Headline • राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर


मेरठः मेरठ पुलिस भले ही सुरक्षा के लाख दावे करें लेकिन पुलिस के कुछ सिपाही अपनी कुंठित मानसिकता से विभाग का नाम खराब कर रहे हैं।

ताजा मामला मेरठ का है जहां पुलिसकर्मियों का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें यूपी 100 की गाड़ी में एक मेडिकल स्टूडेंट को पीटा जा रहा है।

साथ ही पुलिस कर्मी महिला सिपाहियों के सामने ही छात्रा से अश्लील बातें कर रहे हैं। इतनी ही नहीं पुलिस का सेल्फी प्रेम इस वारदात का गवाह बन गया है। यूपी 100 की गाड़ी चला रहे सिपाही ने अपनी ही करतूत का वीडियो बनाया और वायरल कर दिया। 

मेरठ के थाना मेडिकल क्षेत्र के जागृति विहार में मेडिकल के दो स्टूडेंट पर आपत्तिजनक हालत में पाए जाने का आरोप लगा था। चूंकि मामला दो सम्प्रदायों से जुड़ा था इसीलिए विश्व हिन्दू परिषद के कार्यकर्ताओं ने थाने में पहुंचकर जमकर हंगामा किया।

हंगामे के दौरान कार्यकर्ताओं ने इसे लव जेहाद का रंग देते हुए कार्रवाई की मांग की। लेकिन अब पुलिस की करतूत भी सामने आ रही है।

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियों में पुलिसकर्मी छात्रा से आपत्तिजनक बात करते नजर आ रहे हैं। साथ ही महिला पुलिसकर्मी भी इस मामले में शामिल होकर छात्रा की पिटाई कर रही हैं। इस मामले को जब मीडिया ने उठाया तो पुलिस के आला अधिकारी ने जांच के बाद कार्रवाई करने की बात कहते हुए अपना पल्ला झाड़ दिया। 

बलियाः यहां पहली बार युवक की भीड़ द्वारा पिटाई करने का मामला सामने आया है। मामला मनियर थाना के बहादुरा गांव का है, जहां लोगों की भीड़ ने एक युवक पर एक महिला से लूट के आरोप में पकड़ कर रस्सी से पेड़ से बांध के पिटाई की।

तस्वीरें और युवक की पिटाई का वीडियो वायरल होने के बाद प्रशासन अब जांच की बात कर रहा है जबकि भीड़ पुलिस के सामने ही आरोपी युवक को पिटती रही। 

पुलिस का कहना है कि युवक का मेडिकल कराया जा रहा है। आगे इस मामले में विधिक कार्रवाई की जाएगी। 

मामला बलिया के मनियर थाना क्षेत्र के बहदुरा गांव का है जहां एक महिला द्वारा एक युवक को पकड़ कर मोबाइल लूटने का शोर मचाया गया था। इस पर लोगों की भीड़ ने युवक को पकड़ लिया और उसे पेड़ से बांधकर उसकी जमकर पिटाई कर दी। 

युवक न पीटने की गुहार लगाता रहा लेकिन भीड़ में से कोई भी व्यक्ति उसे बचाने के लिए आगे नहीं आया। युवक अपने निर्दोष होने का गुहार लगाता रहा लेकिन युवक को बचाने के बजाय लोग पिटते रहे। युवक की इतनी पिटाई की गयी कि वह सही तरीके से अपने पैर पर खड़ा नहीं हो पा रहा था। 

कथित आरोपी युवक को थाने ले जाकर पूछताछ करने के बजाय पुलिस भीड़ के सामने ही पूछताछ करती रही। वही पुलिस अधीक्षक ने कहा कि युवक का मेडिकल परीक्षण कराया जा रहा है। जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ विधिक कार्रवाई की जाएगी। 

 

कन्नौज.यूपी के कन्नौज से पुलिस का एक ऐसा कारनामा सामने आया है। जिसे सुनकर किसी के भी हौश उड़ जाएंगे। आरोप है कि कन्नौज पुलिस ने गंभीर बीमारियों से ग्रसित सही ढंग से चल तक पाने मेंं असमर्थ 80 साल से ज्यादा बुजुर्ग को बलात्कारी बना डाला। जिसके चलते बुजुर्ग को जेल जाना पड़ और फिर जेल में सही इलाज न मिल पाने के कारण बुजुर्ग की मौत भी हो गई। वहीं मृतक का बेटा अपने पिता के माथे पर लगे झूठे कलंक को मिटाने के लिए रो रोकर आला-अधिकारियों से न्याय की गुहार लगा रहा है।

-जानकारी के मुताबिक, यह मामला तिर्वा कोतवाली क्षेत्र के फिरोजपुर गांव का है।

-यहां बुजुर्ग साधुराम का उनके पड़ोसी अमर सिंह से किसी बात को लेकर विवाद हुआ था। जिसके चलते दोनों तरफ से कुछ मारपीट हुई।

-म्रतक साधुराम के घर मे शादी का माहौल था।जिसके चलते उनके परिवार वालो ने मामले में ध्यान नहीं दिया।

-म्रतक के बेटे ने आरोप लगाया कि दबंग पड़ोसी अमर सिंह न जाने कैसे क्या किया और मेरे बुजुर्ग पिता पर रेप केस लगवा दिया।

-मामला गंभीर होने के बावजूद और मेरे पिता की हालत और उम्र को पुलिस में नजर अंदाज कर दिया और मेरे पिता को जेल भिजवा दिया।

-म्रतक के बेटे ने बताया कि उसके पिता को कई बीमारियां भी थी वो सही से चल तक नहीं पाते है। जेल में उनको सही से इलाज़ नहीं मिला और उनकी मौत हो गई। बेटे का कहना है कि वह अपने पिता को न्याय दिलाने के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ और प्रधानमंत्री गुहार लगाएगा। 

-पीड़ित बेटे ने आरोप लगाया कि अमर सिंह दबंग किस्म के लोग है और आए दिन धमकियां देते रहते है। 

-ऐसे में कन्नौज पुलिस की कार्यवाही पर भी बड़ा सवाल खड़ा होता है आखिर क्यों ऐसे सवेदनशील मामले में पुलिस ने गहनता से जांच नही की और महज आरोपो के आधार पर इतने बुजुर्ग व्यक्ति पर रेप जैसा केस लगा कर उसको जेल भेज दिया 80 साल की उम्र में कोई भी सही से चल तक नहीं पायेगा तो भला कैसे वो 16 साल की लड़की से रेप कर सकता है।

-वही पुलिस ने एफआईआर में बुजुर्ग की उम्र 65 वर्ष लिखी जबकि म्रतक साधुराम के आधार कार्ड के हिसाब से उनकी उम्र 80 साल के पार है।

-तत्कालीन एसपी किरीट राठौर के समय पर मामला हुआ था वहीं अब जिले में नए एसपी आये अमरेंद्र सिंह में मामले में वही रटा रटाया जवाब दिया मामले जांच कर कारवाही की जाएगी 

मेरठः यहां की पुलिस का अजीबोगरीब कारनामा फिर सामने आया है जहां मेरठ पुलिस ने 1 साल पहले मर चुके एक बुजुर्ग पर जानलेवा हमला करने का आरोप मढ़ते हुए उनके खिलाफ धारा 307 में मुकदमा दर्ज कर लिया।

इतना ही नहीं पुलिस ने अटेम्प्ट टू मडर की घटना में मुख्य आरोपी का नाम निकाल कर पीड़िता के मृतक ससुर को ही आरोपी बनाया है इस कारनामे की जानकारी होने के बाद पीडिता अपने परिजनों के साथ मिलकर पुलिस ऑफिस इंसाफ की गुहार लगाने पहुंची।

यहां के थाना कंकरखेड़ा इलाके से एक महिला एसएसपी दफ्तर पहुंचकर आरोप लगाया कि उसका  पारिवारिक विवाद चल रहा है, जिसमें उसके ससुर की 1 वर्ष पूर्व मृत्यु हो चुकी है लेकिन मृत्यु होने के बाद ही इसके जेठ सहित कई लोगों ने महिला के ऊपर जानलेवा हमला किया। साथ ही अपहरण की भी कोशिश की गई।

इसी मामले में महिला ने अपने जेठ सहित कई लोगों के खिलाफ धारा 307 के तहत हत्या करने के प्रयास का मुकदमा दर्ज कराया था लेकिन पुलिस ने इस मामले में बड़ा खेल करते हुए महिला के जेठ और मुख्य आरोपी का नाम एफआईआर से निकाल दिया और पीड़ित महिला के ससुर को ही मामले में मुख्य आरोपी बना दिया।

इतना ही नहीं पीड़िता के ससुर का 1 वर्ष पूर्व ही स्वर्गवास हो चुका है। लेकिन इसके बाद भी कंकरखेड़ा पुलिस ने इस कारनामे को कर दिखाया। इस मामले में पीड़िता ने आज पुलिस अधिकारियों से इंसाफ की गुहार लगाई ।

सबसे बड़ी बात यह है थाना पुलिस के कारनामे पर वरिष्ठ पुलिस अधिकारी कुछ भी बोलने के लिए तैयार नहीं है। अधिकारियों से इस बाबत जानकारी की गई तो उन्होंने मामले से पल्ला झाड़ते हुए इंटरव्यू देने से साफ इंकार कर दिया। 

 

फर्रुखाबाद: डबल मर्डर में फरार चल रहे आरोपित ममेरे भाइयों को भी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। इनमे मुख्य आरोपी गोविंदा शामिल है जिस पर दोनों की हत्या का आरोप है।  पुलिस ने आरोपितों की निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त कार, लोहे की राड व गमछा भी बरामद कर लिया। मुख्य आरोपी ने एक और व्यक्ति के घटना में शामिल होना बताया है। दोनों को कोर्ट के आदेश पर जेल भेज दिया गया।

17 सितम्बर को कन्नौज के सौरिख थाना क्षेत्र के गांव टड़ारायपुर निवासी अनिल सिंह व उनके भतीजे सुरजीत सिंह उर्फ गोधन की हत्या कर दी गई थी। दोनों की लाश 17 सितंबर की सुबह जहानगंज क्षेत्र के बहोरिकपुर गांव के पास फेंक दी गई थी।

इस मामले में पुलिस 21 सितंबर को अनिल की पत्नी आरती व ढाबा संचालक नीरज राजपूत को जेल भेज चुकी है। हत्याकांड में फरार चले रहे मुख्य आरोपित इंदरगढ़ थाना क्षेत्र के गांव टिउआ निवासी गोविन्द उर्फ कुंवर सिंह व उसका ममेरा भाई रसूलाबाद, कानपुर देहात के गमीरापुर निवासी अवनीश उर्फ सोनू को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।

दोनों आरोपित हाल में तिर्वा कस्बे के कालिका नगर में रह रहे थे। अपर पुलिस अधीक्षक त्रिभुवन सिंह ने पत्रकारों को बताया कि फरार आरोपितों पर 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। 

मुख्य आरोपी गोविंदा ने बताया कि नीरज ने उसे होटल में बुलाया था और वहां अनित और गोधन की हत्या कर दी थी। उसके अनिल की पत्नी के साथ सम्बन्ध पहले से थे। 

:
:
: