Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


गाजियाबादः बहुजन समाज पार्टी की गाजियाबाद जिला यूनिट से इन दिनों कार्यकर्ताओं के इस्तीफे देने की लाइन लगी हुई है। कार्यकर्ता पार्टी अध्यक्ष मायावती की कार्यशैली से नाराज होकर इस्तीफा नहीं दे रहे हैं, बल्कि जिलाध्यक्ष प्रेमचंद भारती की मनमानी और हिटलरशाही से तंग आकर इस्तीफा दे रहे हैं।

पिछले एक माह के भीतर छोटे-बड़े करीब 200 कार्यकर्ताओं ने इस्तीफा दे दिया। पिछले 25 सालों से निस्वार्थ भाव से पार्टी की सेवा करने वाले पुराने कार्यकर्ता प्रेमचंद भारती के व्यवहार और उनके बात करने के तरीके से आहत हैं।

उनका कहना है कि जिलाध्यक्ष की कुर्सी तो आज है, कल नहीं होगा लेकिन कार्यकर्ताओं के साथ व्यवहार अच्छा होना चाहिए, क्योंकि कार्यकर्ता ही पार्टी की रीढ़ होते हैं। अगर ऐसा ही रहा तो गाजियाबाद यूनिट में सिर्फ प्रेमचंद भारती ही रह जाएंगे। कार्यकर्ता नहीं होगा।

महत्वपूर्ण बात यह है कि जिलाध्यक्ष की शिकायत को  लेकर कार्यकर्ता मंडल कोर्डिनेटर शमसुद्दीन राइन के पास गए थे लेकिन उन्होंने शिकायतों को अनसुना कर दिया। 

एक कार्यकर्ता ने बताया कि जिलाध्यक्ष प्रेमचंद भारती पार्षद और मेयर के टिकट के लिए बोली लगा रहे थे। यह बोली पार्टी कार्यालय पर लगाई जा रही थी। ऐसा लग रहा था कि पार्टी कार्यालय न होकर सट्टा बाजार हो गया हो।

तभी जिस शख्स ने दो दिन पहले प्रेसवार्ता कर सपा में ज्वाइन करने की घोषणा की उसकी पत्नी को मेयर का टिकट दे दिया।

इसी तरह पार्षदों के टिकट भी पैसे लेकर बांटे गए। कार्यकर्ता का कहना है कि सिंबल बांटने तक में पैसे लिए गए। सिंबल देने में प्रत्येक प्रत्याशी से 25-25 हजार रुपए लिए गए। 

पिछले दिनों पार्टी में जबरदस्त भूचाल आया। पूर्व जिलाध्यक्ष राम प्रसाद प्रधान के साथ कई वरिष्ठ नेताओं को पार्टी से निकाल दिया गया। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: