Headline • सीएम योगी से मिलने के बाद बोलीं विवेक तिवारी की पत्नी- सरकार पर भरोसा और बढ़ गया• राजकपूर की पत्नी कृष्णा राज कपूर का 87 साल की उम्र में निधन• गाजियाबाद: आपसी झगड़े में BSF जवान ने दूसरे को मारी गोली, एक की मौत• लखनऊ शूटआउट : विवेक तिवारी की पत्नी ने सीएम योगी से की मुलाकात• लखनऊ : कारोबारी के घर लाखों की डकैती, वारदात के बाद दंपती को बाथरूम में बंद कर फरार हुए नकाबपोश बदमाश • मुजफ्फरनगर : युवती का अपहरण कर रेप, जंगल में फेंककर हुए फरार• विवेक तिवारी हत्याकांड पर बीजेपी विधायक ने उठाए सवाल, सीएम योगी को लिखा पत्र• विवेक तिवारी हत्याकांड:CM योगी ने पीड़ित परिवार से फोन पर की बात,हर संभव मदद करने का दिया भरोसा• बस्ती : खराब बस को धक्का लगा रहे यात्रियों को ट्रक ने कुचला, 6 की दर्दनाक मौत• विवेक तिवारी हत्याकांड :'पुलिस अंकल, आप गाड़ी रोकेंगे तो पापा रुक जाएंगे... Please गोली मत मारियेगा'• लखीमपुर खीरी के यतीश ने तोड़ा लगातार पढ़ने का वर्ल्ड रिकॉर्ड, 123 घंटे पढ़कर बनाया कीर्तिमान• रुद्रप्रयाग : अनियंत्रित होकर गहरी खाई में गिरी कार • फाइनल में सेंचुरी बनाने वाले लिटन दास को क्यों कहना पड़ा, मैं बांग्लादेशी हूं और धर्म हमें बांट नहीं सकता• ललितपुर : SDM ने होमगार्ड की राइफल से गोली मारकर की आत्महत्या• टेनिस की इस खिलाड़ी ने किया टॉपलेस वीडियो, कारण जानकार आप भी करने लगेंगे तारीफ• इंडोनेशिया में भूकंप से मरने वालों की संख्या 800 पार पहुंची, अभी भी कई इलाकों में नहीं पहुंचा राहत दल• मेरठ : हिस्ट्रीशीटर की चाकुओं से गोदकर हत्या• एशिया कप के साथ फोटो शेयर कर इशारों इशारों में  बुमराह ने राजस्थान पुलिस को मारा ताना• तनुश्री के सपोर्ट में आईं कई हिरोईन तो नाना के समर्थन में आईं राखी सावंत, कहा, मरते दम तक साथ दूंगी• SHO और मुंशी के टॉर्चर से परेशान होकर महिला सिपाही ने लगाई फांसी, सुसाइड नोट में हुआ खुलासा• मामा-भांजी को पेड़ से बांधकर की पिटाई, चचिया ससुर ने बदला लेने के  लिए किया ऐसा घिनौना काम• बदनामी के बीच आई यूपी पुलिस की एक ईमानदार छवि, केस से नाम हटाने को 4 लाख देने वाले को जेल भेजा• इस दिन रिलीज हो रहा है कंगना की मणिकर्णिका: द क्वीन ऑफ झांसी' का टीजर• पुलिस के आतंक से पुरुषों ने गांव छोड़ा, दो पक्षों के झगड़े में सिपाही के घायल होने पर गांव में पुलिस का तांडव• स्वामी प्रसाद का सपा पर हमला, कहा-अखिलेश ने गरीब के पैसे और साइकिल कार्यकर्ताओं में बांट दिए


जौनपुरः यहां पहुंचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने सपा और कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि धर्म, जाति, मजहब, गरीबी हटाने की बात करने वाले यह जान लें, समाजवाद, साम्यवाद नहीं राम राज्य से भारत चलेगा। उन्होंने कहा कि 1994-95 में प्रदेश में अराजकता चरम पर थी।

इसके खिलाफ आवाज उठाते हुए शहीद हुए पूर्व मंत्री उमानाथ सिंह के नाम से अब जौनपुर में बन रहे राजकीय मेडिकल कॉलेज का नामकरण होगा। वे पूर्व मंत्री अमर शहीद उमानाथ सिंह की 24 वीं पुण्य तिथि पर शामिल होने आए थे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि जौनपुर पंडित दीनदयाल जी की कर्मभूमि रही है। यहीं उन्होंने अंत्योदय की बात की थी। इसी भाव को शहीद हुए उमानाथ सिंह ने आगे बढ़ाया और तत्कालीन सपा सरकार के खिलाफ आवाज उठाई। उन्होंने वैचारिक प्रतिबध्दता को आगे बढ़या। अब सरकार समानता का भाव पैदा करने का काम कर रही है।

पहली बार गरीबों के बैंक खाते खोले जा रहे हैं। इससे यदि सरकार के धन का एक-एक रुपया यदि किसी योजना के नाम पर भेज जाए तो वह सीधे उनके खाते में पहुंचे। 

उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत  25 करोड़ खाते खोले गए। 82 करोड़ रुपये उनके द्वारा बैंक खाते में जमा किया गया।

पीएम आवास 2022 तक आवास उपलब्ध कराने की योजना चल रही है, लेकिन पूर्व की राज्य सरकार ने इसमें रुचि नहीं ली, क्योंकि उनके संस्कारो की कमी है, जिसे उन्होंने जन्म से नही सीखा। 2014 से 8 लाख 85 हजार आवास तैयार किए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि दो अक्टूबर तक बेस लाइन सर्वे के आधार पर जिलों को ओडीएफ घोषित किया जाएगा। इसके बाद छूटे बेस लाइन सर्वे से छूटे शौचालय विहीन लोगों के लिए भी एक-एक शौचालय का निर्माण कराया जाएगा।

 

रायबरेलीः एशियन गेम्स में सिल्वर मेडल जीतकर देश का मान बढ़ाने वाली रायबरेली की एथलीट सुधा सिंह का भव्य स्वागत किया गया।

जीत के बाद पहली बार पहुंची सुधा सिंह का कई समाजसेवियों व सामाजिक संगठनों ने भव्य स्वागत किया।

इंडोनेशिया के जकार्ता में आयोजित किये गए एशियन गेम्स में रायबरेली जैसे छोटे जिले से सुविधाओं के अभाव के बीच से निकल कर तीन हजार मीटर स्टेपल चेस रेस में एथलीट सुधा सिंह ने सिल्वर मेडल दिलाकर देश का नाम रोशन किया था। मेडल जीतने के बाद से ही सुधा सिंह के घर पर बधाइयों का तांता लगा था। 

पदक जीतने के बाद कल सुधा सिंह का प्रदेश में आगमन हुआ तो डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने  अमौसी एयरपोर्ट पर उनका स्वागत किया।

 

वहीं आज  रायबरेली जिले में पहली बार आगमन पर सुधा सिंह ने कहा कि उन्हें बहुत खुशी है कि उन्होंने देश को पदक दिलाया है। सुधा सिंह ने देश की जनता का भी आभार प्रकट किया है।

 

नई दिल्लीः इंग्लैंड के खिलाफ मौजूदा टेस्ट सीरीज के अंतिम मैच को भी गंवाने की दहलीज तक पहुंच चुकी भारतीय टीम को हनुमा विहारी के रुप में एक ऑलराउंडर खिलाड़ी मिल गया। 

24 साल के हनुमा को इंग्लैंड की पहली पारी में सिर्फ एक ओवर फेंकने का मौका मिला, लेकिन दूसरी पारी में उन्होंने अपनी उपयोगिता साबित कर दिखाई। उन्होंने दो लगातार गेंदों पर विकेट लेकर अपना नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज करा लिया।

अपने डेब्यू मैच में हनुमा 35 साल में पहली बार दो लगातार गेंदों पर विकेट हासिल करने वाले पहले भारतीय गेंदबाज बन गए। इससे पहले जनवरी 1983 में बलविंदर सिंह संधू ने पाकिस्तान के खिलाफ अपने डेब्यू टेस्ट में दो गेंदों में दो विकेट चटकाए थे। तब उन्होंने हैदराबाद (सिंध) टेस्ट में मोहसिन खान और हारून रशीद को पवेलियन की राह दिखाई थी।

दूसरी तरफ हनुमा अपनी डेब्यू पारी में अर्धशतक (56 रन) भी जमा चुके हैं। इसके साथ ही अपने पहले ही टेस्ट में फिफ्टी और दो लगातार गेंदों पर विकेट हासिल करने वाले वह एकमात्र भारतीय क्रिकेटर हैं।

भारत को लंबे इंतजार के बाद इंग्लैंड की दूसरी पारी में हनुमा विहारी (37 रन देकर तीन विकेट) ने सफलता दिलाई। जिन्हें विराट कोहली ने काफी देर बाद आक्रमण पर लगाया।

विहारी ने अपने 8वें ओवर की पहली दो गेंदों पर जो रूट और एलिस्टेयर कुक को आउट किया। रूट ने तेजी से रन बनाने के प्रयास में स्लॉग स्वीप खेला, लेकिन गेंद देर से बल्ले तक पहुंची और ऊपरी किनारा लेकर डीप मिडविकेट पर खड़े हार्दिक पंड्या के पास पहुंच गई, जो चोटिल ईशांत शर्मा की जगह क्षेत्ररक्षण कर रहे थे। विहारी का यह पहला टेस्ट विकेट था।

विहारी ने अगली गेंद पर कुक को विकेटकीपर ऋषभ पंत के हाथों कैच कराया और इसके साथ ही रिकॉड बनाया। 

 

नई दिल्लीः टीम इंडिया को पांच मैचों की सीरीज के आखिरी टेस्ट में 118 रनों से हार का सामना करना पड़ा। इस हार के साथ टीम ने सीरीज 1-4 से गंवा दी। इसके बाद भी भारतीय कप्तान विराट कोहली निराश नहीं है। मैच के बाद उन्होंने कुछ ऐसी बातें कही, जिससे उनके उत्साह का पता चलता है। अगले सप्ताह से यूएई में एशिया कप चैंपियनशिप होने वाली है। 

विराट ने कहा कि उनके खिलाड़ियों ने इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें और आखिरी टेस्ट मैच में निडर होकर अपना खेल खेला, लेकिन उनमें अभी अनुभव की कमी है।

लोकेश राहुल (149) और ऋषभ पंत (114) के बीच छठे विकेट के लिए हुई 204 रन की रिकॉर्ड साझेदारी के बावजूद भारत को यहां ओवल मैदान पर इंग्लैंड के हाथों हार का सामना करना पड़ा।

कोहली ने मैच के बाद कहा, ’हमारे पास टीम में योग्यता है और हमें केवल अनुभव चाहिए।’ उन्होंने राहुल और पंत की तारीफ करते हुए कहा कि दोनों बल्लेबाजों ने असंभव जीत की उम्मीद जताई थी, लेकिन टीम आखिर तक लड़ नहीं सकी।

उन्होंने कहा, ’मुझे लगता है कि दोनों युवा खिलाड़ियों को अधिक श्रेय देना चाहिए। हमने जिस तरह का क्रिकेट खेला, वो शायद स्कोरकार्ड पर दिखाने लायक नहीं था।’

कप्तान ने कहा, ’पंत ने अधिक साहस और प्रतिभा का प्रदर्शन किया। जब आप ऐसी परिस्थितियों में होते हैं तो आप रिजल्ट के बारे में नहीं सोचते। लेकिन चीजें आपके अनुकूल होती जाती हैं। मैं दोनों के प्रदर्शन खुश हूं और ये भारत के भविष्य हैं। हम इस मौके का लाभ नहीं उठा पाए।’

कोहली ने सीरीज में कुल 593 रन बनाए। उन्होंने कहा कि पांचों मैचों में अच्छे खासे दर्शक आए जो कि टेस्ट क्रिकेट के लिए काफी सकारात्मक बात है। उन्होंने कहा, ’दोनों टीमें जानती है कि सीरीज काफी प्रतिस्पर्धी रही। ये टेस्ट क्रिकेट के लिए एक अच्छा संकेत है। इंग्लैंड एक अच्छी टीम है और हमने यह महसूस किया कि दो-तीन ओवरों में खेल बदल गया।’ 

बरेलीः रहस्यमयी बुखार का आतंक मचा हुआ है। शहर से लेकर देहात तक हजारों लोग बुखार की चपेट में आ गए हैं। वहीं 100 से अधिक लोग काल के गाल में समा गए है, पर स्वास्थ्य विभाग 19 की मौत की बात कर रहा है। 

बुखार की दहशत के बाद स्वास्थ्य विभाग गांव में कैम्प लगाकर बीमार लोगां को दवा दे रहा है पर वही बरेली के जिला अस्पताल में बुखार के मरीजों की भीड़ जमा है। हर वार्ड में अधिकतर बुखार के मरीज ही नजर आ रहे है। 

हालत ये है कि बुखार के मरीजो की बढ़ती संख्या को देखते हुए अतिरिक्त वार्ड बनाये गए हैं तो वहीं एक एक बेड पर दो दो मरीज भर्ती है। पिछले 24 घण्टे में 11 बुखार के मरीजों की  मौत हो गई है।

जबकि पिछले 10 दिनों में 100 से अधिक लोग काल के गाल में समा गए हैं। बुखार का सबसे ज्यादा असर बरेली के देहात क्षेत्र में देखने को मिल रहा है। हजारों लोग बुखार की चपेट में आने के बाद बीमार चल रहे हैं तो वही बरेली का 350 बेड वाला जिला अस्पताल बुखार के मरीजों से भरा हुआ है। 

बरेली में बरसात के बाद हजारों लोग वायरल फीवर, टायफाइड और मलेरिया से पीड़ित हैं। जिसके चलते पिछले दस दिनों में 100 लोगों से अधिक की मौत हो चुकी है। ग्रामीण इलाकों में रहस्यमयी बुखार से ग्रामीण परेशान है और स्वस्थ्य विभाग की भी कुम्भकर्ण नींद खुली।

बरेली में पिछले 24 घण्टे में 11 लोगों की बुखार से मौत हो गई है। सीएमओ की माने तो बरेली जिले में अबतक 36 मौते हुई है पर बुखार से अभी तक 19 मौत की बात कही । पिछले दस दिनों में 19 लोगो की ही बुखार से मौत बताई जा रही है। 

 

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: