Headline • यूपी - गरीब छात्रों को नए मेडिकल कालेजों में भी मिलेगा मौका• कर्नाटक : सरकार बचाने के लिए ज्योतिषियों और टोटकों की शरण में JDS नेता • पीसीबी पाकिस्तान के मुख्य चयनकर्ता इंजमाम पर करता रहा पैसों की बारिश, पर नहीं सुधरी टीम की हालत• अमेरिका ने हाफिज की पिछली गिरफ्तारियों को बताया 'दिखावा', कहा उसकी आतंकी गतिविधियों पर कोई फर्क नहीं पड़ा• CM कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने सिद्धू का इस्‍तीफा मंजूर किया• "कांग्रेस को चाहिए ' गांधी ' अध्यक्ष, वर्ना टूट जाएगी पार्टी"• यूपी बोर्ड के छात्रों को मिलेगा धीरूभाई अंबानी स्कॅालरशिप पाने का मौका • छपरा में मवेशी चोरी के आरोप में 3 लोगों की पिट-पिटकर हत्या • ट्रम्प का दावा - अमेरिकी युद्धपोत ने मार गिराया है होरमुज की खाड़ी में ईरानी ड्रोन• कर्नाटक : बीजेपी विधायकों के लिए सदन में ब्रेकफास्ट लेकर पहुंचे कर्नाटक के डेप्युटी सीएम• इमरान खान के अमेरिका दौरे से पहले पाक को झटका, नहीं मिलेगी अमेरिकी सहायता• पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी गिरफ्तार • 90 बीघे जमीन के लिए चली अंधाधुंध गोलियां, बिछ गई लाशें• धौनी के माता-पिता भी चाहते है कि वो अब क्रिकेट से संन्यास ले• चंद्रयान-2 की आयी डेट; 22 जुलाई को होगा लॅान्च • कुलभूषण जाधव केस : 1 रुपये वाले साल्वे ने पाकिस्तान के 20 करोडं रुपये वाले वकील को दी मात • कांग्रेस को नहीं मिल पा रहा नया अध्यक्ष , किसी भी नाम को लेकर सहमति नहीं• पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।


नई दिल्लीः भारत और बांग्लादेश शुक्रवार को 2018 एशिया कप का खिताबी मुकाबला होगा। पाकिस्तान के साथ बांग्लादेश के मैच को देखकर अब कोई भी एक तरफा मैच होने का दावा नहीं कर रहा है। भले ही भारत इस टूर्नामेंट में पहले भी बांग्लादेश को आसानी से मात दे चुका है, लेकिन फाइनल में उसे हल्के में लेना खतरनाक हो सकता है। भारतीय टीम के ओपनर शिखर धवन ने गुरुवार को कहा कि बांग्लादेश की टीम कड़ी चुनौती पेश करेगी और उसे हल्के में नहीं लिया जा सकता है।

धवन ने कहा, ’पाकिस्तान की टीम कागजों पर भले ही बड़ी टीम हो लेकिन बांग्लादेश ने उनसे बेहतर क्रिकेट  खेला और एक बार फिर फाइनल में पहुंचे। 

उन्होंने कहा कि दिन विशेष पर किसी टीम का प्रदर्शन खास होता है। बांग्लादेश ने अपने प्रदर्शन से दिखा रहे हैं कि वे कितने बेहतर हो गए हैं। उन्हें पता है कि दबाव में कैसे खेलना है।

कुछ ही देर के बाद शुरू होने वाली खिताबी जंग में भारत इस टूर्नामेंट में सातवीं बार चैंपियन बनना चाहेगा तो वहीं बांग्लादेश की नज़र पहली बार इस खिताब पर कब्जा जमाने की होगी।

इस बीच भारत इस मैच में अपनी फर्स्ट प्लेइंग इलेवन के साथ मैदान में उतरेगा, इसलिए टीम में रोहित शर्मा, शिखर धवन, जसप्रीत बुमराह, भुवनेश्वर कुमार और युजवेंद्र चहल की वापसी होगी। इस वजह से केएल राहुल, मनीष पांडे, खलील अहमद, सिद्धार्थ कौल और दीपक चाहर को बाहर बैठना होगा।

भारत ने सुपर-4 के मैच में बांग्लादेश को 7 विकेट से हराया था लेकिन इस बार फाइनल में इनके बीच जोरदार मुकाबला होने की उम्मीद है। टीम इंडिया ने जहां इस टूर्नामेंट में एक भी मैच नहीं हारा है इसलिए रोहित शर्मा के जांबाजों के हौसले बुलंद होंगे। वैसे उन्हें बांग्लादेश के मुश्फिकुर रहीम और मुस्ताफिजुर रहमान से बचकर रहना होगा। रहीम जहां खूब रन बना रहे हैं, वहीं मुस्ताफिजुर का भारत के खिलाफ पुराना रिकॉर्ड बहुत जबर्दस्त रहा है।

नई दिल्ली. गुरुवार की रात अनुष्का शर्मा और वरुण धवन की फिल्म 'सुई धागा मेड इन इंडिया' की सक्रिनिंग रखी गई। इसे देखने के लिए विराट कोहली, अनुष्का शर्मा, वरुण धवन समेत बॉलीवुड की कई हस्तियां पहुंची। विराट ने अपनी पत्नी की फिल्म देखकर उनकी काफी तारीफ की है। विराट ने कहा है कि अनुष्का ने जो ममता का जो किरदार निभाया है, उसने उनका दिल चुरा लिया है और उन्हें अनुष्का पर गर्व है। 

-विराट कोहली ने ट्वीट कर कहा- लास्ट नाइट मैंने 'सुई धागा- मेड इन इंडिया' फिल्म दूसरी बार देखी देखी और मुझे यह पहली बार से कहीं ज्यादा अच्छी लगी। काफी भावुक उतार-चढ़ाव वाली फिल्म है और फिल्म में सभी ने बेहतरीन काम किया है। 

-उन्होंने आगे कहा कि मौजी बेहतरीन था, लेकिन ममता के किरदार ने मेरा दिल चुरा लिया है। मुझे मेरे प्यार पर गर्व है। इस फिल्म को देखने नहीं भूलें, दोस्तो।” 

 

नई दिल्लीः एशिया कप में बांग्लादेश ने बड़ा उलटफेर कर दिया है। बांग्लादेश ने पाकिस्तान के फाइनल में जाने का सफर रोक दिया है। पाकिस्तान की टीम भारत से भी दो मैचों में हार गई है।

बुधवार रात हुए मैच में बांग्लादेश ने भी पाकिस्तान को 37 रन से हरा दिया। इसी के साथ पाकिस्तान का एशिया कप जीतने का सपना भी टूट गया।

पाकिस्तान टीम पहले ही कह चुकी थी कि फाइनल में पाकिस्तान टीम इंडिया को जरूर हराकर बदला लेगा। लेकिन उससे पहले ही पाकिस्तान का सफर खत्म हो चुका है। एक कैच के कारण पाकिस्तान टीम बैकफुट पर आ गई और जीतता हुआ मुकाबला हार गई।

इस मैच में भी शोएब मलिक टिक कर बल्लेबाजी कर रहे थे और पाकिस्तान को जीत की तरफ ले जा रहे थे। लेकिन एक कैच ने पूरा पासा पलट दिया और पाकिस्तान मुकाबला हार गया। रूबल हुसैन की गेंद पर शोएब ने शॉट खेला।

ऐसा लग रहा था कि चौका हो जाएगा. लेकिन, मुशरफे मुर्ताजा ने हवा में उड़कर एक हाथ से शानदार कैच लिया। इसी के साथ पाकिस्तान का चौथा विकेट गिर चुका था और पाकिस्तान की उम्मीदें भी टूट चुकी थीं।

अबूधाबी के खेले गए मैच में बांग्‍लादेश की टीम ने टॉस जीतकर पहले बल्‍लेबाजी की। टीम ने 48.5 ओवर में 239 रन बनाए। विकेटकीपर बल्‍लेबाज मुशफिकुर रहीम ने सर्वाधिक 99 और मोहम्‍मद मिथुन ने 60 रन का योगदान दिया।

बांग्‍लादेश के 239 रन के स्‍कोर का पीछा करते हुए पाकिस्‍तान की शुरुआत बेहद खराब हुई और शुरू के चार ओवर में ही टीम के तीन बल्‍लेबाज पेवेलियन लौट गए। गेंदबाजी की शुरुआत करते हुए स्पिनर मेहदी हसन ने पहले ही ओवर में फखर जमां (1) को रुबेल के हाथों कैच करा दिया। इसके बाद पाकिस्तान की टीम फिर संभल नहीं पाई और एक के बाद एक विकेट गिरते गए। 

 

नई दिल्लीः एशिया कप के सुपर 4 मुकाबले में अफगानिस्तान के खिलाफ टीम इंडिया जीत हासिल नहीं कर पाई थी। भारत और अफगानिस्तान का ये मैच टाई रहा था।

राशिद खान ने जडेजा को आउट कर भारत के हाथों से जीत छीन ली थी जिसके बाद मैदान पर बैठा एक बच्चा फूट-फूट कर रोने लगा था।

यह बच्चा जडेजा के आउट होने के बाद इतना निराश हो गया कि उसके आंसू निकल आए। हालांकि इसके बाद टीम इंडिया के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार ने इस बच्चे को बेहद ही खास गिफ्ट दिया।

भुवनेश्वर कुमार ने मैच के बाद इस बच्चे के पिता अमरप्रीत सिंह को कॉल किया और बच्चे से भी बात की। भुवनेश्वर कुमार ने बच्चे को चुप कराते हुए उनसे चैंपियन बनने का वादा किया।

भुवी की कॉल के बाद ये बच्चा बेहद खुश हो गया। इसका वीडियो और तस्वीरें बच्चे के पिता अमरप्रीत सिंह ने ट्वीट भी की हैं।

 

काशीपुरः इसे दुर्भाग्य ही कहेंगे कि उत्तराखंड को बने हुए 17 साल हो चुके हैं मगर सरकार में खेल विभाग को देखने वाले किसी भी मंत्री ने आजतक काशीपुर स्थित स्पोर्ट्स स्टेडियम की दुर्दशा की तरफ ध्यान देने की जहमत नहीं की। इसे लेकर खिलाड़ी ही नहीं खेल प्रेमियों में खासा रोष है।

उनकी बस एक ही मांग है कि खेल मंत्री यहां आये और इस स्टेडियम का उद्धार करें। यहां पर समय समय पर राज्यस्तरीय से लेकर ब्लॉक स्तर तक की विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं होती रहती है। 1972 में बना काशीपुर का स्पोर्ट्स स्टेडियम की स्थापना पूर्व मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी ने की थी।

उद्देश्य था कि खेल प्रतिभाएं आगे आये और यहां से प्रक्षिक्षण लेकर खिलाडी विभिन्न खेल प्रतियोगताओं में प्रतिभाग करें। यहां से प्रशिक्षण लेकर कई खिलाडियों ने सफलता की बुलंदियों को भी छुआ है। लेकिन आज ये स्टेडियम अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहा है जिसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है।

दिलचस्प बात ये है कि उत्तराखंड को बने हुए 17 साल से अधिक हो चूका है। प्रदेश सरकार में न जाने कितने खेल मंत्री बने मगर आज तक कोई भी खेल मंत्री काशीपुर नहीं आये जो इस स्टेडियम की दुर्दशा की सुध ले सके। यहाँ पर हॉकी, बॉलीवाल, बॉक्सिंग, वेटलिफ्टिंग, बैडमिंटन, एथलीट आदि कई खेलों के जिला और राज्य स्तरीय आयोजन होते ही रहते हैं। 

खेलों के सुधार के लिए प्रदेश भर में स्टेडियम बनाये बनाए जा रहे हैं मगर 42 साल पुराने इस स्टेडियम की तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा। यहीं वजह है कि कई खिलाडी यहां आने के बजाय अन्य प्रदेशों में अपना भविष्य तलाश रहे हैं। खिलाड़ी हो या खेल प्रेमी खेलमंत्री के इस रवैये से खासे नाराज हैं।

काशीपुर के स्पोर्टस स्टेडियम की दुर्दशा के लिए क्षेत्र के भाजपा और कांग्रेस के जनप्रतिनिधि भी कम जिम्मेदार नहीं हैं जिन्होंने प्रदेश में जब उनकी सरकारें थी तब सरकार का ध्यान इस ओर दिया होता तो शायद इस स्टेडियम का कुछ उद्धार हो जाता।

जब इस मामले में प्रदेश के खेल मंत्री अरविन्द पांडेय से बात की गई तो उनका कहना है कि प्रदेश सरकार खेलो को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। जल्द ही प्रदेश के स्टेडियमों को ठीक कर दिया जायेगा। अरविन्द पांडेय ने पूर्व की सरकारों पर तंज कस्ते हुए कहा कि यदि पहले की सरकार से स्टेडियमों की और ध्यान दिया होता तो अभी तक कई खिलाडी प्रदेश का नाम रोशन कर चुके होते।  

 

:
:
: