Headline • बीजेपी के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष बने जे.पी. नड्डा • फिल्म आर्टिकल 15 को लेकर सुर्खियों में छाए रहे, आयुष्मान खुराना • लगातार दो शतक जड़ के शाकिब ने बांग्लादेश के लिए रचा इतिहास • एक बार फिर कथित लव-जिहाद का ममला सामने आया जाने पूरी खबर• बिहार में लू के कारण 246 मौतें, लगी धारा 144 • बॉलीवुड एक्ट्रेस सोनाली बेंद्रे को क्यो किडनैप करना चाहते थे शोएब अख्तर• सानिया मिर्जां के साथ पार्टी करना शोएब मलिक को पड़ा भारी।• केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन हुए परिजनों के गुस्से का शिकार • 17वी लोकसभा में प्रधानमंत्री मोदी विपक्ष पर बोले • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है • महेंद्र सिंह धोनी के सेना के 'बलिदान बैज' वाले दस्तानों पर बहस तेज• अफगानिस्तान सेना के दस्ते ने आतंकी संगठन तालिबान की जेल से छुड़ाए 83 नागरिक• जगन मोहन रेड्डी ने पलटा चंद्रबाबू सरकार का फैसला, अब आंध्र प्रदेश में CBI कर सकेगी जांच• नमाज के दौरान बेकाबू कार ने भीड़ को मारी टक्‍कर हुआ हगामा • गृह मंत्रालय का प्रभार संभालते ही बीजेपी चीफ अमित शाह ऐक्शन में, जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग पर विचार


रुद्रप्रयाग- आपदा के डेढ़ साल बाद भी रुद्रप्रयाग जिले में कई ग्रामीण अंचल झूला पुलों से नहीं जुड़ पाए हैं। जिसके कारण ग्रामीणों को हर रोज ट्रालियों में जान हथेली पर रखकर आवाजाही करनी पड़ रही है। इस दौरान कई हादसे भी हुए हैं लेकिन लोक निर्माण विभाग का इस ओर ध्यान ही नहीं गया।

बता दें कि रतूड़ा क्षेत्र को धारकोट पट्टी से जोड़ने वाले धारकोट झूला पुल बीते साल भीषण आपदा में अलकनंदा नदी के बहाव से ध्वस्त हो गया था। तब से लेकर अब तक ग्रामीण ट्रालियों के जरिए सफर कर रहे हैं। हर रोज इस पुल से सैकड़ों लोग आवाजाही करते हैं, वहीं स्कूल के बच्चे भी ट्रालियों के जरिए सफर करने से डर रहे है और समय पर स्कूल भी नहीं पुल पाते हैं। उधर लोक निर्माण विभाग के पास धन उपलब्ध होने के बाद भी चुप्पी साधे हुए है। जिसको लेकर ग्रामीणों में आक्रोश है और उन्होंने विभाग पर घोर लापरवाही का आरोप लगाया है।

संबंधित समाचार

:
:
: