Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज

अब बाबा बनने के लिए देना होगा इंटरव्यू, पूराने रिकॉर्ड की भी होगी जांच 

इलाहाबाद. देश भर में बढ़ रहे फर्जी बाबाओं पर नकेल कसने के लिए भारतीय अखाड़ा परिषद ने एक नियम बनाया है। इस नियम के तहत अब महामंडलेश्वर बनने से पहले साधु-संतों को अखाड़ों में इंटरव्यू का सामना करना होगा। साथ ही इंटरव्यू के बाद उस साधु का पुराना इतिहास भी जांचा जाएगा। इसके बाद ही किसी साधु को अखाड़े का महामंडलेश्वर बनाया जाएगा। जिसके लिए अखाड़ा परिषद ने सभी तेरह अखाड़ों से इस नियम का पालन करने की अपील की है।

 

क्या है अखाड़ा परिषद की योजना 

-इलाहाबाद स्थित अखाड़ा परिषद ने महामंडलेश्वर बनने वाले संतों की परीक्षा लेने की योजना बनायी है।

-किसी भी साधु का महामंडलेश्वर पट्टाभिषेक से पहले उसकी योग्यता और ज्ञान की परीक्षा ली जाएगी।

-अखाड़ों के आचार्य महामंडलेश्वर साधु से वेद, पुराण और धर्म शास्त्र से जुड़े सवाल पूछे जाएंगे।

-उसके जवाबों से संतुष्ट होने के बाद उसके गुरु परंपरा की विस्तार से जानकारी ली जाएगी।

-जिसके बाद उस साधु के पिछले रिकार्ड विधिवत चेक किए जाएंगे।

-साथ ही यह भी जांचा जाएगा कि वो जिस आश्रम औऱ गुरु से जुड़ा है वहां किस तरह की गतिविधियां होती रही हैं।

 

क्या बोले महंत नरेंद्र गिरी

-जांच में संतुष्ट होने के बाद ही उस साधु को महामंडलेश्वर बनाने के लिए हरी झंडी दी जाएगी।

-अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी का कहना है कि अखाड़ों में भी चूक के कारण कुछ गलत लोग प्रवेश कर गए हैं।

-जिस गलती को सुधारने के लिये उन्हें बाहर किया जा चुका है। 

-आगे इस तरह की गलती दोबारा न हो, इसके लिए महामंडलेश्वर बनाने से पहले इंटरव्यू समेत तमाम तरह की जांच पड़ताल करने की व्यवस्था शुरु की जा रही है।

-इस पूरी व्यवस्था के पीछे सिर्फ एक मकसद है कि अब कोई भी शैतान साधु का वेष धारण कर जनता को गुमराह न कर सके।

-क्योकि फर्जी साधुओं के पकड़े जाने पर भी संतों का ही नाम बदनाम होता है। जिससे न सिर्फ बल्कि विदेशों में सनातन धर्म का नाम बदनाम होता है।

 

सनातन धर्म ने किया स्वागत 

-अखाड़ा परिषद के इस फैसले का सनातन धर्म को मानने वाले श्रद्धालुओं ने स्वागत किया है।

-उनका कहना है कि इस फैसले के बाद धर्म को बदनाम करने वाले साधु संतों का अखाड़ों में प्रवेश नहीं होगा।

-पाखंडी औऱ ढ़ोंगी बाबाओं के कारण हिन्दू धर्म का प्रचार-प्रसार करने वाले संतों का नाम बदनाम होता है।

-ऐसे में अखाड़ा परिषद के इस फैसले से पाखंडी बाबाओं पर नकेल लगेगी।

 

 

 

 

 

संबंधित समाचार

:
:
: