Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी

जेएनयू मामले पर मचा घमासान, मायावती ने कन्हैया कुमार की गिरफ्तार को बताया निंदनीय

जेएनयू मामले पर मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। बीएसपी अध्यक्ष मायावती ने जेएनयू के छात्रसंघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को देशद्रोह की धारा में गिरफ्तार करने की निंदा की है। मायावती ने कहा, छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार को देश द्रोह की धारा के तहत गिरफ्तार करना राजनीतिक षड़यंत्र  है।  JNU  जैसी उच्च शिक्षण संस्थान को इस प्रकार से देश द्रोह संस्थान बताकर उसे बदनाम करना दुखद व निंदनीय है।

उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार अपने इस प्रकार के घोर जनविरोधी रवैये से देश का घोर अहित कर रही है। 

बता दें कि, राष्ट्र  विरोधी नारे लगाने के आरोप में गिरफ्तार हुए जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार की आज पेशी के दौरान दिल्ली के पटियाला हाउस कोर्ट में जमकर हंगामा हुआ। पेशी के दौरान वकीलों और कुछ युवकों ने 'भारत माता की जय' के नारे लगाए।

आइए आपको दिखाते है कि, एबीवीपी ने जेएनयू स्टूडेंट का देशद्रोही का एक नया वीडियो जारी किया है।



इलाहाबाद सेन्ट्रल यूनिवर्सिटी में आज छात्रसंघ द्वारा आयोजित सम्मान समारोह में शामिल होने पहुंचे समाजवादी पार्टी के सांसद धर्मेन्द्र यादव को आज इस मुद्दे पर एबीवीपी के कार्यकर्ताओं का ज़बरदस्त विरोध झेलना पड़ा। एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने जेएनयू मुद्दे पर समाजवादी पार्टी पर वोट बैंक की राजनीति करने का आरोप लगाकर सांसद धर्मेन्द्र यादव को काले झंडे दिखाए और उनके व उनकी पार्टी के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस दौरान विरोध करने वाले एबीवीपी कार्यकर्ताओं व पुलिस में तीखी झड़प हुई। पुलिस द्वारा दौड़ाए जाने पर एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर पत्थर भी फेंके। एबीवीपी कार्यकर्ताओं के हंगामे व नारेबाजी के चलते सांसद धर्मेन्द्र यादव के कार्यक्रम में कई बार अफरा तफरी मची। इस दौरान पुलिस ने एबीवीपी कार्यकर्ताओं पर हल्का बल प्रयोग भी किया। एबीवीपी द्वारा विरोध के एलान के चलते कार्यक्रम स्थल को पुलिस छावनी में तब्दील किया गया था। एबीवीपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि समाजवादी पार्टी के लोग जेएनयू में देश विरोधी कार्यक्रम का समर्थन कर रहे हैं। इलाहाबाद सेन्ट्रल युनिवर्सिटी में कार्यक्रम के कुछ छात्रों ने कैम्पस की समस्याओं  को लेकर अलग से प्रदर्शन व नारेबाजी की। इन छात्रों ने प्रैक्टिकल इम्तहान शुरू नहीं होने, हॉस्टलर्स के खिलाफ दर्ज मुक़दमे वापस लिए जाने और पब्लिक सर्विस कमीशन में कथित गड़बड़ियों की जांच किये जाने की भी मांग उठाई।

वहीं, जेएनयू की आग का विरोध अब हरिद्वार में भी देखने को मिल रहा है। जेएनयू में लगे देशद्रोही नारों ने पूरे देश में भूचाल मचा दिया है। तीर्थ नगरी हरिद्वार में साधु संतों ने एक बैठक कर 6  मार्च को होने वाली धर्मसंसद में युवाओं को बढ़चढ़ कर भाग लेने का अहवान किया है। हरिद्वार के भूमानिकेतन आश्रम के परमाध्यक्ष स्वामी अच्यूतानंद तीर्थ महाराज ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि देश का वर्तमान समय बड़ा कलंकित रुप में चल रहा है। जिस तरह हमारे अपने ही देश में युवा देश विरोधी नारे लगा रहे है इसकी जिनती निंदा की जाए वो कम है और उससे भी बड़ा गम्भीर विषय यह है​ कि राजनैतिक पार्टियां इस पूरे मसले को राजनैतिक रुप देने में लगी है। आगामी 6 मार्च को होने वाली धर्म संसद में युवाओं से अहवान है वो अपने देश में उठ रही विद्रोह की आवाज को संत महात्माओं के साथ विचार कर योजना बनाए।

संबंधित समाचार

:
:
: