Headline • सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।

स्वामी वासुदेवानन्द शंकराचार्य के योग्य नहीं, नियुक्ति अवैध: कोर्ट

इलाहाबाद- सिविल जज (वरिष्ठ श्रेणी) गोपाल उपाध्याय ने मंगलवार को 308 पेज के फैसले में 28 साल तक चले मुकदमे में यह आदेश दिया है, कि ‘स्वामी वासुदेवानन्द ‘शंकराचार्य’ पद के योग्य नहीं है। इनकी नियुक्ति अवैध है। इन्हें आजीवन शंकराचार्य का प्रतीक चिन्ह, छात्र एवं दंड धारण करने पर रोका जाता है तथा शंकराचार्य के रूप में कोई कार्य न करें।’

कोर्ट ने स्वामी स्वरूपानन्द सरस्वती की 7 दिसम्बर, 1973 को की गई नियुक्ति को वैध व नियमों के अनुरूप माना है। कोर्ट ने कहा कि स्वामी स्वरूपानन्द ही शंकराचार्य पद पर की गई नियुक्ति के योग्य है तथा स्वामी वासुदेवानन्द आवश्यक अर्हता न होने के कारण योग्य नहीं है क्योंकि महानुशासन तथा मठ नियमावली में दी गई आवश्यक योग्यताओं को पूरा नहीं करते है। कोर्ट ने 14 नवम्बर 1989 को वासुदेवानन्द की शंकराचार्य पर हुई नियुक्ति को अवैध और अविधिपूर्ण माना और कहा कि इनके द्वारा जिस वसीयत को आधार बनाकर दावा किया गया है। वह कूटरचित है।

कोर्ट ने यह भी कहा कि वासुदेवानन्द दंडी स्वामी नहीं हैं। क्योंकि 13 नवम्बर 1989 तक संन्यास के बाद सोमनाथ द्विवेदी नाम से नौकरी करते रहे हैं। इसलिए आवश्यक अर्हता एवं योग्यता नहीं रखते। कोर्ट ने स्वरूपानन्द द्वारा दाखिल मुकदमे को स्वीकार करके 1987 से चली आ रही कानूनी लड़ाई को निस्तारण कर दिया।

संबंधित समाचार

:
:
: