Headline • ओसाका में मोदी-एबी की मुलाकात• करों या मरों कि स्थिती में वेस्ट डंडीज़• तेज प्रताप का नया कारनामा तेज सेना का गठन• अमित शाह नें तोड़ा 30 साल का रिकार्ड• सोशल मिडिया पर नुसरत जहां की हुई बड़ी तारीफ• 2019 के सेमीफाइनल में पहुंचने वाली पहली टीम बनी ऑस्ट्रेलिया• चंद्रबाबू नायडू का आलीशान बंगला बना खँडहर • पीएम मोदी के बयान पर सदन में हंगामा   • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज


मुजफ्फरनगर. यहां यूपी पुलिस की एक और बड़ी लापरवाही सामने आई है। पुलिस ने 5 साल के एक बच्चे को बरामद कर अज्ञात महिला को सौंप दिया। जब पीड़ित परिवार को इस बारे में जानकारी हुई तो उन्होंने थाने में जमकर हंगामा काटा।  यही नहीं पुलिस ने अज्ञात महिला को बच्चा सौंपते समय न तो कोई पहचान पत्र मांगा और ना ही उससे कोई जानकारी ली। फिलहाल पुलिस बच्चे को तलाश करने में जुट गई है। बच्चे को ले जाने वाली महिला की पहचान तक नहीं हो सकी है। 

-दरअसल, यह पूरा मामला थाना खतौली कोतवाली क्षेत्र का है। 

-जहां कस्बे के मोहल्ला शिवपुरी में एक रस्म पगड़ी संस्कार में मेरठ के अलीपुरा से अपने परिजनों के साथ आया 5 साल का मयंक बाहर खेल रहा था और खेलते-खेलते अचानक लापता हो गया।

-परिजनों ने बच्चे की तलाश की मगर वह कहीं नहीं मिला। इसी बीच कस्बा खतौली में जानसठ चौराहे के पास एनएच-58 से कुछ लोगों को मयंक रोता हुआ देखा और पुलिस को फोन कर मामले की जानकारी दी। 

-सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और बच्चे को थाने ले आई।

-बताया जा रहा है कि कुछ देर बाद एक अज्ञात महिला थाने में आई और उस बच्चे को अपना बच्चा बताकर अपने साथ ले गई।

-महिला के जाने के बाद लापता बच्चे के परिजन अपने बेटे की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखवाने के लिए थाने पहुंचे। जब पुलिस ने बच्चे का फोटो देखा तो वह हैरान हो गई। इसके बाद पुलिस ने पूरा मामला परिजनों को बताया। यह सुनकर परिजनों हैरान रह हए। 

-इसके बाद परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल था और उन्होंने थाने में जमकर हंगामा किया। 

-वहीं जब पुलिस को अपनी गलती का एहसास हुआ क्योंकि पुलिस ने महिला को बच्चा सौंपते हुए ना तो उससे उसकी पहचान मांगी और ना ही उसे बच्चे और उसके संबंधों के बारे में जानकारी की और आंखें बंद कर उसे बच्चे को सौंप दिया। 

-फिलहाल, परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। 

संबंधित समाचार

:
:
: