Headline • PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर• सुष्मिता ने चुनरी चुनरी सॉन्ग पर दूल्हा और दुल्हन के साथ किया जमकर डांस • किम जोंग और डोनाल्ड ट्रंप की दूसरी शिखर वार्ता 27-28 फरवरी को वियतनाम में

वीर जवान हनुमन थप्पा के लिए विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती में लोगों ने मिलकर की प्रार्थना

वाराणसी: सियाचिन हिमनद में हिमस्खलन के बाद 25 फुट मोटी बर्फ की परत के नीचे दबा सेना का जवान हनुमन थप्पा चमत्कारिक रूप से छह दिनों बाद जिंदा तो मिला, लेकिन उसकी हालत अभी गंभीर बनी हुई है। हनुमन थप्पा का दिल्ली के आर.आर.अस्पताल में उपचार चल रहा है और दुख की ऐसी घड़ी में पूरे देश के साथ- साथ काशी में विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती में जवान के स्वस्थ होने की प्रार्थना की गयी।

देश की सीमा की सुरक्षा करने वाले जवानों के कारण ही आज पूरा देश सुरक्षित है और इसलिए आज गंगा सेवा निधी द्वारा होने वाली इस विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती में मौत को हराकर जिंदा लौटे हनुमन थप्पा के जल्द स्वस्थ होने की कामना के लिए प्रार्थना की गई। साथ ही लोगों ने हिमस्खलन में मारे गये छ जवानों को यहां दीपदान कर श्रृद्धांजलि भी अर्पित किया। पूरे देश के साथ सम्पूर्ण काशीवासी भी जवानों के परिजनों के साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं।

3 फरवरी को सियाचिन में भारी हिमस्खलन में 10 जवान लापता हो गये थे। जिसके बाद सभी जवानों की मारे जाने की पुष्टि कर दी गई थी। लेकिन हनुमन थप्पा मौत को जकमा देकर बर्फ की मोटी चादर के नीचे जिंदा मिले थे। सेना के इस बहादुर जवान के स्वास्थ्य लाभ के लिए गंगा आरती में खास तरह की पूजा की गई।

प्रधानमंत्री मोदी दिव्‍यांगों को ट्राई साइकिल-फोन बांट बनाएंगे वर्ल्‍ड रिकॉर्ड

वाराणसी में एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आगमन सुनिश्चित हो गया है लेकिन इस बार मोदी का आगमन गिनीज़ बुक ऑफ़ रिकार्ड्स के लिए खास होगा। 22 जनवरी को प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी में 77066 दिव्यांगों (विकलांगों )को तोहफे देंगे। पीएम द्वारा तोहफे मिलने की खबर लगते ही वाराणसी स्थित अलग अलग विकलांग स्कूलों में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है।

प्रधानमंत्री मोदी वाराणसी के डीरेका मैदान में समारोह के दौरान दिव्यांगों को टैबलेट ,स्मार्टफोन ,ट्राई साइकिल ,व्हीलचेयर कृत्रिम अंगों का तोहफा देंगे।कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए सामाजिक अधिकारिता मंत्रालय संयुक्त सचिव ने वाराणसी में डेरा भी डाला हुआ है। हालाँकि अभीतक उन्होंने आधिकारिक बातचीत करने से मना कर दिया है लेकिन सूत्रों के हवाले से जानकारी के मुताबिक 77066 विकलांगों को उनके जरुरत की चीज़ें दी जाएँगी।

इस बाबत जब दिव्यांग बच्चों से बात की गई तो वे काफी उत्साहित दिखे और सबसे पहले पीएम मोदी का दिल से धन्यवाद देते हुए कहा कि दिव्यांग नाम पाकर सम्मानित महसूस कर रहे हैं। आज भी समाज में विकलांग उपेक्षित हैं नए सम्बोधन से नई ऊर्जा मिली है।

कार्यक्रम को लेकर दिव्यांगों और अध्यापकों में ख़ुशी की लहर है और अध्यापकों का कहना है कि प्रधानमंत्री का विकलांगों के लिए सोचना और उनके बीच में होना ही बड़ी बात है। अब लगता है कि विकलांगो की योजनाओं से उन्हें फायदा होने की उम्मीद है।

पीएम मोदी और शिंजो आबे ने वाराणसी में की गंगा पूजा

बनारस- तीन दिवसीय भारत यात्रा पर आए जापान के प्रधानमंत्री शिजों आबे ने शनिवार शाम को पीएम मोदी के साथ बनारस के दशाश्वमेध घाट पर गंगा की विधिवत पूजा-अर्चना की। वैदिक मंत्रोंच्चारण के साथ पीएम मोदी और आबे ने एक साथ घाट पर खड़े होकर दूध, घी और अन्य पूजन सामग्री के साथ पवित्र गंगा का अभिषेक किया। इसके बाद दोनों ने गंगा की महाआरती में हिस्सा लिया। मंच पर बैठकर दोनों नेताओं ने विश्व प्रसिद्ध गंगा आरती का आन्नद लिया।

प्रधानमंत्री मोदी और शिंजों आबे के आगमन को लेकर वाराणसी में खास तैयारियां की गई थी। दोनों देशों के पीएम एक ही विमान से शनिवार शाम करीब साढ़ें चार बजे वाराणसी पहुंचे। उत्तर प्रदेश के गवर्नर राम नाइक और मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एयरपोर्ट पर पीएम मोदी और आबे का स्वागत किया। यहां से मोदी और आबे होटल ताज गेटवे के लिए रवाना हुए। 5 बजकर 30 मिनट पर दोनों प्रधानमंत्री दशाश्वमेध घाट के लिए निकलें। शाम 5 बजकर 45 मिनट पर दशाश्वमेध घाट पहुंचेकर जापान के पीएम शिंजो आबे ने प्रधानमंत्री मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में शाम 5 बजकर 50 मिनट की महा गंगा आरती में हिस्सा लिया। इसके लिए नदी में खास तौर पर तैरता हुआ मंच तैयार किया गया था। गंगा घाटों की खूब सजाया गया था और नदी की सफाई के लिए मुंबई से स्टीमर मंगाए गए थे। इस दौरान प्रशासन भी पूरा चाक-चौबंद रहा और हर चौक-चौराहों पर पुलिस की नाकेबंदी थी।

गंगा आरती में शिरकत के बाद जापानी प्रधानमंत्री होटल ताज रवाना हुए, जहां उन्होने कुछ खास लोगों के साथ मुलाकात की। रात्रि भोज में यूपी के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, कुछ केंद्रीय मंत्री, सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव, प्रख्यात संगीतज्ञ और पद्म भूषण सम्मान से सम्मानित पंडित छन्नूलाल मिश्र, रचनाकार नीरजा माधव, काशी विश्वनाथ मंदिर ट्रस्ट के पंडित अशोक द्विवेदी और समाज के विभिन्न वर्गों की जानीमानी हस्तियां भी शामिल रहीं। अपने तय कार्यक्रम के मुताबिक, आबे इसके बाद रात करीब नौ वाराणसी से दिल्ली के लिए रवाना हुए।

पिछले साल अगस्त में जब पीएम मोदी जापान गए थे, तो दोनों देशों के बीच वाराणसी को जापान के शहर क्योतो के तर्ज पर बसाए जाने का समझौता हुआ था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 22 जनवरी को जाएंगे वाराणसी

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 22 जनवरी को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर आएंगे। इस दौरे के दौरान पीएम मोदी करीब 8000 दिव्यांगों (विकलांगों) को नये साल के तोहफे में कृत्रिम अंग एवं विशेष उपकरण भेंट करेंगे।

जिलाधिकारी राजमणि यादव ने गुरूवार को बताया कि प्रधानमंत्री कार्यालय से पीएम मोदी के वाराणसी के दौरे की सूचनादी गई है, जिसके आधार पर पीएम मोदी के स्वागत के लिए तैयारियां की जा रही हैं।

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा वाराणसी जिले के 7766 दिव्यांगों को लगभग आठ करोड़ रुपये के सुनने, बोलने, चलने, देखने आदि में मददगार कृत्रिम अंग एवं विशेष उपकरण भेंट किये जाएंगे, जो अपने आप में एक विश्व रिकॉर्ड होगा। प्रधानमंत्री मोदी के कार्यक्रम का आयोजन डीरेका मैदान में किया जाएगा।

जापानी पीएम अबे और पीएम मोदी के स्वागत के लिए काशी सज-धज कर तैयार

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे के स्वागत के लिए काशी सज-धज कर तैयार है। शनिवार को प्रधानमंत्री मोदी अपने संसदीय क्षेत्र वारणसी आ रहे हैं, उनके साथ प्रधानमंत्री शिंजो भी होंगे। आज शाम गंगा आरती में मोदी-शिंजो समेत लगभग 25,000 लोग शामिल होंगे।

माना जा रहा है किए पीएम मोदी के वाराणसी दौरे के दौरान काशी-क्योटो समझौते के ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जाएंगे।

पीएमओ कार्यालय से मिली जानकारी के मुताबिक, जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने गंगा आरती में शामिल होने की इच्छा जताई है। दशाश्वमेध घाट स्थित आरती में पीएम मोदी भी शिंजो आबे के साथ शामिल होंगे।

पीएम मोदी और शिंजो के लिए बाबतपुर एयरपोर्ट से दशाश्वमेध घाट तक वेलकम की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। जापानी पीएम शिंजो के वेलकम में एयरपोर्ट से होटल गेटवे के बीच करीब 22 किमी के सफर के दोनों छोर पर स्कूली बच्चे भारत-पाकिस्तान के झंडे लहराते हुए नजर आएंगे। मोदी.शिंजो के एक दिवसीय वाराणसी दौरे लिए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं। सुरक्षा को मद्देनजर रखते हुए थल, नौ सेना और वायु सेना का भी सहयोग लिया गया है।

दशाश्वमेध घाट पर देव दीपावली की तरह भव्य गंगा आरती की जाएगी। घाट को सजाने के लिए देशी-विदेशी फूलों का इस्तेमाल किया गया है। घाट की सीढि़यों पर रेड कारपेट बिछाया गया है।

:
:
: