Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


वाराणसीः वाराणसीः प्रबल इच्छा शक्ति और कुछ कर गुजरने की चाहत इंसान को सफलता की ऊंचाइयों पर ले जाती है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है वाराणसी की शिवांगी सिंह ने। शिवांगी भारतीय वायुसेना में लड़ाकू विमान उड़ाने वाली महिला पायलटों में  शामिल हो गईं। और ऐसा करते हुए बनारस की इस बिटिया ने न सिर्फ अपने मां-बाप का सीना चैड़ा किया है बल्कि पूरे पूर्वांचल में अपने सफलता का परचम लहराया है। शिवांगी पूरे यूपी से लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली महिला पायलट बन गई है।  

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई के पदचिन्हों पर चलते हुए वाराणसी की एक और वीरांगना निकल पड़ी है दुश्मनों के दांत खट्टे करने। बीएचयू के 7 यूपी एयर एनसीसी की कैडेट शिवांगी सिंह ने मैसूर  में कामन एप्टीट्यूड टेस्ट क्वालीफाई का पायलट बन गई है।

हैदराबाद में वायुसेना में डेढ़ साल की  कड़ी प्रशिक्षण के बाद अब उन्हें भारतीय वायुसेना में शामिल कर लिया गया है। शिवांगी की इस उपलब्द्धि पर पूरे परिवार में खुशी का माहौल है। 

शिवांगी में काबलियत तो बचपन से ही थी...मगर फाइटर पायलट बनने की प्रेरणा उन्हें अपने नाना से मिली। इनका कहना है कि जब वे 9वीं कक्षा में थीं तब उनके फौजी नाना उन्हें दिल्ली एयरबेस ले गए थे। जहां खड़े लड़ाकू विमानों ने उनके अंदर देश की सेवा करने का जज्बा भर दिया।

बस तभी से शिवांगी ने फाइटर पायलट बनने की ठान ली थी। भारतीय वायुसेना में बतौर फाइटर पायलट शनिवार को शामिल होने वाली शिवांगी ने विमान उड़ाने की आरंभिक ट्रेनिंग बीएचयू में ली थी। वर्ष 2015-16 में उन्होंने यहां कोर्स पूरा किया। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: