Headline • नाना पाटेकर को क्लिन चिट मिलने पर तनुश्री दत्ता ने कहा• बीजेपी, टीएमसी के बाद अब बंगाल में कांग्रेस का नाम भी आया राजनीतिक हिंसा में• आगामी भारत और पाकिस्तान के मैच में कैसा रहेगा, मैनचेस्टर में मौसम का मिजाज• मांगो को मानने के लिए ममता सरकार को 48 घंटे का डॉक्टरों ने दिया अल्टिमेटम• इतनी फिल्मे करने के बाद भी क्यों सलमान खान को लगता है समीक्षको से डर !• भारत और इंग्लैड के बीच होगा फाइनल मैच: गूगल सीईओ सुन्दर पिचाई• बीजेपी के सहयोगी नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू बजट सत्र में करेगी तीन तलाक का विरोध • 'टिकटॉक' विडियों बनाने के चक्‍कर में सलमान को लगी गोली, 2 युवक पहुंचे जेल • लोक सभा के बाद अमित शाह ने हरियाणा विजय की खास रणनीति बनाई• घट सकती है दिल्ली मेट्रों का किराया, 30 लाख से अधिक यात्रियों को फायदा• चक्रवाती तूफान 'वायु' ने अपना रास्ता बदला लेकिन एजेंसियां अलर्ट पर अभी खतरा बाकी है • महेंद्र सिंह धोनी के सेना के 'बलिदान बैज' वाले दस्तानों पर बहस तेज• अफगानिस्तान सेना के दस्ते ने आतंकी संगठन तालिबान की जेल से छुड़ाए 83 नागरिक• जगन मोहन रेड्डी ने पलटा चंद्रबाबू सरकार का फैसला, अब आंध्र प्रदेश में CBI कर सकेगी जांच• नमाज के दौरान बेकाबू कार ने भीड़ को मारी टक्‍कर हुआ हगामा • गृह मंत्रालय का प्रभार संभालते ही बीजेपी चीफ अमित शाह ऐक्शन में, जम्मू-कश्मीर में परिसीमन आयोग पर विचार• मायावती की सपा-बसपा प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के बाद अब अखिलेश ने तोड़ी चुप्पी, 'सभी सीटों पर अकेले लड़ेंगे उपचुनाव'• लोकसभा चुनाव प्रदर्शन से नाखुश बसपा बसपा सुप्रीमो मायावती का बड़ा फैसला, अब लड़ेगी सभी उपचुनाव • अमेरिका को चीन की युद्ध की धमकी से पड़ोसी देश चिंतित • भारतीय वायुसेना का एएन-32 विमान लापता, वायुसेना का सर्च ऑपरेशन जारी • अमेरिका ने भारत को GSP दर्जे से किया बाहर • देश में भीषण गर्मी का कहर, दिल्‍ली मे रेड अलर्ट जारी • इलाहाबाद विश्‍वविद्यालय के बाद अब लखनऊ विश्‍वविद्यालय में पढ़ाया जाएगा अनुच्‍छेद 370• जम्‍मू-कश्‍मीर में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ में दो आतंकी ढेर• मोदी सरकार में अमित शाह गृहमंत्री, राजनाथ होंगे रक्षा मंत्री, निर्मला सीतारमन बनीं वित्‍त मंत्री


काशीपुरः यहां कुंडा थाना क्षेत्र में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक द्वारा भरोसा कर अपने दोस्त को पत्नी उधार दी थी लेकिन उस दोस्त ने उसकी पत्नी को वापस नहीं किया। पीड़ित पति ने अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए अदालत में इंसाफ की गुहार लगाई है।

सियासत का लालच किस हद तक जा सकता है यह कुंडा थाना क्षेत्र की अजीबोगरीब  घटना से समझा जा सकता है। जिसके मुताबिक यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शादीशुदा एक व्यक्ति पर नेता बनने का ऐसा सुरूर चढ़ा कि पिछले साल मुरादाबाद क्षेत्र में जब नगर पंचायत की सीट पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हो गई तो उसने अपने दोस्त से उसकी पत्नी को उधार मांग लिया। इत्तेफाक से उधार की पत्नी चुनाव जीत कर चेयरमैन बन गईं।

इसके बाद अब 1 साल बीतने के बाद भी दोस्त ने उसको उसकी पत्नी लौटाने के बजाय उससे निकाह ही कर लिया। महिला भी पति और बच्चों की परवाह किए बिना ही नेता के साथ रह रही हैं। महिला के परेशान पति ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर पत्नी को वापस दिलाई जाने की गुहार लगाई है। 

दरअसल, कुंडा थाना क्षेत्र निवासी नसीम अहमद का यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शफी अहमद अहमद उर्फ बाबू के साथ ठेकेदारी में साझा था और दोनों के बीच गहरा दोस्ताना था और एक दूसरे के घर में आना जाना था। नसीम अहमद के मुताबिक शफी अहमद उर्फ बाबू पिछले साल उत्तर प्रदेश में हुए निकाय चुनाव में अपनी पत्नी को नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर चुनाव लडा़ना चाहता था लेकिन उसके क्षेत्र की सीट पिछड़ा वर्ग में आरक्षित हो गई जबकि वह सामान्य जाति से ताल्लुक रखता था।

चैयरमैन पद पर कोई गोटी फिट न होती देख शफी अहमद अपने दोस्त ग्राम बाबरखेड़ा निवासी नसीम अहमद के घर आया और नसीम अहमद से दोस्ती का वास्ता देकर उसकी पत्नी रहमत जहां को चुनाव लड़ाने के लिए उधार मांग लिया। जब नसीम अहमद इस पर राजी नहीं हुआ तो उसने उसकी पत्नी रहमत जहां को बहला-फुसलाकर अपने झांसे में ले लिया और कहा कि वह पूर्ववत उसके घर आकर बच्चों के साथ रहेगी।

रहमत जहां शफी अहमद के झांसे में आ गयी। पत्नी रहमत जहां के उसकी तरफ होने के चलते नसीम अहमद ने मज़बूरी में अपनी पत्नी को एक समझौते के तहत साथी ठेकेदार के साथ भेज दिया। ठेकेदार ने उसकी पत्नी से कोर्ट मैरिज कर ली। इत्तेफाक से महिला चुनाव जीतकर चेयरमैन चुनी गई।

नसीम अहमद का कहना है कि चेयरमैन चुने जाने के बाद उसने अपने मित्र से कई बार पत्नी को वापस भेजने की गुहार लगाई लेकिन वह चेयरमैन पद की व्यस्तता का हवाला देकर टालमटोल करता रहा। बाद में पता चला कि उसकी पत्नी ने चेयरमैन बनने के बाद ठेकेदार शफी अहमद से निकाह कर लिया और अब 1 साल बीत जाने के बाद उसने उसकी पत्नी को वापस भेजने से इनकार कर दिया।

पीड़ित कुंडा थाना प्रभारी को प्रार्थना पत्र के माध्यम से अपनी पत्नी को वापस दिलाने की गुहार लगाई, जिसके बाद कार्यवाही न होते देख उसने सीएम के यहां भी गुहार लगाई लेकिन कोई कार्यवाही ना होते देखा उसने अब न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। 

संबंधित समाचार

:
:
: