Headline • शादी के 20 साल बाद पति ने खत भेजकर पत्नी को दिया तीन तलाक• गोरखपुर: धोखाधड़ी के मामले में भाई के साथ गिरफ्तार हुए डॉ. कफील खान• '67 साल में 65 एयरपोर्ट बने, हमने चार साल में 35 बनाए'• अमेठी : दो दिवसीय दौरे पर पहुंचे राहुल गांधी, की शिव की पूजा, देखें वीडियो • 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' से सामने आया आमिर खान का लुक • पीएम मोदी ने किया सिक्किम के पहले हवाई अड्डे का उद्घाटन• अमेठी : दौरे से पहले लगे राहुल गांधी के 'शिव भक्त' वाले पोस्टर• मुरादाबाद में महिला की गोली मारकर हत्या, 4 पर मुकदमा दर्ज• गाजियाबाद : दबंगों ने किया दलित परिवार पर हमला, आरोप- झाड़ू-पोछा और गाड़ी साफ करने का दबाव बनाते हैं सोसाइटी के कुछ लोग• बुलंदशहर : खड़े ट्रक में घुसी रोडवेज बस, दो की दर्दनाक मौत, 2 दर्जन यात्री घायल• गोरखपुर : शोहदों और गुंडों का आतंक, स्कूल पर लगा ताला• अाज से दो दिवसीय अमेठी दौरे पर रहेंगे राहुल गांधी, जानिए मिनट-टू-मिनट कार्यक्रम • अस्पतालों में बच्चों की मौत पर योगी के मंत्री का शर्मनाक बयान, कहा- मां-बाप है जिम्मेदार• पत्रकार सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे 'समाचार प्लस' के CEO उमेश कुमार• पीएम मोदी ने किया दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत का शुभारंभ• सपा की साइकिल यात्रा के समापन पर एक साथ दिखे अखिलेश और मुलायम सिंह यादव • गोरखपुर : सीएम योगी ने किया 'आयुष्मान भारत योजना' का शुभारंभ • महंत नृत्य गोपालदास बोले- 'राम मंदिर का निर्माण नहीं कराया तो भाजपा और मोदी के लिए घातक होगा'• गोरखपुर : बाइक को टक्कर मारने के बाद जीप पलटी, 3 की दर्दनाक मौत, 5 घायल• बीजेपी के कार्यक्रम में बार-बालाओं ने किया डांस,सांसद बाबू लाल के स्वागत में लगे ठुमके• आज से शुरू होगी आयुष्मान भारत योजना,पीएम मोदी झारखंड से करेंगे शुभारंभ• आगरा में दर्दनाक सड़क हादसा, चार लोगों की मौत• बलिया: बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह की दादागिरी, डीएम के सामने डीआईओएस से की हाथापाई• आगरा को हॉकी के विश्व पटल पर मिलेगी नई पहचान:  चेतन चौहान• योगी पहुंचे गोरखपुर, कई योजनाओं को किया लोकार्पण व शिलान्यास, बांटे प्रमाण पत्र


कानपुरः पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी का कानपुर के डीएवी कालेज से एक बहुत ही रोचक किस्सा जुड़ा है। यहां अटलजी और उनके पिता ने साथ एडमिशन लिया था यहां छात्रावास में अटलजी अपने पिता के साथ एक ही कमरे में रहते थे। विद्यार्थियों के झुंड के झुंड उन्हें देखने आते थे। दोनों एक ही क्लास में बैठते थे।

यह देख प्रोफेसरों मे चर्चा का विषय बना रहता था। कभी पिताजी देर से पहुंचते तो प्रोफेसर ठहाकों के साथ पूछते, कहिये आपके पिताजी कहां गायब हैं? और कभी अटल जी को देर हो जाती तो पिताजी से पूछा जाता आपके साहबजादे कहां नदारद हैं। अटल जी यहां जब जब 15 अगस्त आता था तो छात्रावास में जश्न भी मनाया जाता था।

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का कानपुर शहर से पुराना नाता रहा है। उन्होंने राजनीति शास्त्र की डिग्री के कानपुर आ गए। आर्थिक स्थित खराब होने के चलते तत्कालीन राजा जीवाजीराव सिंधिया ने उनकी मदद की। वाजपेयी जी ने कानपुर के डीएवी कॉलेज से लगभग चार साल तक शिक्षा ग्रहण किया।

कॉलेज के पूर्व प्रोफेसर सुमन निगम ने बताया कि अटल बिहारी जी ने 1945-46, 1946-47 के सत्रों में यहां से राजनीति शास्त्र में एमए किया। जिसके बाद 1948 में एलएलबी में प्रवेश लिया लेकिन 1949 में संघ के काम के चलते लखनऊ जाना पड़ा और एलएलबी की पढ़ाई बीच में ही छूट गई।

जब वाजपेयीजी प्रधानमंत्री थे तो कॉलेज के नाम एक पत्र लिखा था जो साहित्यसेवी बद्रीनारायण तिवारी ने संस्थान को सौंप दिया। उस पत्र में कुछ रोचक और गौरवान्वित कर देने वाली घटनाओं का जिक्र है। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: