Headline • धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I• हाई पावर कमेटी आलोक वर्मा पर आगे का फैसला लेगी। कमेटी में कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़के व जस्टिस एके सीकरी उपस्थित रहेंगे।• सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत

 PM की बात पर देश के सबसे बुजुर्ग ने पहली बार दिया वोट, भूख से हुई थी माता-पिता की मौत

वाराणसी. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के विचारों से प्रभावित होने वाले लोग बहुत हैं, लेकिन उनमें ज्यादातर लोग युवा है। काशी में बुधवार को मतदाने के दौरान कुछ ऐसा देखने को मिला, जिसे देखकर कोई भी कह सकता है कि पीएम मोदी सिर्फ युवाओं के ही नहीं बुजुर्ग के दिलों पर भी राज करते हैं। वाराणसी के रहने वाले शिवानंद बाबा की उम्र आज 121 साल हो गई, इन्हें देश का सबसे बुजुर्ग इंसान भी कहा जाता है। सोचने वाली बात है, शिवानंद बाबा ने अपने जीवन में पहली बार मतदान किया वो भी मोदी से प्रेरित होकर इस चुनाव में, बताया जाता है कि बाबा ने अपने जिंदगी में कभी मतदान नहीं किया था।

जब बाबा को देख चौंक पड़े लोग

-दुर्गाकुंड प्राथमिक पाठशाला के बूथ संख्या 385 पर 121 साल के एक बाबा वोट डालने पहुंचे।
-इस दौरान खास बात ये नहीं रही कि इन्होंने 121 साल की उम्र में वोट डाला।
-बल्कि लोगों का ध्यान खींचने वाली बात ये है कि बाबा ने पहली बार वोट डाला। 



पीएम से प्रभावित होकर किया वोट

-शिवानंद बाबा का कहना है कि देश में फैले भ्रष्टाचार, जातिवाद, बेरोजगारी और भुखमरी फैली हुई है।
-जिसके विरोध में उन्होंने आज तक कभी वोट नहीं डाला था।
-लेकिन इस बार वे पीएम मोदी से प्रभावित होकर वोट देने गये।

कहा- प्रदेश से परिवारवाद की राजनीति खत्म होनी चाहिए

-बाबा ने कहा कि भुखमरी, घर, रोजगार, भ्रष्टाचार और जातिवाद से जुड़ी समस्याएं देश से समाप्त होनी चाहिए।
-यूपी में वो सरकार बने, जो धर्म-जाति से ऊपर उठकर काम करे।
-उन्होंने कहा कि मैंने इन्हीं मुद्दों पर वोट दिया है।
-उनका कहना है कि मोदीजी में ये काबिलियत है कि वो इन मुद्दों पर काम कर समस्याएं खत्म कर सकते हैं।
-उनका ये भी कहना है कि यूपी से परिवारवाद की राजनीति भी खत्म होनी चाहिए।

भूख के कारण हुई परिजनों की मौत

-बाबा ने बताया कि उनका जन्‍म 8 अगस्‍त 1896 को बांग्‍लादेश के श्रीहट्ट जिले में एक गरीब परिवार में हुआ था।
-मां-बाप भीख मांगकर घर चलाते थे, इसलिए कभी भी उनका पेट नहीं भरा।
-गरीबी की ही वजह से उन्‍होंने खुद को बाबा गुरुदेव को सौंप दिया।
-1903 में जब वह अपने गांव श्रीहट्ट वापस गए तो पता चला कि भूख के कारण मां-बाप का भी निधन हो चुका था।
-इसके बाद वह वापस आश्रम आ गए और 1907 में गुरुजी से दीक्षा ली।
-गुरुजी की मौत के बाद 1977 में वृंदावन चले गए। 1979 के बाद काशी आए और यहीं रहने लगे।

संबंधित समाचार

:
:
: