Headline • पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी गिरफ्तार • 90 बीघे जमीन के लिए चली अंधाधुंध गोलियां, बिछ गई लाशें• धौनी के माता-पिता भी चाहते है कि वो अब क्रिकेट से संन्यास ले• चंद्रयान-2 की आयी डेट; 22 जुलाई को होगा लॅान्च • कुलभूषण जाधव केस : 1 रुपये वाले साल्वे ने पाकिस्तान के 20 करोडं रुपये वाले वकील को दी मात • कांग्रेस को नहीं मिल पा रहा नया अध्यक्ष , किसी भी नाम को लेकर सहमति नहीं• पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर


 आगराः पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का आगरा से गहरा नाता है। शहर के तमाम पुराने भाजपाई कहते हैं कि अटलजी उन्हें देखते ही पहचान जाते थे। उन्होंने कभी किसी भी कार्यकर्ता को निराश नहीं किया। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स), नई दिल्ली में भर्ती कराने के लिए खुद ही चले जाते थे।

एक मौका ऐसा भी आया, जब अटल बिहारी वाजपेयी ने आगरा के लोगों को खतरनाक कह दिया था। 25 दिसम्बर को अटल बिहारी वाजपेयी का जन्मदिवस है। आगरा के जयपुर हाउस इलाके में अटल बिहारी की बहन कमला देवी का निवास भी है। जहां अक्सर अटल बिहारी आया जाया करते थे। और परिवार के अन्य लोगों से बातचीत, घूमना, फ़िल्म देखना और अच्छी अच्छी बातें सिखाने का शौक रखते थे।

बात 1988 की है। आगरा के कोठी मीना बाजार मैदान में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का राष्ट्रीय अधिवेशन हुआ था। तब लालकृष्ण आडवाणी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे, लेकिन जलवा अटल बिहारी वाजपेयी का ही था। अधिवेशन के दौरान अटल-आडवाणी का स्वागत जुलूस निकाला गया।

दुकानों और घरों से जबर्दस्त पुष्पवर्षा हुई। इसके बाद अम्बेडकर पार्क, बिजलीघर में हुई सभा में अटल ने कहा था- भई, आगरा के लोग तो बहुत खतरनाक हैं। ये तो फूलों से घायल कर देते हैं। जरा बचके रहना। अटल जी ने फूलों से घायल करने वाले आगरा के खतरनाक लोगों की चर्चा कई अन्य सभाओं में भी की।

भाजपा के ब्रज क्षेत्र अध्यक्ष पुरुषोत्तम खंडेलवाल ने बताया कि अधिवेशन के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी की कार अधिवेशन स्थल पर आई।  और अधिवेशन के सुरक्षा प्रमुख थे सुनील शर्मा एडवोकेट। उन्होंने कार को रोक दिया। उन्हें नहीं पता था कि इसमें अटल बिहारी वाजपेयी बैठे हैं।

वाजपेयी बाहर निकले और कारण पूछा तो उनसे कहा कि बिना प्रवेशिका के प्रवेश नहीं मिलेगा। इस पर अटल बिहारी वाजपेयी ने प्रवशिका बनवाई और अंदर गए। अनुशासन का पालन करने के लिए उन्होंने सुनील शर्मा को शाबासी भी दी। सुनील शर्मा ने बताया कि अटल जी की यही खूबी उन्हें अजातशत्रु बनाती है।

आगरा वासी कहते है कि अटल बिहारी वाजपेयी को आगरा का नाश्ता बहुत पसंद है। बेड़ई-कचौड़ी पर तो मानो वे टूट ही पड़ते थे। स्वयं खाते थे औऱ दूसरों को भी खिलाते थे। मशहूर हलवाई देवीराम की जलेबी और बेडई खाने के शौकीन अटल बिहारी के क्रियाकलापों का हर कोई मुरीद है। हलवाई बताता है कि उस वक्त बेडई की कीमत करीब 5 पैसा होती थी। जब अटल बिहारी नाश्ता करते थे।

अटलजी ने बेलनगंज में रामागुरु की तेल की बेड़ई और प्रतापपुरा स्थित देवीराम के समोस खूब खाए हैं। समोसे तो कई बार मैंने लाकर खिलाए हैं।

भाजपा के वरिष्ठ कार्यकर्ता सुभाष भिलावली के परिवार का एक व्यक्ति बीमार हो गया। उसे आगरा से एम्स में भर्ती कराने के लिए ले गए। वहां तो बहुत मुश्किल थी। बात अटलजी तक पहुंची। वे स्वयं उठकर गए और एम्स में भर्ती करवाया। इस तरह की उदारता है उनके मन में। इसी कारण आगरा के तमाम लोग अटलजी पर आज भी अपना हक जमाते हैं।

वही अटल बिहारी बाजपेयी के पैतृकगांव में दुख का माहौल है। लोग उनके स्वास्थ्य के लिए पूजा अर्चना कर रहे है। अटल बिहारी बाजपेयी ने गांव के ही प्राथमिक विद्यालय में 5वीं तक शिक्षाग्रहण की उसके बाद वे ग्वालियर चले गए।

संबंधित समाचार

:
:
: