Headline • जम्मू-कश्मीर में सरकार ने अर्धसैनिकों के लिए दी हवाई यात्रा को मंजूरी• अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर


लखनऊ: सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लखनऊ की घटना एन्काउंटर नहीं है। इस मामले की जांच की जा रही है। दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। अगर जरूरत हुई तो सरकार सीबीआई जांच भी करा सकती है। 

बता दें कि एपल कंपनी के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की कांस्टेबिल ने गोली मार कर हत्या कर दी जब उन्होंने कार नहीं रोकी।

उन्हें शुक्रवार-शनिवार की रात उस वक्त गोली मार दी गई जब वे अपनी सहकर्मी को उसके घर छोड़ने जा रहे थे। उनका पोस्टमार्टम हो गया है। जिसमें सिर में गोली लगने से मौत बताई जा रही है। 

यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर आनंद कुमार ने कहा कि इस मामले में हत्या का केस दर्ज कर लिया गया है। दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया है।

उन्होंने स्पष्ट किया कि पुलिस की ओर से विवेक के चरित्र पर कोई सवाल नहीं उठाए गए हैं। सिपाही प्रशांत मालिक और संदीप को गिरफ्तार कर लिया गया है। 

 

लखनऊ. मृतक एप्पल के एरिया मैनेजर विवेक तिवारी की लाश की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि उसके सर में गोली मारी गई है। स्पष्ट हो गया है कि विवेक की गोली लगने से ही हुई मौत।

पुलिस अफसर पोस्टमार्टम हाउस में कमरा बन्द करके डॉक्टरों से बातचीत की। हालांकि, अभी यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि मृतक विवेश के शरीर में एल्कोहल मिला है या नहीं।

मृतक के साले ने पूरे मामले की सीबीआई जांच कराने की मांग की है। उन्होंने मीडिया से कहा कि विवेक को जानबूझ कर मारा गया है। अगर वे भाग रहे थे तो उनके पैर में या गाड़ी का नंबर नोट किया जा सकता था लेकिन उसे सिर पर गोली मारी गई है।

मृतक विवेक तिवारी के रिश्तेदार विष्णु शुक्ला ने कहा कि क्या वह आतंकवादी थे जो पुलिस ने गोली मार दी? हम योगी आदित्यनाथ को अपने प्रतिनिधि के रूप में चुनते हैं, हम चाहते हैं कि वह इस घटना का संज्ञान लें और निष्पक्ष सीबीआई जांच की मांग करें।

वहीं, मृतक विवेक की पत्नी कल्पना तिवारी ने कहा कि पुलिस को मेरे पति को मारने का कोई हक नहीं था। मैं यूपी के सीएम से मांग करती हूं कि वह यहां आएं और मुझसे बात करें। 

हमीरपुरः यहां मौदहा कोतवाली के सामने रामलीला ग्राउंड पर धरना-प्रदर्शन कर रहे लोग व्यापारी और हिन्दुवादी संगठन से जुड़े हैं। ये लोग पिछले चार दिनों से बाज़ार बंद कर कंस मेले का जुलूस ना निकल पाने का विरोध दर्ज करा रहे हैं। उसी विरोध को आगे बढ़ाते हुए आज भी धरने पर बैठे रहे। 

बताते चलें कि हमीरपुर के मौदहा कस्बे में 24 सितम्बर को कंस मेले का जुलूस निकला था।

बाद में हालांकि रास्ते के विवाद को लेकर देवी चौराहे पर रोक दिया गया था, जिसके बाद देररात तक अधिकारियों और हमीरपुर सांसद सहित तमाम भाजपा नेताओं ने बैठक कर सुलझा लिया था।

फैसला लिया गया कि जुलूस शांतिपूर्ण तरीके से अगले दिन निकाला जाएगा। लेकिन ऐसा हो ना सका और तब से ही कस्बे में तनाव का माहौल है। लोगों के अंदर रोष है कि सैकड़ों साल से चला आ रहा कंस मेले का जुलूस प्रशासन की लापरवाही के बिना पर नहीं निकाला जा सका। 

जुलूस ना निकल पाने का विरोध दर्ज करते हुए व्यापारी पिछले चार दिनों से बाज़ार बंद किये हुए हैं।

वे जुलूस को शांतिपूर्ण तरीके से दुबारा निकाले जाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन मांगें पूरी ना होने पर आज व्यापारियों सहित तमाम हिंदूवादी संगठन धरने पर बैठ गये हैं। अब जुलूस निकालने के साथ साथ सारे दोषी अधिकारियों को बर्खास्त करने की मांग पर अड़ गये हैं। 

लखनऊः राजधानी लखनऊ में शुक्रवार रात करीब एक बजकर 30 मिनट पर एक पुलिस कॉन्स्टेबल की ओर से गाड़ी रोकने का इशारा करने पर जब गाड़ी नहीं रोकी तो कॉन्टेबिल ने नजदीक से गोली चला दी। कॉस्टेबिल  की गोली से 38 साल के शख्स की मौत हो गई।

घटना रात के 1.30 बजे लखनऊ के गोमती नगर एक्सटेंशन इलाके की है। कार चालक की पहचान विवेक तिवारी के रूप में हुई है। जिस समय गोली मारी गई, उस समय कार में एक महिला भी थी। कुछ दूर चलने के बाद कार एक पोस्ट से टकरा गई। जहां पुलिस विवेक और महिला को अस्पताल ले गई, जहां विवेक की मौत हो गई। मृतक विवेक एप्पल कंपनी का एरिया मैनेजर था।

इस  मामले में पुलिस का कहना है कि विवेक तिवारी अपनी एक महिला साथी के साथ एसयूवी कार चला रहा था। गश्त पर मौजूद दो पुलिसकर्मियों ने उसे इशारा कर गाड़ी रोकने को कहा। पुलिस ने कहा कि तिवारी ने वहां से कथित तौर पर भागने का प्रयास किया, इसी क्रम में पहले उसने पहले पुलिस की पेट्रोलिंग वाली बाइक में और फिर बाद में दीवार को भी टक्कर मारी। पुलिस ने विवेक की महिला मित्र को उसके घर में ही नज़रबंद कर दिया है।

उधर विवेक की पत्नी ने लाश का अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया है। उन्होंने कहा कि जबतक सीएम योगी नहीं आएंगे तब तक लाश को उठने नहीं दिया जाएगा।

इस बीच सीएम योगी ने इस मामले में डीजीपी से बात की है। 

सवाल उठ रहा है कि पुलिस कांस्टेबल प्रशांत कुमार को गोली चलाने की नौबत क्यों आई। लखनऊ पुलिस का कहना है कि कॉन्स्टेबल ने आत्म-रक्षा के लिए गोली चलाई थी। पुलिस का कहना है कि आरोपी कॉन्स्टेबल को लगा कि कार के भीतर शायद अपराधी हो सकते हैं।  

 लखनऊ एसएसपी कलानिधि नैथानी ने कहा कि हमने उस पुलिस कर्मी को हिरासत में ले लिया है, जो उस वक्त घटनास्थल पर चेकिंग ड्यूटी पर था। उसके खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया है। 

 

गोरखपुरः उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि यह देश किसी फतवे से नहीं बल्कि देश के लिखित संविधान से चलेगा। योगी शुक्रवार को गोरखपुर में थे और गोरखनाथ मंदिर में आयोजित ब्रम्हलीन महंत दिग्विजयनाथ और अवैद्यनाथ के पुण्यतिथि समारोह में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि देश की रक्षा और सम्मान सर्वोपरि है जिससे कोई समझौता नहीं हो सकता।

योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज देश को नरेंद्र मोदी के रूप में एक कुशल नेतृत्वकर्ता मिला है। जिससे पूरी दुनिया में देश की साख बढ़ी है। सुरक्षा से कोई समझौता नहीं, यह प्रधानमंत्री मोदी की नीति है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने स्वच्छ्ता का जो अलख देश में जगाया उसकी चारो ओर प्रशंसा हो रही है।

स्वच्छता हमारे जीवन का प्रमुख अंग होना चाहिए। इसे अपनाकर हर कोई स्वस्थ हो सकता है। उन्होंने कहा कि गोरखनाथ मंदिर भी स्वच्छ्ता का अद्भुत उदाहरण पेश करता है।

यहां रहने वाला हर साधु- संत सुबह उठने के साथ  झाड़ू हाथ में लेकर अपने आस-पास सफाई जरूर करता है। उन्होंने कहा कि देश को आगे बढ़ाने में हर वर्ग के लोगों की जरूरत है। चाहे वह संत हो, शिक्षक हो या फिर राजनेता। योगी जिस सभा में बोल रहे थे उसमे देश के कई अखाड़ों और पीठ के सैकड़ों संत मौजूद थे। श्रोता भी योगी की बात सुनकर गदगद थे। 

सीएम योगी ने कहा कि गोरखनाथ मंदिर का इतिहास रहा है कि वह धर्म की राह पर चलते हुए सदैव देश के मान सम्मान के लिए भी खड़ा रहा।

हिंदुत्व की बात हो चाहे राम मंदिर आंदोलन की अगुवाई की बात, यहां के पीठाधीश्वर ने सबको एक जुट किया। उन्होंने कहा कि देश को समृद्ध और शिक्षित बनाने में जितना काम मठ- मंदिरों ने किया उतना शायद ही कोई अन्य संस्थाए की हो।

अकेले गोरखनाथ पीठ की 50 शैक्षणिक संस्थाए हैं जिनमें 50 हजार से ज्यादा बच्चे शिक्षा ले रहे हैं तो 5 हजार शिक्षक-कर्मचारी काम कर रहे हैं। यहां से भूखा नहीं जा सकता। सीएम आज सुबह 11 बजे अपने निजी यात्रा पर दो दिन 

के लिए गोरखपुर पहुंचे। वह साप्ताहिक श्रद्धांजलि समारोह में शिरकत करने के साथ देश के कोने कोने से आये संतों का सम्मान और भंडारा कराने के बाद शनिवार दोपहर गाजियाबाद के लिए प्रस्थान कर जाएंगे।

:
:
: