Headline • राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना• आरक्षण की मांग को लेकर गुर्जर आंदोलन उग्र • शराब पर राजनीति: त्रिवेंद्र सिंह रावत से मुख्यमंत्री पद का इस्तीफा देने की मांग• आ रही हूँ यूपी लूटने- वाराणसी में प्रियंका वाड्रा के खिलाफ लगाए गए पोस्टर• PM मोदी ने 300 करोड़ के भोजन वितरण पर मथुरा वासियो को किया सम्बोधित • आंध्र प्रदेश में PM का विरोधी पोस्टरों से स्वागत, उपवास पर बैठे चंद्रबाबू नायडू • J&K: हिमस्‍खलन के बाद फसे पुलिसकर्मियों की तलाश जारी • SC ने तेजस्वी यादव को पटना में सरकारी बंगला खाली करने का दिया आदेश • इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के राज्य कर्मचारियों की हड़ताल को अवैध ठहराया • राहुल गांधी ने राफेल डील को लेकर PM मोदी पर सादा निशाना • ममता के धरने में शामिल होने वाले अधिकारियों पर गिर सकती है गाज• मुजफ्फरपुर आश्रय गृह में यौन उत्पीड़न: सुप्रीम कोर्ट ने बिहार से दिल्ली ट्रांसपर किया मामला• शेर से भिड़ा युवक, आत्मरक्षा के लिए शेर को ही मार डाला• PM मोदी 15 फरवरी को पहली स्वदेशी इंजन रहित वंदे भारत एक्सप्रेस को दिखाएंगे हरी झंडी • मनी लॉन्ड्रिंग केस: रॉबर्ट वाड्रा आज फिर पहुंचे ED दफ्तर


काशीपुरः यहां कुंडा थाना क्षेत्र में एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है, जिसमें एक युवक द्वारा भरोसा कर अपने दोस्त को पत्नी उधार दी थी लेकिन उस दोस्त ने उसकी पत्नी को वापस नहीं किया। पीड़ित पति ने अपनी पत्नी को वापस लाने के लिए अदालत में इंसाफ की गुहार लगाई है।

सियासत का लालच किस हद तक जा सकता है यह कुंडा थाना क्षेत्र की अजीबोगरीब  घटना से समझा जा सकता है। जिसके मुताबिक यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शादीशुदा एक व्यक्ति पर नेता बनने का ऐसा सुरूर चढ़ा कि पिछले साल मुरादाबाद क्षेत्र में जब नगर पंचायत की सीट पिछड़ा वर्ग के लिए आरक्षित हो गई तो उसने अपने दोस्त से उसकी पत्नी को उधार मांग लिया। इत्तेफाक से उधार की पत्नी चुनाव जीत कर चेयरमैन बन गईं।

इसके बाद अब 1 साल बीतने के बाद भी दोस्त ने उसको उसकी पत्नी लौटाने के बजाय उससे निकाह ही कर लिया। महिला भी पति और बच्चों की परवाह किए बिना ही नेता के साथ रह रही हैं। महिला के परेशान पति ने न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर पत्नी को वापस दिलाई जाने की गुहार लगाई है। 

दरअसल, कुंडा थाना क्षेत्र निवासी नसीम अहमद का यूपी के जिला मुरादाबाद के भोजपुर निवासी शफी अहमद अहमद उर्फ बाबू के साथ ठेकेदारी में साझा था और दोनों के बीच गहरा दोस्ताना था और एक दूसरे के घर में आना जाना था। नसीम अहमद के मुताबिक शफी अहमद उर्फ बाबू पिछले साल उत्तर प्रदेश में हुए निकाय चुनाव में अपनी पत्नी को नगर पंचायत अध्यक्ष पद पर चुनाव लडा़ना चाहता था लेकिन उसके क्षेत्र की सीट पिछड़ा वर्ग में आरक्षित हो गई जबकि वह सामान्य जाति से ताल्लुक रखता था।

चैयरमैन पद पर कोई गोटी फिट न होती देख शफी अहमद अपने दोस्त ग्राम बाबरखेड़ा निवासी नसीम अहमद के घर आया और नसीम अहमद से दोस्ती का वास्ता देकर उसकी पत्नी रहमत जहां को चुनाव लड़ाने के लिए उधार मांग लिया। जब नसीम अहमद इस पर राजी नहीं हुआ तो उसने उसकी पत्नी रहमत जहां को बहला-फुसलाकर अपने झांसे में ले लिया और कहा कि वह पूर्ववत उसके घर आकर बच्चों के साथ रहेगी।

रहमत जहां शफी अहमद के झांसे में आ गयी। पत्नी रहमत जहां के उसकी तरफ होने के चलते नसीम अहमद ने मज़बूरी में अपनी पत्नी को एक समझौते के तहत साथी ठेकेदार के साथ भेज दिया। ठेकेदार ने उसकी पत्नी से कोर्ट मैरिज कर ली। इत्तेफाक से महिला चुनाव जीतकर चेयरमैन चुनी गई।

नसीम अहमद का कहना है कि चेयरमैन चुने जाने के बाद उसने अपने मित्र से कई बार पत्नी को वापस भेजने की गुहार लगाई लेकिन वह चेयरमैन पद की व्यस्तता का हवाला देकर टालमटोल करता रहा। बाद में पता चला कि उसकी पत्नी ने चेयरमैन बनने के बाद ठेकेदार शफी अहमद से निकाह कर लिया और अब 1 साल बीत जाने के बाद उसने उसकी पत्नी को वापस भेजने से इनकार कर दिया।

पीड़ित कुंडा थाना प्रभारी को प्रार्थना पत्र के माध्यम से अपनी पत्नी को वापस दिलाने की गुहार लगाई, जिसके बाद कार्यवाही न होते देख उसने सीएम के यहां भी गुहार लगाई लेकिन कोई कार्यवाही ना होते देखा उसने अब न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है। 

संबंधित समाचार

:
:
: