Headline • महेंद्र सिंह धोनी ने कहा रिटायर होने तक नहीं बताउंगा अपना सक्सेस मंत्र• अक्षय कुमार ने लिया प्रधानमंत्री का इंटरव्यू, पीएम ने जीता यूजर्स का दिल • अफ्रीका में लॉन्‍च किया दुनिया का पहला मलेरिया का टीका• CJI के खिलाफ आरोप: CBI, IB और दिल्ली पुलिस के ऑफिसर तलब• श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट की जिम्मेदारी, आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली• सीएम सहित रेलवे स्टेशनो को मिली आतंकवाद की धमकी• धोनी की बैटिंग देख विराट बोले- धोनी ने तो हमें डरा ही दिया था• पीएम मोदी के अनुरोध पर शाहरुख खान ने एक मजेदार विडियो बना लोगों से की वोटिंग की अपील • श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट: श्रीलंका में अब तक बम धमाकों में मरने वालों की संख्‍या 290 पहुंची • राहुल गांधी का ऐलान सरकार बनी तो राष्ट्रीय बजट के साथ किसानों के लिए करेंगे दूसरा बजट पेश• चुनावी माहौल में ट्विंकल खन्ना ने ली अरविंद केजरीवाल पर चुटकी• बाटला हाउस का जिक्र कर पीएम मोदी ने सादा कांग्रेस पर निशाना • यूएई में आज पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास समारोह• रेल हादसा: कानपुर के पास पूर्वा एक्सप्रेस पटरी से उतरी 100 के करीब लोग घायल • लोकसभा चुनाव 2019: बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुलायम के बाद अब आजम खां को दिया समर्थन • विराट सेना' का आज कोलकाता से 'करो या मरो' का मुकाबला• कलंक' स्टार वरुण धवन ने कहा, मुझे असफलता से डर नहीं लगता• सूडान में कैदियों की रिहाई और कर्फ्यू समाप्‍त होने पर अमेरिका ने कि प्रशंसा• 24 साल बाद एक मंच पर दिखें माया-मुलायम• रूस के वैज्ञानिकों का दावा 42 हजार साल पहले दफन घोड़े में मिला खून, अब बनाएंगे क्‍लोन • दिनोंदिन आलिया भट्ट और रणबीर कपूर का मजबूत होता रिश्‍ता रह सकते है लिव-इन पर • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा • लीबिया की राजधानी त्रिपोली में गृहयुद्ध की जंग में 205 की मौत, 913 के करीब घायल • लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण की 95 सीटों पर वोटिंग जारी• PM मोदी की फिल्‍म 'पीएम नरेंद्र मोदी' का ट्रेलर यूट्यूब से हटा


मेरठ. यूपी के मेरठ में एक हिस्ट्रीशीटर को अज्ञात बदमाशों ने पीट-पीट कर और चाकुओं से गोदकर मौत के घाट उतार दिया। हिस्ट्रीशीटर पत्नी की तहरीर पर पुलिस ने अज्ञात हत्यारों के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बताया जा रहा है कि हिस्ट्रीशीटर के खिलाफ थाने में 12 मुकदमे दर्ज हैं।

-पुलिस के मुताबिक, यह घटना  टीपीनगर थाना क्षेत्र की है।

-हिस्ट्रीशीटर की पत्नी रूबी का कहना है कि देर रात तीन बजे दो युवकों ने दरवाजा खटखटाया। अनिल ने उठकर दरवाजा खोला और उनके साथ चला गया।

-रूबी का कहना है कि सुबह चार बजे अनिल लहूलुहान हालत में आया। उसके शरीर पर चाकुओं से हमले के निशान थे। सुबह 6 से 7 बजे के बीच में अनिल ने दम तोड़ दिया।

-रुबी ने जब अपनी पति से पूछा कि उसके साथ क्या हुआ तो अनिल ने सिर्फ इतना बताया कि तीन लोगों ने उस पर चाकुओं से हमला किया है। हमलावर कौन थे और घटना को कहां अंजाम दिया। इस सवाल पर अनिल ने हर बार कहा कि वह सिर्फ पुलिस को बताएगा। जिस वक्त अज्ञात युवक अनिल बुलाने आए, उस वक्त वह पत्नी व तीन बच्चों के साथ सोया हुआ था।

-लहूलुहान होकर आने के बाद वह बिस्तर पर पड़ा रहा। लेकिन, परिजनों उसे न तो अस्पताल ले गए और न ही पुलिस को सूचना दी।

-सुबह मौत होने पर परिजनों में विलाप हुआ तो पड़ोसियों को पता चला। इसके बाद पुलिस पहुंची और शव को पस्मार्टम को भेजते हुए छानबीन में जुट गई है

बाराबंकी. यूपी के बाराबंकी में महिला सिपाही ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। महिला सिपाही का एक सुसाइड नोट मिला है जिसमें अधिकारियों पर प्रताड़ना के आरोप लगाए है। सुसाइड नोट सामने आने से पुलिस महकमे में हडकंप मच गया और इस मामले में SHO व मुंशी को लाइन हाजिर कर दिया गया है। वहीं मामले की जांच ASP दक्षिणी को सौंपी गई है। 

-जानकारी के मुताबिक, हरदोई की रहने वाली महिला सिपाही मोनिका रावत हैदरगढ़ कोतवाली में तैनात थी। 

-वह यहां किराए पर रहती थी। रविवार को जब महिला सिपाही का फोन नहीं मिला तो पड़ोस में रहने वाला दूसरा सिपाही उसे खोजते हुए घर पर आया। 

-उसने कई बार दरवाजा खटखटाया लेकिन मोनिका ने कमरा नहीं खोला, इसके बाद सिपाही ने धक्का मारा तो दरवाजा खुल गया।

-कमरे के अंदर मोनिका का शव पंखे में रस्सी के फंदे पर लटका हुआ था। सिपाही ने इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दी। 

-सूचना मिलते ही भारी पुलिस बल मौके पर पहुंची और मोनिका के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। साथी ही महिला सिपाही के परिजनों को मामले की सूचना दी। 

-बताया जा रहा है कि महिला सिपाही ने अनुज नाम के एक शख्स को सुसाइड नोट व्हाट्सएप किया था। जिसमें सिपाही ने SHO परशुराम ओझा और मुंशी रुखसार अहमद पर प्रताड़ना का आरोप लगाया था। जिसके बाद एसपी ने एसएचओ और मुंशी को लाइन हाजिर कर दिया। 

 

क्या लिखा सुसाइड नोट में 

"मैं मोनिका थाना हैदरगढ़ बाराबंकी में आरक्षी के पद पर तैनात हूं, मैं कार्यालय में सीसीटीएनएस पर कार्यरत होने के बावजूद भी बार-बार बाहर ड्यूटी लगाकर टार्चर किया जाता है, जबकि बाकी CCTNS पर कार्यरत लोगों की कही बाहर ड्यूटी नहीं लगती है, इस डिपार्टमेंट में अगर कुछ खुद के साथ गलत हो रहा है तो उसका विरोध करना गुनाह है जो भी हो रहा है चुपचाप सहते जाओं तब ही शायद सभी खुश रहते हैं, जब मैंने इस चीज का विरोध किया तो कार्यालय में मौजूद  तैनात कांस्टेबल मोहर्रिर रुखसार अहमद व एसएचओ परशुराम ओझा द्वारा मुझे प्रताड़ित किया जाने लगा। मेरी गैरहाजिरी की रपट भी लिख दी। 29 सितंबर को जब मैं छुट्टी का प्रार्थना पत्र लेकर एसएचओ परशुराम ओझा के पास गई तो उन्होंने रजिस्टर फेंक दिया और कहा कि मैं छुट्टी नहीं दूंगा, सीओ से जाकर मिलो। छुट्टी अधिकार होता है उसके लिए भी अगर उच्चाधिकारियों के सामने भीख मांगने पड़े तो यह ठीक नहीं है। आखिर कब तक यह सब कर्मचारियों को झेलना पड़ेगा, अगर शायद आज छुट्टी दी गई होती तो यह कदम नहीं उठाना पड़ता और आज नहीं रोना व परेशान होना पड़ता। Sorry मम्मी-पापा जो भी आप लोगों के साथ किया, हो सके तो मुझे माफ कर देना Sorry'

 

कन्नौज. यूपी के कन्नौज जिले में घर से स्कूल जा रही छात्रा का युवक ने अपहरण कर रेप का मामला सामने आया है। आरोप है कि आरोपी ने छात्रा का अपहरण किया और खेत में जाकर उसके साथ रेप किया। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी फरार हो गया। पुलिस ने छात्रा के परिजनों की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

-जानकारी के मुताबिक, यह घटना थाना इंदरगढ़ क्षेत्र के खनियापुर गांव की है।

-यहां रहने वाली 13 साल की किशोरी इंटर कालेज की छात्रा है। सुबह 8 बजे छात्रा अपने स्कूल जा रही थी।

-खनियापुर-उटकपुरा गांव के बीच गांव के मोनू ने छात्रा का अपहरण कर लिया और मुंह बंद कर पास में बाजरा के खेत में उठा ले गया।

-वहां पर मोनू ने छात्रा से दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया।इसके बाद छात्रा बेहोश हो गई। यह देख आरोपी फरार हो गया।

-दोपहर करीब एक बजे छात्रा को होश आया और वह अपने घर पहुंची। छात्रा ने जानकारी परिजनों को दी।

पीड़ित छात्रा के पिता ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया। छात्रा को इस घटना से गहरा सदमा भी लगा है। 

-पुलिस ने बताया कि मुकदमा दर्ज हो गया और जांच शुरू कर दी गई। छात्रा को मेडिकल परीक्षण के लिए भेज दिया गया। आरोपी की तलाश शुरू कर दी गई और जल्द ही गिरफ्तार कर जेल भेजा जाएगा। 

लखनऊ.  विवेक तिवारी हत्याकांड में पुलिस का काला खेल सामने आया है। लखनऊ पुलिस ने FIR में भी पुलिस ने खेल कर दिया है। तहरीर में विवेक परिजनों की बजाय सना के लिखे बयान लिखे गए है। पुलिस ने हत्या की चश्मदीद सना से तहरीर लिखवा डाली है। आरोप है कि पुलिस ने सना से मनमाफिक तहरीर लिखवाई है। आरोपी सिपाही को बचाने का पुलिस प्रयास कर रही है। तहरीर में आरोपी सिपाही के घटनास्थल पर होने का जिक्र नहीं है।  तहरीर में पुलिसकर्मी थे मौजूद, लेकिन गोली किसने चलाई, इसका जिक्र नहीं है।  चश्मदीद सना को दबाव में लेकर केस को कमजोर किया जा रहा है। पुलिस ने चश्मदीद सना को मामले में मुख्य गवाह बनाया है

 

फर्रुखाबाद : जब राजधानी लखनऊ एक सिपाही की करतूत से दहल रही  थी, उसी दरम्यान फर्रुखाबाद में एक बेलगाम सिपाही ने अपने ही भाई पर चाकुओं से हमला कर सनसनी मचा दी। भागने का कोई रास्ता न मिलने पर सिपाही ने खुद कमरे में बंद होकर गांव में मर्डर होने की सूचना पुलिस को दी। लेकिन पुलिस अधीक्षक संतोष मिश्रा की तत्परता काम आई और सिपाही की मंशा पूरी नहीं हो सकी। गंभीर हालत में लोहिया अस्पताल पहुंचे सिपाही के भाई को होश आ गया और उसे बचा लिया गया। फिलहाल, हमलावर सिपाही को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी सिपाही कानपुर में ट्रैफिक पुलिस में तैनात है। 

-जानकारी के मुताबिक, थाना क्षेत्र के मुस्लिम बहुल गांव भडोसा में कानपुर में तैनात ट्रैफिक पुलिस के सिपाही वकील अहमद ने अपने ही सगे भाई शकील पर चाकुओं से जानलेवा  हमला कर दिया और स्थिति बिगड़ने पर खुद कमरे में बंद होकर गांव में मर्डर होने की सूचना पुलिस को दी। 

-घटना की सूचना के बाद पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्र पूरी तरह से एलर्ट थे।

-उन्होंने मौके पर पहुंचकर जांच और पूछताछ से पहले बेसुध सिपाही के भाई शकील को मारुती वैन से लोहिया अस्पताल भिजवाया।

क्या बोले एसपी 

-एसपी संतोष कुमार मिश्र ने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता शकील को अस्पताल पहुंचकर उसका इलाज शुरू कराने की थी. हमने ऐसा किया और शकील जिसे लोग मृत समझ रहे थे उसे बचा पाने में कामयाब हुए. ऐसी घटनाओं में हमें आगे भी पहले घायल को उपचार के लिए भेजने को प्राथमिकता देनी चाहिए। 

 

जमीन को लेकर चल रहा है विवाद 

-बताया जा रहा है कि तीन भाइयों में सबसे छोटे ट्रैफिक पुलिस के सिपाही वकील का भाई शकील से जमीन का विवाद चल रहा है।

-आरोप है कि शनिवार शाम वकील कार से चार-पांच साथियों को लेकर भाई शकील के घर पहुंचा और चाकू मार दिया। इस बीच शकील पर डंडे भी बरसाए। 

-शकील के चीखने पर जुटे आसपास के लोगों ने वकील को घेरकर पीटना शुरू कर दिया। उसके साथी कार से भाग निकले

-वकील ने भी ग्रामीणों की गिरफ्त से निकलकर एक और घर में पनाह लेने की कोशिश की। पीछा करते शकील के बेटे वहां पहुंच गए और पुलिस को सूचना दी।

-घटना की सूचना सिपाही के हाथों भाई की हत्या के रूप में प्रचारित होने से एसपी संतोष मिश्रा कुछ देरी में ही गांव पहुंच गए और आरोपी सिपाही को गिरफ्तार कर लिया. 

 

 

:
:
: