Headline • ओसाका में मोदी-एबी की मुलाकात• करों या मरों कि स्थिती में वेस्ट डंडीज़• तेज प्रताप का नया कारनामा तेज सेना का गठन• अमित शाह नें तोड़ा 30 साल का रिकार्ड• सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज

साईं बाबा मुसलमान थे, उनका नाम चांद मियां था- शंकराचार्य

इलाहाबाद- शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद ने एक बार फिर साईं बाबा को लेकर विवादित बयान दिया है। पहले भी शंकराचार्य साईं बाबा को मुसमान बता चुके हैं लेकिन इस बार उन्होंने नया बयान देते हुए कहा कि, ‘साईं बाबा का नाम चांद मियां था और वह मुसलमान थे। आज मंदिरों में देवी- देवताओं की मूर्तियां साईं के चरणों में रखी हुई हैं। सनातन धर्मियों के मंदिरों में देवताओं का यह अपमान है। रामनवमी के अवसर पर कई जगह पर लोग साईं बाबा की शोभा यात्रा निकालते हैं। यह बात हमें बहुत खराब लगती है।' ये बातें उन्‍होंने इलाहाबाद प्रयाग स्‍थित मनकामेश्‍वर मंदिर पहुंचने पर एक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान कही।

इतना ही नहीं शंकराचार्य ने कहा कि, ‘शिरडी में साईं की मजार बनी हुई है, उससे यह साबित होता है कि साईं मुसलमान थे, क्योंकि हिंदुओं में तो समाधी दी जाती है। सबसे बड़ी बात यह है कि साईं की जहां मजार बनाई गई है, वहीं वहां मूर्ति भी लगा दी गई है। ऐसे में कब्रिस्‍तान होने से वहां न तो हिंदू जाता है और मूर्ति लगाने के कारण मुसलमान भी नहीं जाता है। आखिर यह तमाशा क्यों किया जा रहा है'?

उन्‍होंने कहा कि साईं के ट्रस्ट में जो 1200 करोड़ रुपए हैं, वो सब हिंदू देवी-देवताओं की मूर्ति दिखा कर और ठगी करके लिया गया है। लातूर में दान किया जाए पैसा। उन्होंने कहा कि साईं ट्रस्ट को यह पैसा लातूर में देना चाहिएए जहां पर पानी की काफी किल्लत है।

संबंधित समाचार

:
:
: