Headline • सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।

मानसिक बीमारी की चपेट में नैनी सेन्ट्रल जेल के कैदी

इलाहाबाद- इलाहाबाद की नैनी सेन्ट्रल जेल में बंदियों की हालत पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने चौंकाने वाला खुलासा किया है। आयोग ने अपनी जांच रिपोर्ट में खुलासा किया है कि नैनी सेन्ट्रल जेल के माहौल के चलते वहां बंद इकतीस कैदी गंभीर मानसिक बीमारियों की चपेट में हैं। इनमे से कई बंदियों की हालत तो इतनी बदतर हो चुकी है कि उन्हें पागलखाने भेजे जाने की सिफारिश की गई है। इसके बावजूद जेल में अभी तक इनके इलाज के कोई इंतजाम नहीं किये गए हैं। हालत बिगड़ने पर इन्हे शहर के सरकारी अस्पतालों से दवाएं दिलाई जाती हैं। हैरान कर देने वाली बात यह है कि गंभीर मानसिक बीमारियों के शिकार सभी इकतीस बंदियों में कोई भी ऐसा नहीं हैए जिसे जेल में दाखिले तक कोई मानसिक बीमारी थी। साफ है कि जेल के बदतर हालात और वहां हो रहे सलूक के चलते ही यह इकतीस लोग आज पागलखाने भेजे जाने की हालत में हैं। एनएचआरएम ;नेशनल ह्यूमन राइट कमीशनद्ध के सदस्य एससी सिन्हा की अगुवाई में जेल का निरीक्षण करने वाली आयोग की टीम ने भी यह माना है कि कैदियों के मानसिक रूप से बीमार होने में जेल में उनके साथ हो रहा बर्ताव ज़िम्मेदार है। हालांकि आयोग का कहना है कि जेल में कैदियों के साथ बरता जा रहा सलूक ही उनकी इस हालत के लिए अकेले ज़िम्मेदार नहीं है और उसकी कुछ दूसरी वजहें भी हो सकती हैं। लेकिन सारी वजह जेल से ही जुडी हुई हैं। 

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इलाहाबाद में मानवाधिकार से जुड़े बावन मामलों की सुनवाई की। आयोग के सदस्य एससी सिन्हा व दूसरे लोगों ने शिकायत पर इलाहाबाद की नैनी सेन्ट्रल जेल का निरीक्षण कर वहां के हालात का भी जायज़ा लिया। छानबीन में आयोग को पता चला कि जेल के हालात कतई बंदी सुधार गृह के मानकों के मुताबिक़ नहीं हैं। कैदियों से दिन भर काम तो लिया जाता हैए लेकिन पैसों की कमी के चलते उन्हें उनका मेहनताना नहीं दिया जाता। बंदी रक्षकों द्वारा कई कैदियों की पिटाई किये जाने और उनके साथ अमानवीय बर्ताव की भी शिकायतें सामने आईं। आयोग को यह भी पता चला कि जेल में आने के बाद से यहाँ रह रहे इकतीस कैदी गंभीर मानसिक बीमारियों का शिकार हो गए हैं। कई को तो इलाज के लिए बनारस के पागलखाने भेजे जाने की भी सिफारिश की गई  है। एक कैदी को तो तीन साल पहले ही बनारस भेजा जाना थाए लेकिन उसे आयोग का कार्यक्रम आने के बाद इसी महीने भेजा गया है।  आयोग ने इस मामले में ज़िम्मेदार लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई किये जाने का आदेश दिया है। 

संबंधित समाचार

:
:
: