Headline • प्रेम विवाह के तीन साल बाद ससुराल पहुंचा, शाम से कोई खोजखबर नहीं... दो दिन बाद मिली लाश•  फौजी के घर पर दबंगों ने किया कब्जा, शिकायत करने पहुंचा तो थानेदार ने थाने से भगाया• नई सरकार आने के बाद भी नहीं बदला पाक सेना का रवैया, बीएसएफ जवान के शव से की बर्बरता, आंख निकाली• मुलायम के पोते तेजप्रताप ने माना, शिवपाल के अलग होने से लोकसभा चुनाव की संभावना पर पड़ेगा प्रभाव• आयुष्मान की 'बधाई हो' का 'बधाईयां तैनू' रिलीज, हंस-हंस कर लोटपोट हो जाएंगे आप• शिक्षा विभाग को नहीं पता अटलजी का जन्म कब हुआ था, स्कूली किताब में गलत डेट डाली• कन्नौज : किशोरी की रेप के बाद हत्या, मनचले के डर से छोड़ दी थी पढ़ाई• रायबरेली के लाल ने किया कमाल, प्री रीजनल मैथमेटिक्स ओलंपियाड में हुआ चयन• अपने हक की लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगी मुस्लिम महिलाएं, सायरा ने पीएम मोदी के प्रति जताया आभार• 'सड़क-2' का ट्रेलर रिलीज,फिर एक साथ दिखेंगे संजय दत्त और पूजा भट्ट• मौसा ने बनाया नाबालिग को अपनी हवस का शिकार, मौसी से मिलने आई थीं लड़की• पाकिस्तान पर भारत की शानदार जीत के बाद जश्न का माहौल, भुवी के घर पर जमकर हुआ नृत्य• कफन का तिरंगा ओढ़कर न्याय के लिए कलक्ट्रेट में धरने पर बैठीं शहीद की विधवा  • पुलिस ने निर्दोष युवक को किया गिरफ्तार,फिर जेल भेजने के लिए खुद तैयार की जहरीली शराब,वीडियो वायरल !• अलीगढ़ : पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराए 25-25 हजार के इनामी बदमाश,थानाध्यक्ष घायल• अब बरेली में सवर्णों ने लगाए पोस्टर, लिखा- 'नोटा ही हमारा हथियार है,वोट मांग कर शर्मिंदा न करें'• पाक के पीएम इमरान खान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखा खत, फिर से शांति वार्ता शुरू करवाने की अपील• मुंबई से जयपुर जा रही फ्लाइट में यात्रियों के नाक-कान से निकलने लगा खून• 'समाचार प्लस' के सवाल पर बोले RSS प्रमुख मोहन भागवत-आरक्षण समस्या नहीं,आरक्षण पर राजनीति समस्या है• गोंडा में दर्दनाक सड़क हादसा, 4 की मौत, 8 घायल• लखनऊ : मूर्ति विसर्जन के दौरान गोमती नदी में डूबे 6 युवक, एक मौत, दो लापता• उन्नाव में बुखार का कहर, 24 घंटे में सात की मौत, 200 से ज्यादा बीमार• बसपा के पूर्व विधायक योगेश वर्मा को बड़ी राहत,हाईकोर्ट ने हटाई रासुका,रिहा करने का आदेश• बरेली :मोहर्रम पर ताजियों को लेकर पुलिस की बड़ी कार्रवाई,ढाई हजार से ज्यादा लोगों को जारी किए रेड कार्ड• इलाहाबाद में बीजेपी जिलाध्यक्ष ने अपने नाते रिश्तेदारों को बांट दिए सारे पद, युवाओं में भारी गुस्सा

मानसिक बीमारी की चपेट में नैनी सेन्ट्रल जेल के कैदी

इलाहाबाद- इलाहाबाद की नैनी सेन्ट्रल जेल में बंदियों की हालत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। आयोग ने अपनी जांच रिपोर्ट में खुलासा किया है कि नैनी सेन्ट्रल जेल के माहौल के चलते वहां बंद इकतीस कैदी गंभीर मानसिक बीमारियों की चपेट में हैं। इनमे से कई बंदियों की हालत तो इतनी बदतर हो चुकी है कि उन्हें पागलखाने भेजे जाने की सिफारिश की गई है। इसके बावजूद जेल में अभी तक इनके इलाज के कोई इंतजाम नहीं किये गए हैं। हालत बिगड़ने पर इन्हे शहर के सरकारी अस्पतालों से दवाएं दिलाई जाती हैं। हैरान कर देने वाली बात यह है कि गंभीर मानसिक बीमारियों के शिकार सभी इकतीस बंदियों में कोई भी ऐसा नहीं हैए जिसे जेल में दाखिले तक कोई मानसिक बीमारी थी। साफ है कि जेल के बदतर हालात और वहां हो रहे सलूक के चलते ही यह इकतीस लोग आज पागलखाने भेजे जाने की हालत में हैं। एनएचआरएम ;नेशनल ह्यूमन राइट कमीशनद्ध के सदस्य एससी सिन्हा की अगुवाई में जेल का निरीक्षण करने वाली आयोग की टीम ने भी यह माना है कि कैदियों के मानसिक रूप से बीमार होने में जेल में उनके साथ हो रहा बर्ताव ज़िम्मेदार है। हालांकि आयोग का कहना है कि जेल में कैदियों के साथ बरता जा रहा सलूक ही उनकी इस हालत के लिए अकेले ज़िम्मेदार नहीं है और उसकी कुछ दूसरी वजहें भी हो सकती हैं। लेकिन सारी वजह जेल से ही जुडी हुई हैं। 

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इलाहाबाद में मानवाधिकार से जुड़े बावन मामलों की सुनवाई की। आयोग के सदस्य एससी सिन्हा व दूसरे लोगों ने शिकायत पर इलाहाबाद की नैनी सेन्ट्रल जेल का निरीक्षण कर वहां के हालात का भी जायज़ा लिया। छानबीन में आयोग को पता चला कि जेल के हालात कतई बंदी सुधार गृह के मानकों के मुताबिक़ नहीं हैं। कैदियों से दिन भर काम तो लिया जाता हैए लेकिन पैसों की कमी के चलते उन्हें उनका मेहनताना नहीं दिया जाता। बंदी रक्षकों द्वारा कई कैदियों की पिटाई किये जाने और उनके साथ अमानवीय बर्ताव की भी शिकायतें सामने आईं। आयोग को यह भी पता चला कि जेल में आने के बाद से यहाँ रह रहे इकतीस कैदी गंभीर मानसिक बीमारियों का शिकार हो गए हैं। कई को तो इलाज के लिए बनारस के पागलखाने भेजे जाने की भी सिफारिश की गई  है। एक कैदी को तो तीन साल पहले ही बनारस भेजा जाना थाए लेकिन उसे आयोग का कार्यक्रम आने के बाद इसी महीने भेजा गया है।  आयोग ने इस मामले में ज़िम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने का आदेश दिया है। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: