Headline • महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह• पाकिस्तान को आंख दिखाता नाग• यूएई और भारत के बीच द्विपक्षीय सहयोग बढ़ाने पर होगी बात• कर्नाटक में सियासी संकट• सभी चोरों का उपनाम मोदी क्यों है: राहुल गांधी

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में नोटबंदी के खिलाफ 'भारत बंद' का नहीं दिखा असर

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में नोटबंदी के खिलाफ 'भारत बंद' का कुछ खास असर नहीं देखने को मिला। इसके बावजुद नोटबंदी के खिलाफ विपक्षी पार्टियों द्वारा भारत बंद के आह्वाहन पर आज पीएम के संसदीय क्षेत्र में बन्दी का अनोखा विरोध देखा गया।

कुछ व्यापारियों को छोड़कर सारे व्यापारी इस बन्दी के खिलाफ दिखें। एक दुकान के बाहर पोस्टर लगाकर और दुकानों को खोलकर लोगों ने बन्दी का विरोध करते दिखे। उस पोस्टर पर लिखा हैं " काला धन तुम्हारा डूबा तो हम दूकान क्यों बन्द करें। इसके अलावा तो कुछ ने एक दूसरे को गुलाब के फूल के साथ तिरंगा झंडा देकर दूकान खोलने वालों का धन्यवाद किया है।

वाराणसी में नोटबंदी का असर

वाराणसी में नोटबंदी का कोई असर देखने को नहीं मिला है। बता दें कि वाराणसी के कोदई चौकी इलाके में बिजली के उपकरण से लेकर सभी सामानों की बिक्री होती है। आमतौर पर यहां दुकानें 11 बजे से खुलना शुरू होती हैं मगर आज यहाँ के दुकानदार सुबह दस बजे से ही दूकान खोल दुकानदारी शुरू कर दिए हैं। ख़ास बात यह है कि ये सभी दूकानदार अपने दुकानों के बाहर एक पोस्टर लगाए हुए हैं, उस पोस्टर पर लिखा हैं कि 'काला धन तुम्हारा डूबा तो हम दूकान क्यों बन्द करें। दुकानदारों का कहना है कि बनारस के 80 प्रतिशत दुकानदार इस बन्दी के विरोध में हैं मोदी ने 50 दिन का समय माँगा है जो देना चाहिए। इस नोट बन्दी से काला धन रखने वालों को परेशानी है हमें नहीं ।

कानपुर में नोटबंदी का असर

नोटबंदी के विरोध में आज देश बन्द का असर कानपुर के बाज़ारों में भी देखने को नहीं मिला। रोज की तरह आज भी सभी प्रमुख बाज़ार खुले रहें। भारत बन्द पर जब अलग-अलग व्यापारियों से बात की तो पहले वो यही बोले कि हमें जानकारी ही नहीं है कि आज बन्द है, आप लोगों से ही पता चला कि आज बन्दी है।

उत्तराखण्ड में नोटबंदी का असर

उत्तराखण्ड के पहाड़ी क्षेत्रो में भी भारत बंद का कोई भी असर देखने को नहीं मिला। श्रीनगर, गढ़वाल में प्रतिदिन की भांती आज भी दुकानदार अपनी दुकान खोलकर व्यापार करते नजर आये। वहीं दुकानदार प्रधानमंत्री मोदी द्वारा लिये गये फैसले को सही मान रहे हैं। उनका कहना था कि भ्रष्टाचार व कालेधन को समाप्त करने के लिए इस प्रकार के ठोस कदम उठाने चाहिए।

संबंधित समाचार

:
:
: