Headline • दलित किशोरी को अगवा कर गैंगरेप की कोशिश, हैवानों से लड़कर थाने पहुंचीं और रिपोर्ट दर्ज कराई• लुटेरी फैमिली गिरफ्तार, महिलाएं करती हैं गैंग का नेतृत्व, ज्वेलरी शॉप से उड़ाए थे 50 लाख के गहने• सांसद बालियान के प्रतिनिधि की आंख में मिर्च झोंककर लूट करने वाले बदमाश गिरफ्तार • विहिप नेता सुरेंद्र जैन बोले, योगी और मोदी पर पूरा भरोसा, 5 अक्टूबर को होगी आंदोलन की रूपरेखा तय• मेरठ पुलिस को शर्मिंदा करने वाला वीडियो वायरल, मेडिकल स्टूडेंट के साथ गाली गलौच और मारपीट• सपा नेता ने कहा, कांवड़ यात्रा का विरोध करता हूं, भोले और राम से लड़ना होगा, बीजेपी की जान इनमें है• सुप्रीम कोर्ट ने लगाई मनोज तिवारी को फटकार, कहा-जगह बताइए हम आपको सिलिंग ऑफिसर बना देंगे• सड़क दुर्घटना में नामचीन गायक और पत्नी घायल, 2 साल की बेटी की मौत• चार माह तक बंद रहेंगी चमड़ा फैक्ट्रियां, शासनादेश जारी, होंगे 11 लाख मजदूर बेरोजगार • बंगलूरु के नशा मुक्ति केंद्र में इलाज करा रहे हैं कपिल शर्मा, जल्द स्वस्थ्य होकर लौटेंगे टीवी पर• अफगानिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी का निर्णय, धोनी कर रहे है भारतीय टीम की कप्तानी• पुलिस के सामने मोबाइल चोर के आरोपी को भीड़ ने पीटा, मामला उछलने पर दिया कार्रवाई का भरोसा• वाह री मेरठ पुलिस! एफआईआर से आरोपी का नाम हटाकर ऐसे व्यक्ति का नाम जोड़ दिया जो इस दुनिया में नहीं है• हरिद्वार की अंडर-16 क्रिकेट टीम के चयन का मामला पहुंचा नैनीताल हाईकोर्ट  • संभल में एसिड अटैक की घटना निकली झूठी, ससुरालियों को फंसाने के लिए भाई से ही डलवा ली थी एसिड की कुछ छींटे • BJP नेता कुसुम राय पर आरोप, पुलिस पर दबाव डालकर गिरवाई पड़ोसी के घर की दीवार, पीड़ित की सुनवाई नहीं• योगी सरकार ने गन्ना किसानों को दी बड़ी सौगात• पुलिस ने 80 साल के बुजुर्ग को बनाया बलात्कारी, जेल में हुई मौत,परिजन मांग रहे न्याय• आज से शुरू होगा कसौटी जिंदगी की, प्रोमो में दिखी थी कोमोलिका की झलक• कन्नौज के डबल मर्डर के आरोपी ममेरे भाइयों को पुलिस ने किया गिरफ्तार, 21 सितंबर को हुई थी हत्या• प्रेमिका की जिद पर बीवी को दिया फोन पर तलाक, फिर थाने में कर लिया प्रेमिका से निकाह• हमीरपुरः कंस मेले के रूट को लेकर बवाल, आयोजकों की जिद के आगे झुका प्रशासन• सफाईनायक से बीजेपी विधायक बोले, सुधर जाओ नहीं तो 1 घंटे में मुकदमा दर्ज कर सीधा जेल भिजवा दूंगा• बीएचयू में देर रात हुए बवाल के बाद हड़ताल पर गए जूनियर डॉक्टर,स्वास्थ्य सेवा चरमराई• सपना चौधरी को बर्थड़े पर मिला ये सरप्राइज, सेलिब्रेशन के वीडियो हो रहे वायरल


बरेली: चीनी कूंग फू मास्टर की तरह कोच और अखाड़े जैसे माहौल, यहां खिलाड़ी नहीं, लड़ाके तैयार हो रहे हैं। ऐसे लड़ाके जिनको भले ही कभी मेडल के लिए मायूस होना पड़े लेकिन जिंदगी की जंग को हर मोड़ पर जीतने का जज्बा होता है। 

हरीश बोरा की ताइक्वांडो को लेकर कहानी खासी दिलचस्प है। इज्जतनगर मंडलीय रेल कारखाने के कर्मचारी हरीश बोरा उत्तराखंड में रानीखेत के पास पहाड़ी गांव के रहने वाले हैं। पिता भी रेलवे में थे।   

बचपन में एक दिन बाल कटवाने हेयर ड्रेसर की दुकान पर पहुंचे। बाल कटाने को इंतजार करने के दौरान वे वहां रखी पत्रिका पढऩे लगे। पत्रिका में एक जगह कोरियन मार्शल आर्ट ताइक्वांडो की जानकारी के साथ दक्षिण भारत के शहर बेंगलुरु में एक कोच का पता दिया था। उन्होंने वो हिस्सा चुपके से फाड़कर जेब में खोंस लिया। प्रकाशित लेख की बात उनके मन में बैठ गई और एक दिन मां को बताकर साउथ की ट्रेन पकड़ ली। 

वहां पहुंचे तो न कोई उनकी बात समझने वाला, न वे किसी की बोली समझने वाले। काफी धक्के खाने के बाद कोई हिंदी भाषी मिल गया, जिसने पर्चे में छपे पते तक पहुंचा दिया। 

वहां उनके ’मास्टर मिल गए, लेकिन वे ऐसे ही किसी बच्चे को सिखाने को तैयार नहीं हुए।  उन्होंने बहलाकर किशोर हरीश बोरा से घर का पता पूछा और वहां चिट्ठी भेज दी। घर वाले तो उन्हें तलाश ही रहे थे, चिट्ठी मिलते ही चल पड़े। 

पिता वहां पहुंचे लेने लेकिन वह लौटने को तैयार नहीं हुए। सीखने की जिद के साथ पिता से मार खाने का भी डर भी था।  बेटे की इच्छा के आगे पिता का दिल पसीज गया। मन लगाकर सीखने के साथ चिट्ठी-पत्री की हिदायद देकर लौट आए। इसके बाद हरीश बोरा का मार्शल आर्ट का सफर ट्रैक पर शुरू हो गया।

उनके मास्टर ने उन्हें लोहा बनाना शुरू कर दिया। बाद में ब्लैक बेल्ट टैस्ट के लिए कोरिया भेजा। वहां फाइट प्रैक्टिस के लिए कई दिन घर में ही बंद रहे।  ब्लैक बेल्ट लेकर वतन वापसी की। कुछ समय बाद रेलवे में नौकरी भी लग गई।  

इज्जतनगर मंडलीय कारखाने में काम करने के साथ ही उन्होंने ताइक्वांडो सिखाने को समय निकालना शुरू किया। पहले तो सीखने वाले ही नहीं मिल रहे थे। नई तरह की आर्ट थी, जिसमें कोरियन शब्द भी बोले जाते हैं।  चिरैत, घुंघरी, चुंबी, ईल जांग टाइप।  कई लोगों ने मज़ाक भी बनाया लेकिन बोरा जी डटे रहे। 

ये करीब 28 साल पहले की बात है। कहा ये जाता है कि बरेली शहर में इस मार्शल आर्ट को वहीं लाए। आज कई कामयाब कोच उनके शिष्य रहे हैं। हरीश बोरा ने कभी सिखाना बंद नहीं किया।

वे कहते हैं, ये मेरी इबादत है, यही दौलत। आज भी वे ख़ुद जंप करके किक मारकर बताते हैं, जबकि उम्र पचास पार हो चुकी है।  उनकी क्लास के सीनियर कोच इंटरनेशनल खिलाड़ी ब्लैक बेल्ट हैं, लेकिन आज भी कई बार वे उनकी डांट खाते हैं।  

डांट-फटकार के साथ दुलार ऐसा रहता है कि बच्चे भले ही स्कूल बंक कर दें, ट्यूशन छोड़ दें, लेकिन अपने ’अखाड़े की क्लास नहीं छोड़ते। हरीश बोरा कई अन्य मार्शल आर्ट के भी खिलाड़ी हैं।

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: