Headline • अस्पतालों में बच्चों की मौत पर योगी के मंत्री का शर्मनाक बयान, कहा- मां-बाप है जिम्मेदार• पत्रकार सम्मेलन में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे 'समाचार प्लस' के CEO उमेश कुमार• पीएम मोदी ने किया दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य बीमा योजना आयुष्मान भारत का शुभारंभ• सपा की साइकिल यात्रा के समापन पर एक साथ दिखे अखिलेश और मुलायम सिंह यादव • गोरखपुर : सीएम योगी ने किया 'आयुष्मान भारत योजना' का शुभारंभ • महंत नृत्य गोपालदास बोले- 'राम मंदिर का निर्माण नहीं कराया तो भाजपा और मोदी के लिए घातक होगा'• गोरखपुर : बाइक को टक्कर मारने के बाद जीप पलटी, 3 की दर्दनाक मौत, 5 घायल• बीजेपी के कार्यक्रम में बार-बालाओं ने किया डांस,सांसद बाबू लाल के स्वागत में लगे ठुमके• आज से शुरू होगी आयुष्मान भारत योजना,पीएम मोदी झारखंड से करेंगे शुभारंभ• आगरा में दर्दनाक सड़क हादसा, चार लोगों की मौत• बलिया: बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह की दादागिरी, डीएम के सामने डीआईओएस से की हाथापाई• आगरा को हॉकी के विश्व पटल पर मिलेगी नई पहचान:  चेतन चौहान• योगी पहुंचे गोरखपुर, कई योजनाओं को किया लोकार्पण व शिलान्यास, बांटे प्रमाण पत्र• चुड़ैल समझ कर महिला की हत्या कर दी, अपराध छुपाने के लिए लाश को जंगलों में फेंका• फर्रुखाबाद: सड़क दुर्घटना नहीं हत्या कर लाश फेंकी गई थी, पत्नी ने प्रेमी संग दी पति और भतीजे की हत्या की सुपारी• कायमगंज में अंबेडकर प्रतिमा का हाथ तोड़कर माहौल बिगाड़ने की कोशिश, बसपा नेता ने स्थिति संभाली• नवरात्र पर प्रशासन चलाएगा शौचालय की पूजा का कार्यक्रम, कई संगठनों ने किया विरोध का ऐलान• मोहर्रम बवाल पर बीजेपी विधायक पप्पू भरतौल समेत 150 पर केस, 750 ताजिएदारों पर भी केस• अध्यादेश के बाद राजधानी में आया तीन तलाक का मामला, दहेज की मांग पूरी नहीं होने पर दिया तलाक• राजधानी में बदमाशों के हौसले बुलंदी पर, अल्पसंख्यक आयोग की सदस्य रुमाना सिद्दीकी के बेटे को बुरी तरह पीटा• 'थोड़ी सी महंगाई बढ़ने पर सुषमा स्वराज बाल खोलकर सड़क पर उतर जाती थी, अब क्यों चुप है'• ओलांद के बयान के बाद राहुल गांधी का वार, बंद दरवाजे निजी तौर पर मोदी ने डील करवाई है• दो दिवसीय दौरे पर अगले हफ्ते फिर अमेठी आ रहे हैं राहुल गांधी, योजनाओं के लेकर मंत्रियों को लिखा खत• अवैध शराब बनाते बसपा के पूर्व विधायक गिरफ्तार, बंद पड़े स्कूल में चला रहे थे कारोबार• हापुड़ में गणेश प्रतिमा विसर्जन के दौरान युवक नहर में डूबा, गोताखोर तलाश करने में जुटे


काशीपुरः यहां कुंडा थाना क्षेत्र में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक द्वारा भरोसा कर अपने दोस्त को पत्नी उधार दी थी लेकिन उस दोस्त ने उसकी पत्नी को वापस नहीं किया। पीड़ित पति ने अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए अदालत में इंसाफ की गुहार लगाई है।

सियासत का लालच किस हद तक जा सकता है यह कुंडा थाना क्षेत्र की अजीबोगरीब  घटना से समझा जा सकता है। जिसके मुताबिक यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शादीशुदा एक व्यक्ति पर नेता बनने का ऐसा सुरूर चढ़ा कि पिछले साल मुरादाबाद क्षेत्र में जब नगर पंचायत की सीट पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हो गई तो उसने अपने दोस्त से उसकी पत्नी को उधार मांग लिया। इत्तेफाक से उधार की पत्नी चुनाव जीत कर चेयरमैन बन गईं।

इसके बाद अब 1 साल बीतने के बाद भी दोस्त ने उसको उसकी पत्नी लौटाने के बजाय उससे निकाह ही कर लिया। महिला भी पति और बच्चों की परवाह किए बिना ही नेता के साथ रह रही हैं। महिला के परेशान पति ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर पत्नी को वापस दिलाई जाने की गुहार लगाई है। 

दरअसल, कुंडा थाना क्षेत्र निवासी नसीम अहमद का यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शफी अहमद अहमद उर्फ बाबू के साथ ठेकेदारी में साझा था और दोनों के बीच गहरा दोस्ताना था और एक दूसरे के घर में आना जाना था। नसीम अहमद के मुताबिक शफी अहमद उर्फ बाबू पिछले साल उत्तर प्रदेश में हुए निकाय चुनाव में अपनी पत्नी को नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर चुनाव लडा़ना चाहता था लेकिन उसके क्षेत्र की सीट पिछड़ा वर्ग में आरक्षित हो गई जबकि वह सामान्य जाति से ताल्लुक रखता था।

चैयरमैन पद पर कोई गोटी फिट न होती देख शफी अहमद अपने दोस्त ग्राम बाबरखेड़ा निवासी नसीम अहमद के घर आया और नसीम अहमद से दोस्ती का वास्ता देकर उसकी पत्नी रहमत जहां को चुनाव लड़ाने के लिए उधार मांग लिया। जब नसीम अहमद इस पर राजी नहीं हुआ तो उसने उसकी पत्नी रहमत जहां को बहला-फुसलाकर अपने झांसे में ले लिया और कहा कि वह पूर्ववत उसके घर आकर बच्चों के साथ रहेगी।

रहमत जहां शफी अहमद के झांसे में आ गयी। पत्नी रहमत जहां के उसकी तरफ होने के चलते नसीम अहमद ने मज़बूरी में अपनी पत्नी को एक समझौते के तहत साथी ठेकेदार के साथ भेज दिया। ठेकेदार ने उसकी पत्नी से कोर्ट मैरिज कर ली। इत्तेफाक से महिला चुनाव जीतकर चेयरमैन चुनी गई।

नसीम अहमद का कहना है कि चेयरमैन चुने जाने के बाद उसने अपने मित्र से कई बार पत्नी को वापस भेजने की गुहार लगाई लेकिन वह चेयरमैन पद की व्यस्तता का हवाला देकर टालमटोल करता रहा। बाद में पता चला कि उसकी पत्नी ने चेयरमैन बनने के बाद ठेकेदार शफी अहमद से निकाह कर लिया और अब 1 साल बीत जाने के बाद उसने उसकी पत्नी को वापस भेजने से इनकार कर दिया।

पीड़ित कुंडा थाना प्रभारी को प्रार्थना पत्र के माध्यम से अपनी पत्नी को वापस दिलाने की गुहार लगाई, जिसके बाद कार्यवाही न होते देख उसने सीएम के यहां भी गुहार लगाई लेकिन कोई कार्यवाही ना होते देखा उसने अब न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: