Headline • पीएम मोदी का लोकसभा चुनाव के शानदार प्रदर्शन पर ट्वीट साथ+सबका विकास+सबका विश्वास=विजयी भारत। • लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: अमेठी में राहुल और स्मृति के बीच कड़ी टक्कर• लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: राजनीति में गंभीर की शानदार पारी, बड़ी जीत की ओर • लोकसभा चुनाव परिणाम 2019: PM मोदी की सुनामी लहर में ढहा UPA• फ्रांस में भारतीय वायु सेना के राफेल कार्यालय पर कुछ अज्ञात लोगों द्वारा की गई तोड़फोड़ • चुनाव आयोग ने वीवीपीएटी की पर्चियों के ईवीएम से मिलान को लेकर विपक्षी दलों की मांग को किया खारिज • लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का पार्टी कार्यकर्ताओं को संदेश फर्जी एग्जिट पोल से न हों निराश• ब्राजील के बार में हमलावरों ने की अंधाधुंध फायरिंग, 11 लोगों की हुई • कांग्रेस ने नकारा एग्जिट पोल कहा इसके विपरीत होगा चुनाव परिणाम • एग्जिट पोल में एक बार फिर मोदी सरकार, चुनाव आयोग से किया आग्रह • चीन के लिए जासूसी कर रहें पूर्व सीआइए अफसर को अमेरिका ने को सुनाई 20 साल की सजा• PM पद के लिए राहुल गांधी को मिला जेडीएस प्रमुख देवगौड़ा का समर्थन• लोकसभा चुनाव 2019: पीएम मोदी और अमित शाह की पहली संयुक्त प्रेस कॉन्फ्रेंस • समलैंगिक विवाह को ताइवान ने दिया वैधानिक दर्जा • साध्‍वी प्रज्ञा पर बोले पीएम मोदी ''मैं उन्‍हें कभी माफ नही कर पाऊंगा''• ऑस्ट्रिया सरकार ने प्राथमिक स्कूलों की लड़कियों के हिजाब पर प्रतिबंध लगाने का कानून पारित किया• लोकसभा चुनाव 2019: चुनाव आयोग पर बरसीं ममता बनर्जी, चुनाव आयोग को BJP का भाई बताया • राहुल का पीएम मोदी पर हमला पीएम सोचते हैं एक व्यक्ति देश चला सकता है• बंगाल में अमित शाह की रैली के दौरान हिंसा के विरोध में जंतर-मंतर पर भाजपा का प्रदर्शन• बंगाल में रोड शो से पहले मोदी-शाह के पोस्टर उतरे • मैं कभी PM के परिवार का नहीं करूंगा अपमान: राहुल गांधी• भारत को ही क्‍यों बेच रहा एफ-21 लड़ाकू विमान अमेरिका • बिहार में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने विपक्षी दलों पर सादा निशाना• PM मोदी पर मायावती के विवादित बयान पर जेटली का हमला किसी पद के लायक नहीं बसपा सुप्रीमो• विकीलीक्‍स संस्‍थापक जुलियन असांजे के खिलाफ स्‍वीडन में दोबारा खुल सकता है यौन उत्‍पीड़न मामला

काशी में है पाकिस्तानी मंदिर, भारी संख्या में पहुंचते है हिंन्दु-मुसलमान

वाराणसी. धर्म नगरी काशी में है एक पाकिस्तानी मंदिर है। सुनने में थोड़ा अजीब जरूर लगता है। लेकिन, ये सच है दरसल बंटवारे के बाद जब कुछ हिन्दू पाकिस्तान से काशी शिवलिंग को गंगा में विसर्जित करने आये तो यहां लोगों ने उसे विसर्जित न कर उसे स्थापित कर दिया और तब ही से ये शिव लिंग पाकिस्तानी मंदिर के नाम से जाना जाने लगा। सावन के महीने में खास तौर पर श्रद्धालु दर्शन पूजन के लिए पहुंचते है। यहां जितनी आस्था हिन्दुओं की है उतनी ही मुसलमानों की भी।

 

क्या कहते है पुजारी 

-वाराणसी के शीतला घाट पर स्तिथ इस मंदिर को लोग पाकिस्तानी मंदिर के नाम से जानते है।

-दरअसल इसकी कहानी भी थोड़ी अजीब है बताया जाता है। 

-जब बंटवारा हुआ तो सीताराम बोहड़ा नाम के व्यक्ति लाहौर से एक शिवलिंग लेकर काशी में प्रवाहित करने आये।

-उस दौरान घाट के नाविकों ने उन्हें रोका और शिवलिंग को यही स्थापित कर दिया।

 

पाकिस्तानी मंदिर के नाम से है पहचान 

-इस दौरान सीतराम के रिस्तेदारों ने मिलकर यहां मंदिर बनवा दिया।

-जिसके बाद से ही इस मंदिर को पाकिस्तानी मंदिर के नाम से जाना जाने लगा।

-इसके अलावा सरकारी अभिलेखों में भी वाराणसी विकास प्राधिकरण में इसका नाम पाकिस्तानी मंदिर के नाम से दर्ज है।

-लेकिन आज लोग बड़े ही भक्ति भाव से यहां पूजा पाठ करते है। 

 

 

मुसलमान भी रखते है आस्था 

-वाराणसी में इस मंदिर का नाम भले ही पाकिस्तानी हो पर लोगो की यहां भक्ति अपरम्पार है।

-यहां आने वाले भक्त बड़ी ही श्रद्धा के साथ बाबा के दर्शन पूजन करते है।

-इसके अलावा मंदिर के पुजारी कहते है सावन में आस-पास से भारी संख्या में भक्त बाबा के जलाभिषेक के लिए यहां पहुंचते है।

-इस मंदिर से आस्था सिर्फ हिन्दुओ की है ऐसा नहीं है।

-बल्कि मुसलमान भी इस मंदिर में बेहद आस्था रखते है।

-जिस तरह से उनकी मस्जिद में आस्था है उसी जज्बे के साथ वो यहां भी आते है।

संबंधित समाचार

:
:
: