Headline • महेंद्र सिंह धोनी ने कहा रिटायर होने तक नहीं बताउंगा अपना सक्सेस मंत्र• अक्षय कुमार ने लिया प्रधानमंत्री का इंटरव्यू, पीएम ने जीता यूजर्स का दिल • अफ्रीका में लॉन्‍च किया दुनिया का पहला मलेरिया का टीका• CJI के खिलाफ आरोप: CBI, IB और दिल्ली पुलिस के ऑफिसर तलब• श्रीलंका में सीरियल ब्लास्ट की जिम्मेदारी, आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली• सीएम सहित रेलवे स्टेशनो को मिली आतंकवाद की धमकी• धोनी की बैटिंग देख विराट बोले- धोनी ने तो हमें डरा ही दिया था• पीएम मोदी के अनुरोध पर शाहरुख खान ने एक मजेदार विडियो बना लोगों से की वोटिंग की अपील • श्रीलंका सीरियल ब्लास्ट: श्रीलंका में अब तक बम धमाकों में मरने वालों की संख्‍या 290 पहुंची • राहुल गांधी का ऐलान सरकार बनी तो राष्ट्रीय बजट के साथ किसानों के लिए करेंगे दूसरा बजट पेश• चुनावी माहौल में ट्विंकल खन्ना ने ली अरविंद केजरीवाल पर चुटकी• बाटला हाउस का जिक्र कर पीएम मोदी ने सादा कांग्रेस पर निशाना • यूएई में आज पहले हिंदू मंदिर का शिलान्यास समारोह• रेल हादसा: कानपुर के पास पूर्वा एक्सप्रेस पटरी से उतरी 100 के करीब लोग घायल • लोकसभा चुनाव 2019: बसपा सुप्रीमो मायावती ने मुलायम के बाद अब आजम खां को दिया समर्थन • विराट सेना' का आज कोलकाता से 'करो या मरो' का मुकाबला• कलंक' स्टार वरुण धवन ने कहा, मुझे असफलता से डर नहीं लगता• सूडान में कैदियों की रिहाई और कर्फ्यू समाप्‍त होने पर अमेरिका ने कि प्रशंसा• 24 साल बाद एक मंच पर दिखें माया-मुलायम• रूस के वैज्ञानिकों का दावा 42 हजार साल पहले दफन घोड़े में मिला खून, अब बनाएंगे क्‍लोन • दिनोंदिन आलिया भट्ट और रणबीर कपूर का मजबूत होता रिश्‍ता रह सकते है लिव-इन पर • पश्चिम बंगाल में वोटिंग के दौरान बीजेपी-टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई हिंसा • लीबिया की राजधानी त्रिपोली में गृहयुद्ध की जंग में 205 की मौत, 913 के करीब घायल • लोकसभा चुनाव 2019 के दूसरे चरण की 95 सीटों पर वोटिंग जारी• PM मोदी की फिल्‍म 'पीएम नरेंद्र मोदी' का ट्रेलर यूट्यूब से हटा


 गोरखपुरः पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी नहीं रहे। उनके निधन की खबर फैलते ही पूरे प्रदेश में शोक की लहर छा गई। गोरखपुर में भी उदासी छाई हुई है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की यादें गोरखपुर से भी जुड़ी हुई है।

1940 में अटल बिहारी वाजपेई अपने बड़े भाई स्वर्गीय प्रेम बिहारी वाजपेई की बारात में सहबाला बनकर आए थे। गोरखपुर के मथुरा प्रसाद दीक्षित की बेटी राजेश्वरी से अटलजी के बड़े भाई प्रेम बिहारी की शादी हुई थी। मौजूदा समय में मथुरा प्रसाद दीक्षित के परिवार के तमाम सदस्य गोरखपुर में रहते हैं, जिसमें अटल जी के रिश्ते में साले बृज नारायण दीक्षित सबसे बुजुर्ग अवस्था में हैं और परिवार के मुखिया के रूप में उनका सम्मान है।

अटलजी की मौत को लेकर गोरखपुर का यह परिवार बेहद दुखी है। गोरखपुर में अटल जी के बिताए एक- एक पल को यह परिवार याद कर भावुक हो जाता है।  अटल बिहारी वाजपेई ने गोरखपुर के आपने इस रिश्ते को तमाम यात्राओं के दौरान कभी नहीं खोला, लेकिन 1996 की एक चुनावी जनसभा में इंटर कॉलेज में गोरखपुर वासियों की भारी भीड़ को देखते हुए अटलजी अपने अंदाज में गोरखपुर से अपने रिश्ते का खुलासा किया।

उन्होंने मंच से कहा था कि मुझे गोरखपुर की तमाम गलियां याद हैं। क्योंकि मेरा बचपन में यहां कई बार आना जाना हुआ है। मैं तो यहां अपने बड़े भाई की शादी में सहबाला बनकर आया था। मेरी तब भी बहुत इज्जत और मान-सम्मान हुई थी और मुझे लगता है गोरखपुर के लोग वैसा ही प्यार इस चुनाव में भी अटल बिहारी को देंगे।

दीक्षित परिवार आज भी अटल जी की यादें अपने समेटे हुए हैं। उनके भाई के साले बृज नारायण दीक्षित कहते हैं कि अटल जी हंसमुख और मजाकिया अंदाज में हम सभी के बीच रहते थे। 1975 के बाद जब वह गोरखपुर आए तो घर परिवार में उनके सत्कार का जो दौर चला उसे अटलजी बेहद प्रभावित हुए। यही नहीं वह घर के लोगों का बनाया हुआ पकवान तो ग्रहण किए, लेकिन सुबह की बेला में अपने हाथों से लोगों को ठंडई का रसपान सभी को कराया।

इसके बाद अटल जी 1994 में तब दीक्षित परिवार में आए जब उनके भाई के ससुर मथुरा प्रसाद दीक्षित का निधन हुआ था। यह परिवार मूलतः इटावा का रहने वाला है और चार पीढ़ियों पहले गोरखपुर में आकर बस गया था। अटल जी को परिवार के लोगों ने पहले की तरह हाथों हाथ लिया। उनके सम्मान में वह सब कुछ परोसना चाहा जो अटल जी को पसंद था, लेकिन अटल जी बेहिचक परिवार के बीच अपनी पसंद का इजहार किया और कढ़ी- चावल बनवा कर खाए। 

इस दौरान उन्होंने इस घर की एक बहू से अपना जूठा हाथ भी नहीं धुलवाया था और कहा था कि मैं सारा काम खुद करता हूं। इसलिए मेरा हाथ मुझे ही धोने दे। परिवार के लोग अटल जी के सरलता राजनीतिक और पारिवारिक मामले में स्पष्ट सोच के भी मुरीद है।

दीक्षित जी कहते हैं कि अटल जी ने बच्चों से कहा खुद को इस लायक बनाओ कि समाज तुम्हें खुद हाथों-हाथ ले ले। देश के प्रधानमंत्री हुए तो इस परिवार ने कभी भी उनसे किसी चीज़ की उम्मीद नहीं की, क्योंकि वह अटल जी के विचारों से वाकिफ थे। उन्हें अटल जी का यह संदेश, मेहनत ही इंसान को आगे ले जाता है,पहचान दिलाता है, इसलिए खुद की मजबूती ही जरूरी है।  और उनकी अभी  अपनों के बीच से जाने का दुःख समेटे हुए है।

संबंधित समाचार

:
:
: