Headline • फ्रांस में भारतीय वायु सेना के राफेल कार्यालय पर कुछ अज्ञात लोगों द्वारा की गई तोड़फोड़ • चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी की पर्चियों के ईवीएम से मिलान को लेकर विपक्षी दलों की मांग को किया खारिज • लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश फर्जी एग्जिट पोल से न हों निराश• ब्राजील के बार में हमलावरों ने की अंधाधुंध फायरिंग, 11 लोगों की हुई • कांग्रेस ने नकारा एग्जिट पोल कहा इसके विपरीत होगा चुनाव परिणाम • एग्जिट पोल में एक बार फिर मोदी सरकार, चुनाव आयोग से किया आग्रह • चीन के लिए जासूसी कर रहें पूर्व सीआइए अफसर को अमेरिका ने को सुनाई 20 साल की सजा• PM पद के लिए राहुल गांधी को मिला जेडीएस प्रमुख देवगौड़ा का समर्थन• लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी और अमित शाह की पहली संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस • समलैंगिक विवाह को ताइवान ने दिया वैधानिक दर्जा • साध्‍वी प्रज्ञा पर बोले पीएम मोदी ''मैं उन्‍हें कभी माफ नही कर पाऊंगा''• ऑस्ट्रिया सरकार ने प्राथमिक स्कूलों की लड़कियों के हिजाब पर प्रतिबंध लगाने का कानून पारित किया• लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग पर बरसीं ममता बनर्जी, चुनाव आयोग को BJP का भाई बताया • राहुल का पीएम मोदी पर हमला पीएम सोचते हैं एक व्यक्ति देश चला सकता है• बंगाल में अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के विरोध में जंतर-मंतर पर भाजपा का प्रदर्शन• बंगाल में रोड शो से पहले मोदी-शाह के पोस्टर उतरे • मैं कभी PM के परिवार का नहीं करूंगा अपमान: राहुल गांधी• भारत को ही क्‍यों बेच रहा एफ-21 लड़ाकू विमान अमेरिका • बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर सादा निशाना• PM मोदी पर मायावती के विवादित बयान पर जेटली का हमला किसी पद के लायक नहीं बसपा सुप्रीमो• विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे के खिलाफ स्‍वीडन में दोबारा खुल सकता है यौन उत्‍पीड़न मामला• ममता के घर में अमित शाह की दहाड़ हिम्मत है तो करो मुझे गिरफ्तार• ट्विटर ने हटाए कई पाकिस्‍तानी अकाउंट, पाक सरकार ने लगाए थे देश नियमों के उल्‍लंघन का आरोप• कोई भी देश कमजोर सरकारों के होते शक्तिशाली नहीं बन सकता: PM मोदी• भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी मालवाहक विमान को वायुसेना ने जयपुर एयरपोर्ट पर उतरवाया

गुलाम अली के विरोध में सड़क पर शिवसैनिक

वाराणसी: विश्वप्रसिद्ध संकट मोचन संगीत समारोह में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित और कलाकार गुलाम अली को न्यौता देने के का मामला तूल पकड़ता ही जा रहा है। हिंदू युवा वाहिनी के बाद भाजपा और शिवसेना भी इस प्रकरण में कूद पड़ी है। गुलाम अली के विरोध में शिवसेना ने वाराणसी में जगह-जगह पोस्टर लगा दिए गए हैं जिसमें लिखा है कि काशी से गुलाम अली वापस जाओ।

संकट मोचन के महंत विश्वंभर नाथ मिश्र ने 26 अप्रैल से शुरू हो रहे संकट मोचन संगीत समारोह में पाकिस्तान के उच्चायुक्त अब्दुल बासित और गायक गुलाम अली को न्यौता दिया है। गुलाम अली संगीत समारोह की पहली निशा में अपनी प्रस्तुति देंगे।

बता दें कि, इसी संकट मोचन मंदिर 7 मार्च, 2006 को आतंकियों ने विस्फोट किया था जिसमें कई बेगुनाह मारे गए थे। मंदिर में विस्फोट पाकिस्तान के इशारे पर भारत में मौजूद आतंकी संगठनों ने किया था।
 
शुक्रवार की सुबह शिव सेना कार्यकर्ताओं ने ग़ुलाम अली के विरोध की हुंकार भारी और जगह जगह पोस्टर चिपका के अपना विरोध प्रदर्शन कियाA बताते चले कि पिछेले साल भी गुलाम अली संकटमोचन समारोह में शिरकत किये थे। लेकिन समारोह में उनके द्वारा गए गए एक गाने "हंगामा है क्यों बरपा, थोड़ी सी जो पी ली है "को लेकर काफी विवाद हुआ था।

संबंधित समाचार

:
:
: