वेतन से काट ली जाए। साथ ही ऐसे लोगों का कुछ समय के लिए इन्क्रीमेंट व प्रमोशन भी रोक लिया जाए। हाईकोर्ट का यह आदेश अगले शिक्षा सत्र से लागू किया जाएगा।

कोर्ट ने साफ किया कि जब तक इन लोगों के बच्चे सरकारी स्कूलों में नहीं पढ़ेंगे, वहां के हालात नहीं सुधरेंगे। कोर्ट ने राज्य सरकार को छह माह के भीतर यह व्यवस्था करने का आदेश देते हुए कृत कार्यवाही की रिपोर्ट पेश करने को कहा है। न्यायमूर्ति सुधीर अग्रवाल ने जूनियर हाईस्कूलों में गणित व विज्ञान के सहायक अध्यापकों की चयन प्रक्रिया को लेकर दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान सरकारी स्कूलों की दुर्दशा सामने आने पर यह आदेश दिया है।

इसी के साथ कोर्ट ने जूनियर हाईस्कूलों में गणित व विज्ञान के सहायक अध्यापकों की भर्ती के लिए 1981 की नियमावली के नियम 14 के मुताबिक नए सिरे से चयन सूची तैयार करने का निर्देश भी दिया है।

गौरतलब है प्रदेश में तीन तरह की शिक्षा व्यवस्था है, अंग्रेजी माध्यम के कॉन्वेंट स्कूल, प्राइवेट स्कूल और बेसिक शिक्षा परिषद से संचालित स्कूल। कोर्ट का यह फैसला, गणित-विज्ञान के सहायक अध्यापकों की भर्ती को लेकर दाखिल याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान आया। जिसमें बताया गया कि प्रदेश के एक लाख 40 हजार जूनियर व सीनियर बेसिक स्कूल है जिनमें टीचर्स के दो लाख 70 हजार पद रिक्त हैं। सैकड़ों स्कूलों में पानी, शौचालय, बैठने की व्यवस्था जैसी मूलभूत सुविधाओं का अभाव है तो कइयों में छत भी नहीं है। सरकार, नेता व अफसर इस बदहाली के बावजूद बेसिक शिक्षा के प्रति संजीदा नहीं हैं क्योंकि उनके बच्चे सरकारी स्कूलों में नहीं बल्कि कॉन्वेंट स्कूलों में पढ़ते हैं।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: