Headline • चीन के लिए जासूसी कर रहें पूर्व सीआइए अफसर को अमेरिका ने को सुनाई 20 साल की सजा• PM पद के लिए राहुल गांधी का मिला जेडीएस प्रमुख देवगौड़ा का समर्थन• लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी और अमित शाह की पहली संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस • समलैंगिक विवाह को ताइवान ने दिया वैधानिक दर्जा • साध्‍वी प्रज्ञा पर बोले पीएम मोदी ''मैं उन्‍हें कभी माफ नही कर पाऊंगा''• ऑस्ट्रिया सरकार ने प्राथमिक स्कूलों की लड़कियों के हिजाब पर प्रतिबंध लगाने का कानून पारित किया• लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग पर बरसीं ममता बनर्जी, चुनाव आयोग को BJP का भाई बताया • राहुल का पीएम मोदी पर हमला पीएम सोचते हैं एक व्यक्ति देश चला सकता है• बंगाल में अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के विरोध में जंतर-मंतर पर भाजपा का प्रदर्शन• बंगाल में रोड शो से पहले मोदी-शाह के पोस्टर उतरे • मैं कभी PM के परिवार का नहीं करूंगा अपमान: राहुल गांधी• भारत को ही क्‍यों बेच रहा एफ-21 लड़ाकू विमान अमेरिका • बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर सादा निशाना• PM मोदी पर मायावती के विवादित बयान पर जेटली का हमला किसी पद के लायक नहीं बसपा सुप्रीमो• विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे के खिलाफ स्‍वीडन में दोबारा खुल सकता है यौन उत्‍पीड़न मामला• ममता के घर में अमित शाह की दहाड़ हिम्मत है तो करो मुझे गिरफ्तार• ट्विटर ने हटाए कई पाकिस्‍तानी अकाउंट, पाक सरकार ने लगाए थे देश नियमों के उल्‍लंघन का आरोप• कोई भी देश कमजोर सरकारों के होते शक्तिशाली नहीं बन सकता: PM मोदी• भारतीय सीमा में घुसे पाकिस्तानी मालवाहक विमान को वायुसेना ने जयपुर एयरपोर्ट पर उतरवाया• फ्रांस के स्‍कूल में भेड़ों का दाखिला • सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या भूमि विवाद की मध्यस्थता प्रक्रिया के लिए 15 अगस्त तक का समय बढ़ाया • दक्षिण चीन सागर में अमेरिका, भारत, जापान और फिलीपींस ने मिलकर किया सैन्य अभ्यास• प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान AAP उम्मीदवार आतिशी ने लगाए गौतम गंभीर पर आरोप• पीएम मोदी द्धारा पूर्व पीएम राजीव गांधी पर दिये गये बयान के बचाव में उतरी कांग्रेस• आईपीएल 2019: मुंबई के खिलाफ हार के बाद भड़के धोनी


वन विभाग में हुए घोटाले की परत दर परत खुलती जा रही है। वन विभाग में करोड़ोंं रूपये का घोटाला हुआ हैंं। ये घोटाला पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत व जीरो टोरेन्स वाली भाजपा वर्तमान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सरकार में हो रहा है। इन घोटालाेेंं का मास्टर माइंड उत्तरी कुमाऊ वित्त संरक्षक डॉ आरपी सिंह को बताया जा रहा है। डीएफओ पंकज कुमार ने मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष, वन मंत्री, अपर मुख्य सचिव व प्रमुख वन संरक्षक को पत्र लिख कर उत्तरी कुमाऊ संरक्षक डा आरपी सिंह पर भ्रष्टाचार व करोड़ों केे घोटालेे का अरोप लगा कर उनकी जांच कर कार्यवाही की मांग की है।

उत्तरी कुमाऊ संरक्षक ने करोड़ों के घोटाले पर कोई कार्यवाही ना हो इसके लिए उन्होंंने डीएफओ पंकज कुमार का तबादला कर दिया। जिसको डीएफओ ने हाईकोर्ट से स्टे ला कर दुबारा अल्मोडा में तैनाती की, जिसके बाद वन संरक्षक ने डीएफओ के खिलाफ साजिस कर पूरे स्टाफ को उनके खिलाफ आन्दोलन के लिए मजबूर कर उनका दुबारा तबादला किया गया। डीएफओ पंकज कुमार ने मुख्यमंत्री, भाजपा प्रदेश अध्‍यक्ष, वन मंत्री, अपर मुख्य सचिव व प्रमुख वन संरक्षक को पत्र लिख कर वन विभाग में हुए घोटाले व भ्रष्टाचार का खुलासा कर उनके खिलाफ कार्यवाही की मांग की है।

डीएफओ पंकज कुमार ने लिखे पत्र पर कहा कि आईपी सिंह लम्बे समय से भ्रष्टाचार में लिप्त है। जब आईपी सिंह प्रभागीय वनाधिकारी पद पर पिथौरागढ़ में तैनात थे तब उन्होंंने भ्रष्टाचार की सभी हदें पार कर दी थी। बकर लीफ योजना में बाजार की दरों से अधिक दरों पर करोड़ों का सामान उत्तराखण्ड क्रय नियमावली के विपरीत मोटा कमीशन लेकर क्रय किया गया था।

ये पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के काफी नजदीकी थे उन्ही के दबाव में जायका योजना और कई करोड दैवीय आपदा में दिलायेे गए। इस पैसे में मोटा कमीशन लिया और कोई काम नही कराया गया।मुख्यमंत्री घोषणा के तहत करोड़ों पैसा मिला लेकिन आरपी सिहं ने मोटा कमीशन लेकर बहुत ही कम काम कराया और कई पुराने कामों को व दूसरी योजनाओं में कराए गए कार्यों को इस योजना में दिखाया। इसके लिए इन्होंंने डीडीआर रेजरों को अटेच कर दिया और डिप्टी रेजरों को चार्ज दिया गया ताकि वे 50 से 60 प्रतिशत तक कमीशन दे सके।

आर पी सिंह ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत से मिलकर अपनी पोस्टिंग वन संरक्षक अल्मोडा के पद पर करायी ताकि इनके पुराने कामों में की गयी अनियमितताओं की जांच न हो सके। अल्मोडा कोसी परियोजना में भी 2 करोड़ रूपये का घोटाला किया गया है।

कोसी परियोजना में दो करोड़ कैम्पा योजना में विभाग दिया गया जिसमें अभी तक कोई काम नही कराया गया जो सामान खरीदा गया वह भी नियमों को दर किनार कर अपने मनचाहे ठेकेदारों से मिलकर खरीदा गया। जब यह मामला डीएफओ पंकज कुमार के पास आया तो उन्होंंने इसकी जांच शुरू कर दी। तो कर्मचारी को उनके खिलाफ भड़का कर आन्दोलन खड़ा कर दिया गया। जिससे कि इस पूरे घोटाले पर पानी फेरा जा सके।

संबंधित समाचार

:
:
: