Headline • पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड


रायबरेलीः यहां का एक अधिकारी अपने आपको मुख्यमंत्री से भी बड़ा समझता है। पीड़ित को फोन पर कहता है कि तुम्हारा काम तब तक नहीं होगा जब तक मैं नही चाहूंगा मुख्यमंत्री भी नहीं करवा सकते। 

दरअसल, रायबरेली के  हरचन्दपुर ब्लाक के अगुरी गांव के रहने वाले पीड़ित ने आवास की मांग की थी। झोपड़ी की जांच करने आये अधिकारी को पीड़ित ने रिश्वत नहीं दी तो उसे अपात्र घोषित कर दिया।

इसकी शिकायत सीएम से की गई तो वह अधिकारी भड़क गया और उसने पीड़ित को फोन कर कहा, जहां भी और जिसको भी शिकायत करनी हो कर दो। सीएम भी तुम्हें आवास नहीं दिला सकते हैं। पीड़ित ने बातचीत की आवाज अपने मोबाइल में टेप कर ली।

पीड़ित  राम सजीवन बेहद गरीब है। झोपड़ी में रहकर अपने परिवार का भरण पोषण करता है। उसने एक आवास की मांग की थी। जिस पर बकायदा जांच आई पर उसने जांचकर्ता ग्राम पंचायत सचिव सुशील कुमार ने रिश्वत मांग ली।

राम सजीवन के पास रिश्वत देने के लिए पैसे नहीं थे, लिहाजा उसने मना कर दिया तो सुशील कुमार ने उसे अपात्र घोषित कर दिया। राम सजीवन ने इसकी शिकायत सीएम से की है। 

इसके बाद ग्राम पंचायत सचिव ने कहा कि बता देना मुख्यमंत्री के यहां जो शिकायत की है, क्या सीएम आवास दिला देंगे । जब तक हम नही चाहेंगे तब तक आवास मुख्यमंत्री भी नही दिला सकते। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: