Headline • अवैध शराब बनाते बसपा के पूर्व विधायक गिरफ्तार, बंद पड़े स्कूल में चला रहे थे कारोबार• हापुड़ में गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान युवक नहर में डूबा, गोताखोर तलाश करने में जुटे• नील नितिन मुकेश के घर आई एक नन्ही परी• जानें राजनीति में आने के सवाल पर राहुल द्रविड़ ने क्या जवाब दिया• विवादों के बाद सन्नी देओल की फिल्म मोहल्ला अस्सी रिलीज को तैयार, फर्स्ट लुक जारी• कातिल सौतन! पूर्व पति की शादी को नहीं कर पाई बर्दाश्त, कराया जानलेवा हमला, महिला की मौत• अपनी ही सरकार के खिलाफ बोलीं पूर्व मेयर, कहा-समय पर लिया होता फैसला तो नहीं देखने पड़ते ये दिन• तारीख से लौट रहे दामाद को अगवा कर ससुरालियों ने की जमकर पिटाई, पुलिस ने बचाई जान• 80 मौत के बाद जागीं मंत्री अनुपमा, अस्पताल का लिया जायजा, कैमरों के साथ पहुंचीं मृतकों के घर• भारत ने टॉस जीता और पहले गेंदबाजी का फैसला, चोटिल पांड्या की जगह रविंद्र जाडेजा को मौका• बीच बचाव करने गए बुजुर्ग पर ही टूट पड़े, चौकी इंचार्ज ने जान पर खेलकर बचाई जान• कर्बला की ओर बढ़ते हर कदम के साथ हुसैन की कुर्बानी का दर्द और यजीद के खिलाफ गुस्सा दिखा • करीना कपूर ने फैमिली के साथ सेलिब्रेट किया अपना जन्मदिन, तस्वीरें आई सामने• चल-चल चल मेरे हाथी, ओ मेरे साथी, चल रे चल खटारा खींचके...पीएम के संसदीय क्षेत्र में अनोखा विरोध• बढ़ सकती है बसपा सुप्रीमो मायावती की परेशानी, हाईकोर्ट ने तलब की स्मारक घोटाले की स्टेटस रिपोर्ट• कैग रिपोर्ट में फंसे अखिलेश ! 97 हजार करोड़ रुपए के सरकारी धन की बंदरबांट• किसने सबके सामने कहा-बहुत ही गंदा है आगरा शहर, यूपी सरकार से कोई प्रस्ताव ही नहीं मिला• बीमारी से हुई मौतों से परेशान ग्रामीणों ने सांसद से पूछा, अब यहां क्या करने आई है? जमकर निकाला गुस्सा• तोगड़िया का मोदी पर हमला, कहा- 2014 में मंदिर की बात करते थे अब मस्जिद से मोहब्बत करने लगे• अब ऑनलाइन मिलेंगे मोदी और योगी जैसे कुर्ते, दीनदयाल धाम ने किया कई कंपनियों से समझौता• किराए के मकान में चल रहे अस्पताल, हर महीने करोड़ों होता है खर्च लेकिन लोगों को नहीं मिल रहा लाभ• चालान काटने वालों के खुद कटे चालान, हरदोई के एसपी के फरमान से पुलिसवालों की बढ़ी परेशानी• नोएडा : PNB में लूट की कोशिश, बदमाशों ने की दो गार्डों की हत्या• अमरोहा :टायर फटने से यात्रियों से भरी बस पलटी, 5 की मौत, 40 से ज्यादा घायल• जेल से बरामद पिस्टल से नहीं मारी गई थी मुन्ना बजरंगी को गोली,फोरेंसिक जांच में हुआ खुलासा

वाराणसी मूर्ति विसर्जन और बवाल: पुलिस से भिड़े संत समर्थक, चार थाना क्षेत्रों में लगा कर्फ्यू हटा

वाराणसी- साधु-संतों ने 22 सितंबर को हुए बर्बर लाठीचार्ज के विरोध में सोमवार को अन्याय प्रतिकार यात्रा निकाली, लेकिन इस दौरान यहां पुलिस और प्रर्दशनकारियों के बीच जमकर हिंसक झड़प हुई। जिसके बाद चार पुलिस स्टेशनों में कर्फ्यू का एलान कर दिया गया। करीब 2 घंटे बाद हालात सामान्य होने पर कर्फ्यू हटा लिया गया। लेकिन तनाव को देखते हुए शहर में धारा 144 लागू कर दी गई है। गोदौलिया, गिरजाघर, चौक, दशाश्‍वमेधघाट मार्ग, मदनपुर और बांस फाटक जैसे इलाके जहां कर्फ्यू लगाया था, वहां बैरिकेडिंग कर लोगों को जाने से रोका गया। पुलिस ने मामले में करीब 29 लोगों को हिरासत में लिया है। उधर, बताया जा रहा है कि केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने खुद वाराणसी के एसएसपी आकाश कुलहरी को फोन कर शहर में शांति-व्‍यवस्‍था बनाए रखने को कहा है।

दरअसल, 22 सितंबर को गंगा में ही गणेश प्रतिमा विसर्जन पर अड़े लोगों पर हुए पुलिस ने देर रात लाठीचार्ज कर दिया था। जिसके खिलाफ स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद ने 5 अक्तूबर यानि सोमवार को मैदागिन के टाउनहाल से दशाश्वमेध तक अन्याय प्रतिकार यात्रा निकालने का फैसला किया था। तय कार्यक्रम के अनुसार दोपहर साढ़े बारह बजे स्वामी अविमुक्तेश्वरानंद केदारघाट स्थित अपने आश्रम से टाउनहाल के लिए पैदल ही निकले। यात्रा में हजारों लोग शामिल हुए। जुलूस के गोदौलिया पहुंचते ही कुछ अराजक तत्‍वों ने पुलिस पर पथराव करना शुरू कर दिया। पुलिस की जीप समेत कई बाइकों में आग लगा दी गई। मामला बढ़ता देख पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा। इस दौरान भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस लगातार आंसू गैस के गोले और रबर बुलेट से फायरिंग करती रही।

इस दौरान साधु-संतों के साथ-साथ आधा दर्जन से अधिक पुलिसकर्मी घायल हुए। कवरेज के दौरान कुछ पत्रकारों को भी चोटें आई हैं। डीएम राजमणि यादव ने स्‍पष्‍ट कर दिया है कि मंगलवार को शहर के सभी स्‍कूल और कॉलेज बंद रहेंगे। इसमें माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड सहित सीबीएसई और आईसीएसई के सभी स्‍कूल शामिल हैं।

कमिश्नर नितिन रमेश गोकर्ण ने बताया कि यात्रा के दौरान कुछ असामाजिक तत्वों ने शांति और कानून-व्यवस्था बिगाड़ने की कोशिश की। उन्‍होंने नगरवासियों से किसी भी प्रकार की अफवाहों में न आने की अपील की है। फिलहाल, स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है। इसके अलावा प्रशासन की तरफ से सोशल मीडिया, वेबसाइट, व्‍हॉट्सएप और फेसबुक पर पैनी नजर रखी जा रही है। यदि इन माध्यमों से किसी भी प्रकार की कोई गलत सूचना या अफवाह फैलाई जाती है तो ऐसे लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जाएगी।

प्रतिकार यात्रा में देशभर के साधु-संतों के साथ ही साध्वी प्राची और चक्रपाणि महाराज भी शामिल थे। इस दौरान साध्वी प्राची ने कहा समाचार प्लस से फोन पर बात की और बताया कि प्रशासन ने मूर्ति विसर्जन को लेकर रास्ता नहीं निकाला। साथ ही उन्‍होंने कहा कि जब तक सीएम अखिलेश खुद साधु-संतों पर हुए लाठीचार्ज के लिए माफी नहीं मांगते तब तक आंदोलन चलता रहेगा।

उन्होने आगे कहा, "भीड़ अभी पूरी तरह से आक्रोशित है, बनारस में कुछ भी हो सकता है। प्रशासन चाहता क्या हैं। हिंसा में हमारे कई समर्थकों को चोटें आईं है, हम शांति से जा रहे थे, लेकिन इस तरह निहत्थे लोगों पर बर्बरकता पूर्वक लाठीचार्ज करना कहां कि इंसानियत हैं।"

बवाल के कारण बीच रास्ते में फंसे स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द से अधिकारियों ने मठ चले जाने का आग्रह किया। स्वामी जी ने शांतिपूर्ण तरीके से दशाश्वमेध घाट तक जाकर यात्रा पूरी करने की बात कही। इसके बाद स्वामी जी के नेतृत्व में कुछ लोग दशाश्वमेध पहुंचे। यहां से स्वामी अविमुक्तेश्वरानन्द और बालकदास शिवजी की पालकी लेकर नाव से विद्यामठ रवाना हो गए। उनके साथ रहे विधायक अजय राय व अन्य लोग दूसरे रास्तों से लौट गए।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: