Headline • न्‍यासा देवगन फिल्‍म इंडस्‍ट्री में अपना लक आजमायेंगी ? अजय देवगन ने की खुलकर बात• चीन को 28 साल में सबसे बड़ा झटका, अर्थव्यवस्था न्यूनतम स्तर पर पहुंची• यूपी 69 हजार शिक्षक भर्ती पर 28 जनवरी तक रोक• कर्नाटक: सिद्धगंगा मठ के मठाधीश शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन• Amazon ग्रेट इंडियन सेल: तीन दिनों की शानदार डील• मेक्सिको ईंधन पाइपलाइन ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 85 हो गया।• विपक्ष का गठबंधन नकारात्मकता और भ्रष्टाचार का है :पीएम मोदी• धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति


आगराः कवि, राजनेता और भारतरत्न से नवाजे गए देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई जी ने कल शाम इस दुनिया को अलविदा कह दिया। पूरे देश में शोक की लहर है। अटलजी का पैतृक गांव आगरा से 70 किलोमीटर दूर बटेश्वर है। उस गांव में भी माहौल गमजदां है। अटलजी के पैतृक गांव में आज भी उनके परिवार के रिश्तेदार और परिवारजन मौजूद हैं। जिनको अटलजी के जाने का बेहद दुख है।

गलियों में सन्नाटा पसरा हुआ है। लोग घरों के दरवाजे पर बैठे हैं। अटलजी के पिताजी का घर बटेश्वर में है। बाद में वे लोग यहां से ग्वालियर चले गए थे। 

अटलजी चार भाई तीन बहन हैं। अटलजी जन्म 1924 में ग्वालियर में हुआ था। अटलजी अक्सर बटेश्वर आते जाते रहे। अटलजी का मकान आज खंडहर में तब्दील हो चुका है। अटलजी जब प्रधानमंत्री बने तब बटेश्वर में रेलवे हॉल्ट का शिलान्यास किया था, कई साल पहले केंद्र सरकार ने उसे अमलीजामा पहनाया। 

अटलजी के पिता कृष्ण बिहारी वाजपेयी के मकान के ठीक बगल में अटलजी के भतीजे रमेशचंद वाजपेई का मकान है। उनका परिवार कई दिनों से उनके स्वास्थ्य लाभ के लिए पूजा अर्चना कर रहे थे लेकिन कल शाम जब निधन की खबर आई तो पूरा परिवार शोक में डूब गया। 

अटलजी के घर के बाहर उनकी कुल देवी का मंदिर है। वहां भी आज सन्नाटा है। पूजा अर्चना करने वाले अटलजी के रिश्तेदार मंगल चरण शुक्ला का कहना है कि अटलजी की बहुत सी यादें जुड़ी है। अब किस किस का उल्लेख किया जाए। 

संबंधित समाचार

:
:
: