Headline • गाजियाबाद की वसुंधरा कॉलोनी में नहीं रुक रही हैं चोरी की घटनाएं, लॉकर तोड़कर नगदी और लैपटॉप ले उडे़• स्वामी अग्निवेश ने दी आरएसएस प्रमुख को मॉब लिंचिंग पर खुली बहस की चुनौती• SC-ST एक्ट के विरोध में प्रदर्शन करने वाले 12 छात्रों के खिलाफ बीजेपी सांसद ने दर्ज कराई रिपोर्ट• लव, सेक्स एंड धोखा! दूसरे धर्म के युवक ने खुद को मराठी बताकर की शादी, न्याय के लड़की मुंबई से पहुंची मुरादाबाद• महिला के नहाते समय फोटो खींचने पर बवाल, दो पक्षों के बीच जमकर चले लाठी-डंडे, कई घायल• रानीखेत में भारत और अमेरिकी सैनिकों ने किया आतंकवादियों के खात्मे का संयुक्त अभ्यास• मायावती ने की घोषणा, छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी से गठबंधन कर चुनाव लड़ेगी बसपा• मैच के बाद पाक कप्तान ने कहा, हम भुवनेश्वर की गेंदों को समझ नहीं पाए• 13 वर्षीय लड़की की जघन्य हत्या के बाद बनारस के एक इलाके में पुलिस के खिलाफ जबर्दस्त रोष• बिग बॉसः जसलिन ने सिंगल बेड लिया तो बगल वाला बेड लेने पहुंच गए अनूप जलोटा• प्रेम विवाह के तीन साल बाद ससुराल पहुंचा, शाम से कोई खोजखबर नहीं... दो दिन बाद मिली लाश•  फौजी के घर पर दबंगों ने किया कब्जा, शिकायत करने पहुंचा तो थानेदार ने थाने से भगाया• नई सरकार आने के बाद भी नहीं बदला पाक सेना का रवैया, बीएसएफ जवान के शव से की बर्बरता, आंख निकाली• मुलायम के पोते तेजप्रताप ने माना, शिवपाल के अलग होने से लोकसभा चुनाव की संभावना पर पड़ेगा प्रभाव• आयुष्मान की 'बधाई हो' का 'बधाईयां तैनू' रिलीज, हंस-हंस कर लोटपोट हो जाएंगे आप• शिक्षा विभाग को नहीं पता अटलजी का जन्म कब हुआ था, स्कूली किताब में गलत डेट डाली• कन्नौज : किशोरी की रेप के बाद हत्या, मनचले के डर से छोड़ दी थी पढ़ाई• रायबरेली के लाल ने किया कमाल, प्री रीजनल मैथमेटिक्स ओलंपियाड में हुआ चयन• अपने हक की लड़ाई से पीछे नहीं हटेंगी मुस्लिम महिलाएं, सायरा ने पीएम मोदी के प्रति जताया आभार• 'सड़क-2' का ट्रेलर रिलीज,फिर एक साथ दिखेंगे संजय दत्त और पूजा भट्ट• मौसा ने बनाया नाबालिग को अपनी हवस का शिकार, मौसी से मिलने आई थीं लड़की• पाकिस्तान पर भारत की शानदार जीत के बाद जश्न का माहौल, भुवी के घर पर जमकर हुआ नृत्य• कफन का तिरंगा ओढ़कर न्याय के लिए कलक्ट्रेट में धरने पर बैठीं शहीद की विधवा  • पुलिस ने निर्दोष युवक को किया गिरफ्तार,फिर जेल भेजने के लिए खुद तैयार की जहरीली शराब,वीडियो वायरल !• अलीगढ़ : पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराए 25-25 हजार के इनामी बदमाश,थानाध्यक्ष घायल

 PM की बात पर देश के सबसे बुजुर्ग ने पहली बार दिया वोट, भूख से हुई थी माता-पिता की मौत

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विचारों से प्रभावित होने वाले लोग बहुत हैं, लेकिन उनमें ज्यादातर लोग युवा है। काशी में बुधवार को मतदाने के दौरान कुछ ऐसा देखने को मिला, जिसे देखकर कोई भी कह सकता है कि पीएम मोदी सिर्फ युवाओं के ही नहीं बुजुर्ग के दिलों पर भी राज करते हैं। वाराणसी के रहने वाले शिवानंद बाबा की उम्र आज 121 साल हो गई, इन्हें देश का सबसे बुजुर्ग इंसान भी कहा जाता है। सोचने वाली बात है, शिवानंद बाबा ने अपने जीवन में पहली बार मतदान किया वो भी मोदी से प्रेरित होकर इस चुनाव में, बताया जाता है कि बाबा ने अपने जिंदगी में कभी मतदान नहीं किया था।

जब बाबा को देख चौंक पड़े लोग

-दुर्गाकुंड प्राथमिक पाठशाला के बूथ संख्या 385 पर 121 साल के एक बाबा वोट डालने पहुंचे।
-इस दौरान खास बात ये नहीं रही कि इन्होंने 121 साल की उम्र में वोट डाला।
-बल्कि लोगों का ध्यान खींचने वाली बात ये है कि बाबा ने पहली बार वोट डाला। 



पीएम से प्रभावित होकर किया वोट

-शिवानंद बाबा का कहना है कि देश में फैले भ्रष्टाचार, जातिवाद, बेरोजगारी और भुखमरी फैली हुई है।
-जिसके विरोध में उन्होंने आज तक कभी वोट नहीं डाला था।
-लेकिन इस बार वे पीएम मोदी से प्रभावित होकर वोट देने गये।

कहा- प्रदेश से परिवारवाद की राजनीति खत्म होनी चाहिए

-बाबा ने कहा कि भुखमरी, घर, रोजगार, भ्रष्टाचार और जातिवाद से जुड़ी समस्याएं देश से समाप्त होनी चाहिए।
-यूपी में वो सरकार बने, जो धर्म-जाति से ऊपर उठकर काम करे।
-उन्होंने कहा कि मैंने इन्हीं मुद्दों पर वोट दिया है।
-उनका कहना है कि मोदीजी में ये काबिलियत है कि वो इन मुद्दों पर काम कर समस्याएं खत्म कर सकते हैं।
-उनका ये भी कहना है कि यूपी से परिवारवाद की राजनीति भी खत्म होनी चाहिए।

भूख के कारण हुई परिजनों की मौत

-बाबा ने बताया कि उनका जन्‍म 8 अगस्‍त 1896 को बांग्‍लादेश के श्रीहट्ट जिले में एक गरीब परिवार में हुआ था।
-मां-बाप भीख मांगकर घर चलाते थे, इसलिए कभी भी उनका पेट नहीं भरा।
-गरीबी की ही वजह से उन्‍होंने खुद को बाबा गुरुदेव को सौंप दिया।
-1903 में जब वह अपने गांव श्रीहट्ट वापस गए तो पता चला कि भूख के कारण मां-बाप का भी निधन हो चुका था।
-इसके बाद वह वापस आश्रम आ गए और 1907 में गुरुजी से दीक्षा ली।
-गुरुजी की मौत के बाद 1977 में वृंदावन चले गए। 1979 के बाद काशी आए और यहीं रहने लगे।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स



शो

:
:
: