Headline • भाजपा सरकार ने EPF ब्याज दरों में कि बढ़ोतरी • अर्जुन कपूर और अभिषेक बच्चन ने अक्षय कुमार की फिलम केसरी के ट्रेलर की प्रशंसा की • पूर्व पाक अध्यक्ष आसिफ अली जरदारी के पास इमरान खान के लिए सावधानी बरतने की सलाह • जम्मू-कश्मीर में सरकार ने अर्धसैनिकों के लिए दी हवाई यात्रा को मंजूरी• अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट पर PM मोदी से की अपील दिल्ली को दे पूर्ण राज्य का दर्जा • भारत और सऊदी अरब ने पुलवामा हमले की कड़ी निंदा की• जयपुर सेंट्रल जेल में मारा गया पाकिस्तानी कैदी• नवजोत सिंह सिद्धू के शो से बाहर होने पर कपिल शर्मा का बयान• तमिलनाडु में भाजपा संग एआईएडीएमके गठबंधन हुआ तय • इमरान खान की भारत को धमकी बिना साबुत किया हमला तो खुला जवाब देंगे• अलीगढ़ हिंदू छात्र वाहिनी कार्यकर्ताओं का धारा 370 को हटाने को लेकर प्रदर्शन• कुलभूषण जाधव मामले की सोमवार से सुनवाई शुरू• उत्तराखंड पुलिस की कश्मीरी छात्रों से सोशल मीडिया पर भड़काऊ बयान न देने की अपील • पुलवामा एनकाउंटर: मेजर समेत 4 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर• राजस्‍थान का गुर्जर आंदोलन शनिवार को खत्म• पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शुरू• PM मोदी का ऐलान: आतंकियों की बहुत बड़ी गलती चुकानी होगी कीमत• गांधीजी के पुतले को गोली मारने वाली हिंदू महासभा सचिव पूजा पांडे को मिली जमानत• कश्मीर के पुलवामा में आत्मघाती विस्फोट 41 सीआरपीएफ जवानों की मौत• राजीव सक्सेना को अगस्ता वेस्टलैंड मामले में 22 फरवरी तक मिली अंतरिम जमानत • सुप्रीम कोर्ट ने केजरीवाल और एलजी विवादों पर अपना फैसला सुनाया• केसरी: अक्षय कुमार अभिनीत ऐतिहासिक ड्रामा का पहला झलक वीडियो रिलीज़ • पीएम मोदी ने हरियाणा में की विकास परियोजनाओं की शुरुआत • राफेल डील को लेकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मोदी सरकार पर जुबानी जंग • मुजफ्फरपुर शेल्टर होम केस में SC ने राव के माफ़ी नामे को किया अस्वीकार लगाया 1 लाख का जुर्माना

बेलगाम डॉक्टर की खुली पोल, जबरन करता था अपने निजी अस्पताल में ईलाज

 सुल्तानपुर. उत्तर प्रदेश सरकार जहां एक तरफ आम जनता को अच्छी से अच्छी स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने के लिए  डिटरमाइंड है। वहीं, दूसरी ओर सुल्तानपुर के जिला अस्पताल में तैनात ऑर्थो विभाग के चिकित्सक अपने दलाल के माध्य्म से अस्पताल में भर्ती मरीज को अपने निजी अस्पताल में ले जाकर आपरेशन करने का बोल रहे हैं। 

 

जानें पूरा मामला 

-बता दें कि कूरेभार ब्लॉक निवासी माधुरी की 6 जून को सड़क दुर्घटना में दोनो पैर टूट गए थे।

-सुल्तानपुर जिला अस्पताल में एक्सीडेंट में घायल महिला इलाज के लिए पहुंची थी। 

-महिला काफी गरीब होने के कारण जिला अस्पताल में भर्ती हुई।

-उसने सोचा कि इस अस्पताल में मेरा निशुल्क इलाज़ हो जायेगा और मैं ठीक हो जाऊंगी। 

-उसे क्या पता था कि मेरी मुलाकात उस लुटेरे बेलगाम डॉक्टर से हो जायेगी, जो सरकारी सेवा तो करता है।

-लेकिन सरकारी के नाम पर गरीबों का खून चूसता है। उसने लालच दिया कि मैं अपने नर्सिंग होम में इलाज (ऑपरेशन) कर ठीक कर दूंगा। 

-जो एक महीने तक जिला अस्पताल में रखने के बाद डॉ अपने नर्सिंग होम में लेजाकर ऑपरेशन किया और 20 से 30 हजार रुपये का खर्चा बताया।

-पहली किस्त 5 हज़ार रुपये पीड़ित माधुरी के परिजनों से एडवांस में ले लिया। 

 

क्या बोले अधिकारी 

-जिसके बाद परिजनों ने अधिकारियों से मामले की शिकायत की। 

-वहीं CMS  वी.बी.सिंह ने बताया कि शिकायत के आधार पर DM द्वारा 4 जुलाई को एक टीम गठित की गई थी।

-जिसमें 4 लोगो की टीम थी। DM के निर्देशानुसार रात 10 बजकर 10 मिनट पर छापा मारा गया था। 

-यह शिकायत के आधार पर छापेमारी की गई थी। 

-जिला अस्पताल में काम करने वाले डॉ रस्तोगी ने अस्पताल से माधुरी नामक रोगी को अपने निजी अस्पताल में उसके ऑपरेशन करने के लिए ले गए है। 

-छापेमारी के दौरान मौके पर माधुरी पाई गई। 

-मौके पर परिजनों से पूछतांछ की गई तो उन्होंने बताया कि डॉ रस्तोगी साहब एक दिन पहले मुझे यहां लाये और अभी 15 मिनट पहले ही ऑपरेशन करके लाकर यहां लाए हैं। 

 

वापस से मरीज को सरकारी अस्पताल में कर दी भर्ती 

-CMS वी.बी.सिंह ने बताया कि मै जिला हॉस्पिटल में राउंड पर था।

-मुझको वहीं मरीज फिर मिल गया और उसने बताया कि मुझको 6 जुलाई को फिर से जिला अस्पताल में भर्ती कर दिया गया है।

-हमारे ही ओ. टी. में ले जाकर के 11 जुलाई को ये सो करने की कोशिश की गई है कि मरीज का ऑपरेशन यहां पर किया गया है।

-जब मैंने मरीज से पूंछा कि क्या ऑपरेशन यहां हुआ है तो मरीज ने कहा कि नहीं। 

-डॉ साहब बोले थे कि कुछ बोलना नहीं, तुम्हारा ऑपरेशन जिला अस्पताल में दिखा देंगे।

 

 

 

क्या बोले सुल्तानपुर DM 

-वहीं जब इस मामले में DM सुल्तानपुर से बात की गई तो उन्होंने कहा कि जो जांच टीम द्वारा रिपोर्ट मेरे पास आई है।

-मैं उसके आधार पर कार्रवाई के लिए शासन को पात्र भेज दिया है। 

-DM को सूचना मिली की माधुरी नामक मरीज फिर जिला अस्पताल में भर्ती हो गई है।

-इसकी सूचना सीएमएस को DM ने दिया और कहा कि इसके ईलाज़ में कोई कोताही नहीं होनी चाहिए। 

-वहीं जब DM से रूपये लिए जाने के मामले में बात की गई तो उन्होंने कहा कि यदि कोई पैसे दे रहा है या ले रहा है।

-उसको टेप (वीडियो) कराये टेप में अपराधी पकडे जाए, तभी कार्रवाई भी संभव हो पाएगी। 

 

 

संबंधित समाचार

:
:
: