Headline • टोटल धमाल ने मचाई स्क्रीन पर धूम• अमेरिकी डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरियाई किम जोंग के बिच 27-28 फरवरी को वियतनाम में होगा शिखर सम्मेलन • यूपी पुलिस ने देवबंद में 2 संदिग्ध आतंकियों को गिरफ्तार किया• दक्षिण कोरिया ने PM मोदी को सियोल शांति पुरस्कार से किया सम्मानित • भाजपा सरकार ने EPF ब्याज दरों में कि बढ़ोतरी • अर्जुन कपूर और अभिषेक बच्चन ने अक्षय कुमार की फिलम केसरी के ट्रेलर की प्रशंसा की • पूर्व पाक अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी के पास इमरान खान के लिए सावधानी बरतने की सलाह • जम्मू-कश्मीर में सरकार ने अर्धसैनिकों के लिए दी हवाई यात्रा को मंजूरी• अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया

चार घंटे में नसबंदी के 73 आॅपरेशन

वाराणसी- वाराणसी में सरकारी स्वास्थ्य केंद्र पर गुरूवार को एक महिला सर्जन ने महज चार घंटे में 73 नसबंदी के आॅपरेशन किए। स्वास्थ्य केंद्र में उपलब्ध सभी चार बेड फुल होने के बाद ठंड के मौसम में बाकि महिलाओं को जमीन पर लिटा दिया गया। वह भी खुले आसमान के नीचे, बरसात के कारण नम और सीलन भरी जमीन पर वो भी बिना किसी दरी-चादर के।

दरअसल, वाराणसी के चिरईगांव के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र पर अलग-अलग गांवों से आशा कार्यकर्ता महिलाओं को लेकर आईं। जिनमें कुल 76 पंजीकरण कराए गए थे।

आपको बता दें कि, इससे पहले छत्तीसगढ़ में नसबंदी के आपरेशन में लापरवाही के कारण दर्जनों महिलाओं को मौत के मुंह में जाना पड़ाए लेकिन डॉक्टर किसी की जान से खेलने से संकोच नहीं कर रहे हैं।

वैसे इस तरह के कैंप डाॅक्टरों के लिए कोई नई बात नहीं है। चंद पैसों की खातिर डाॅक्टर अपने काम को भूल कर आमनवीय काम कर जाते हैं, और इसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ता है।

 

संबंधित समाचार

:
:
: